Bhopal Cop Negligence: तस्कर पर तरस खाने वाले टीआई भी नपे

Share

Bhopal Cop Negligence: चौबीस घंटे के भीतर एक थाने में 8 पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों की जिम्मेदारियां बदली

PS Bagsevnia
फाइल फोटो — थाना बागसेवनिया, भोपाल

भोपाल। मध्य प्रदेश के सतना जिले के कुख्याता गांजा तस्कर (Satna Drug Smuggler) को राजधानी भोपाल के बागसेवनिया थाना पुलिस ने पकड़ा था। जिसके बाद पुलिस ने उसको डेढ़ घंटे के भीतर जमानत पर रिहा (Bhopal Cop Negligence) भी कर दिया था। यह खुलासा कुख्यात तस्कर अनूप जायसवाल उर्फ जस्सा (Anup [email protected]) ने किया था। जिसकी रिपोर्ट भोपाल डीआईजी सिटी इरशाद वली (DIG City Irshad Wali) के पास भी पहुंची। जिसके बाद चौबीस घंटों के भीतर में दो अलग—अलग आदेशों में बागसेवनिया थाने की प्रशासनिक सर्जरी (Bhopal Cop Against Smuggler Action) डीआईजी सिटी ने कर दी। पहले चरण में एसआई समेत 7 पुलिस​कर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया। वहीं इस आदेश के बाद तस्कर पर तरस खाने वाले थाना प्रभारी को भी चलता कर दिया गया।

क्या हुआ जिस पर मचा कोहराम

जानकारी के अनुसार गांजा तस्कर अनूप जायसवाल उर्फ जस्सा को अलकापुरी इलाके से 22 जुलाई को दबोचा गया था। यहां उसके साथ दो महिलाएं भी मिली थी। आरोपियों के खिलाफ आबकारी एक्ट के साथ—साथ सट्टा एक्ट (Bhopal Satta Act) की भी कार्रवाई की गई थी। इसी कार्रवाई में लापरवाही बरतने के आरोप बागसेवनिया थाना पुलिस पर लगे थे। यह आरोप तब लगे जब सतना पुलिस ने अनूप जायसवाल को 26 जुलाई को दबोचा। उससे सतना (Satna Crime News) पुलिस ने चार वाहनों में 94 किलो से अधिक गांजा, दो कट्टे, एक पिस्टल के अलावा तीन जिंदा कारतूस भी बरामद किए थे।

यह भी पढ़ें:   भोपाल में 10 दिन का लॉकडाउन, जानिए कैसा रहेगा स्वरूप

यह भी पढ़ें: काम में इतने व्यस्त थे डॉक्टर कि वह लाश को मर्चुरी में रखने के बाद ही भूल गए

पहले इनकी सर्जरी

सतना (Satna Hindi News) में गिरफ्तार अनूप जायसवाल उर्फ जस्सा पर 50 हजार रुपए का इनाम भी था। इस मामले में कई दिनों से सवाल दबी जुबान में पूछे जा रहे थे। लेकिन, हल्ला तब मचा जब डीआईजी सिटी इरशाद वली ने बुधवार को बागसेवनिया थाने के सात पुलिस अफसर और कर्मचारियों को लाइन हाजिर कर दिया। इनमें एसआई गजराज सिंह (SI Gajraj Singh), हवलदार धर्मेंद्र मिश्रा (HC Dharmendra Mishra), कांस्टेबल सुरेश विश्वकर्मा, राजेश निकुंब, पंकज शर्मा (Pankaj Sharma), दीपक और वर्षा गौतम (Varsha Gautam) है। इन कर्मचारियों को लाइन हाजिर करने से पहले एएसपी क्राइम ब्रांच गोपाल धाकड़ (ASP Crime Gopal Dhakad) ने प्राथमिक जांच की थी। जांच रिपोर्ट एएसपी को सौंपी गई थी।

दूसरी सर्जरी में टीआई नपे

तस्कर पर तरस खाने वाले टीआई शैलेन्द्र शर्मा (TI Shailendra Sharma) से भी इस मामले में डीआईजी सिटी ने सफाई मांगी थी। सफाई में शर्मा की बात से डीआईजी सिटी सहमत नजर नहीं आए। आखिरकार उन्होंने शर्मा को प्रभारी की कुर्सी से हटा दिया। इस संबंध में आदेश भोपाल साउथ एसपी साई कृष्णा थोटा ने जारी किए। एसपी ने अपने आदेश में टीटी नगर थाने के एसआई मनोज दवे (SI Manoj Dave) को थाने की कमान सौंप दी है। हालांकि तत्कालीन प्रभारी शैलेन्द्र शर्मा को लेकर आदेश जारी नहीं किया।

यह भी पढ़ें : पुलिस की बर्बरता के कारण एक बूढ़ा भर लॉक डाउन में हुआ खाने—पीने से मोहताज

यह भी पढ़ें:   Bhopal Molestation Case: पिकनिक में खिचाई फोटो बनी छात्रा के लिए मुसीबत

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!