Bhopal Cheating Case : दो दर्जन प्रकरणों का जालसाज गिरफ्तार

Share

Bhopal Cheating Case : भूमाफिया की मुहिम में दबोचा गया रमाकांत विजयवर्गीय

Bhopal Cheating Case
नवीन पुलिस नियंत्रण कक्ष में आयोजित पत्रकार वार्ता में गिरफ्तार रमाकांत विजयवर्गीय

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (MP CM Shivraj Singh Chouhan) ने पिछले दिनों कानून—व्यवस्था को लेकर बैठक आयोजित की थी। इस बैठक में आदेश दिए गए थे कि भूमाफिया (Bhopal Land Mafia) के खिलाफ कार्रवाई की जाए। इस मुहिम में भोपाल पुलिस ने कुख्यात भूमाफिया रमाकांत विजयवर्गीय (Ramakant Vijayvargiya) को दबोच लिया है। उस पर 20 हजार रुपए का इनाम (Bhopal Wanted Cheater) भी था। उसने दो दर्जन से अधिक लोगों को प्लॉट का सपना दिखाकर धोखा (Bhopal Cheating Case) दिया था। आरोपी को सायबर क्राइम की मदद से गिरफ्तार किया गया है।

फर्जी नाम से बनाए दस्तावेज

भोपाल रेंज के आईजी और एडीजी उपेन्द्र जैन (ADG Upendra Jain) ने पत्रकारों को रमाकांत विजयवर्गीय (Cheater Ramakant Vijaywargiya) के पुराने कारनामों की फेहरिस्त बताई। एडीजी ने बताया जालसाजी, चेक बाउंस समेत करीब 29 मुकदमे (Bhopal Fraud Case) दर्ज है। वह अदालत की कई पेशी से भी गैरहाजिर चल रहा था। इसलिए उसके खिलाफ कई गिरफ्तारी वारंट जारी हैं। रमाकांत विजयवर्गीय पिता बापूलाल विजयवर्गीय उम्र 58 साल फिलहाल स्कीम—12 विजय नगर इंदौर (Indore News) में रह रहा था। एडीजी ने बताया कि उसको तब दबोचा गया जब वह भोपाल से इंदौर जा रहा था। रमाकांत इंदौर में रामकुमार व्यास (Fake Ramkumar Vyas) बनकर रह रहा था।

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से पूर्व मंत्री अजय विश्नोई ने पूछ लिए ऐसे चूभने वाले सवाल

हमारी कोशिश लोगों का पैसा मिले

एडीजी जैन ने कहा कि अभी मामला शुरुआती जांच में हैं। आरोपी डिस्ट्रिक इंफ्रास्ट्रक्चर प्रायवेट लिमिटेड (District Infrastructure Private LTD) नाम से फर्म बनाई थी। रमाकांत ने 2005 में ही करीब 20 करोड़ रुपए का झांसा (Bhopal Ramakant Vijaywargiya Fraud Case) लोगों को दे चुका है। उसके खिलाफ भोपाल में गांधी नगर, कोहेफिजा समेत कई अन्य थानों में जालसाजी के मुकदमे दर्ज है। रमाकांत विजयवर्गीय की संपत्ति का पता लगाया जा रहा है। ताकि उसको विधिवत जब्त करके अदालत की मदद से नीलाम करके पीड़ितों को रकम लौटाई जाए।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Drowning Case: बारह लड़कियों में से दो सगी बहनें डूबी

रमाकांत के साथियों को क्लीनचिट

एडीजी उपेन्द्र जैन से पत्रकारों ने सवाल पूछे कि रमाकांत विजयवर्गीय जैसे कई बड़े जालसाज खुलेआम घुम रहे हैं। कामधेनु समेत कई अन्य गृह निर्माण समितियों के पदाधिकारी जो आरोपी है जो कागजों में फरार चल रहे हैं। इधर, रमाकांत विजयवर्गीय से जुड़े मामले (Bhopal Cheating Case) के कई अन्य आरोपियों को क्लीनचिट दिए जाने पर एडीजी कोई ठोस जवाब नहीं दे सके। शहजाद खान, गोपी नैनी और अर्चना विजयवर्गीय भी थे। शहजाद रिटायर आईएएस है। वहीं अर्चना आरोपी रमाकांत की पत्नी है। हालांकि उसने तलाक ले लिया है। लेकिन, बताया जाता है कि यह तलाक सिर्फ कागज पर लिया गया है।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश पुलिस की यह बर्बरता देखकर अच्छे काम करने वाले पुलिसकर्मियों का भी मनोबल कम हो जाता है

अंसल फिर चर्चा में आया

राजधानी का अंसल अपार्टमेंट (Bhopal Ansal Apartment) पिछले एक महीने से चर्चा में बना है। यहां रहने वाले प्यारे मियां की वजह से यह अपार्टमेंट सुर्खियों में आया था। प्यारे मियां (Pyare Miyan Case) भी कोहेफिजा थाना पुलिस के पास रिमांड पर है। वहीं रमाकांत विजयवर्गीय भी अंसल अपार्टमेंट में रहता था। रमाकांत की वजह से अपार्टमेंट फिर सुर्खियों में आया है। हालांकि यह संयोग ही है कि दोनों मामलों के आरोपी यहां रहते है। इस अपार्टमेंट में कई बड़े रसूखदारों के बंगले हैं।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की लेडी नटवरलाल जिसने तीन साल में झांसा देकर कमा लिए दो करोड़

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!