MP MCU Scam News: कुठियाला की क्लोजर रिपोर्ट को दी जा सकती है चुनौती, जानिए कैसे

Share

MP MCU Scam News: ईओडब्ल्यू की अदालत में रिपोर्ट को लेकर होगी पेशियां, देने होंगे जांच अफसर को जवाब

MP MCU Scam News
File Image

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में खुले पत्रकारिता (MP MCU Scam News) के पहले विश्वविद्यालय के कुलपति रहे प्रोफेसर बृज किशोर कुठियाला (Professor Brij Kishore Kuthiyala) के आरोपों की क्लोजर रिपोर्ट आर्थिक अपराध अन्वेष्ण ब्यूरो (Bhopal EOW News) ने अदालत में पेश कर दी है। बेहद गुपचुप तरीके से पेश हुई इस रिपोर्ट को लेकर ईओडब्ल्यू के अफसर कठघरे में हैं। हालांकि क्लोजर रिपोर्ट (Kuthiyala Closer Report) पर अंतिम मुहर लगना अभी बाकी है। इस रिपोर्ट को हाईकोर्ट में भी चुनौती दी जा सकती है। इससे पहले ईओडब्ल्यू की अदालत में क्लो​जर रिपोर्ट की पेशियां होना बाकी है। संतुष्ट होने पर ही कोर्ट ईओडब्ल्यू की क्लोजर रिपोर्ट को स्वीकार करेगा।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में माफिया को दफनाने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री को राजधानी के इन हालातों पर सवाल अफसरों से जरुर पूछना चाहिए

संघ के बेहद करीबी रहे कुठियाला

MP MCU Scam News
माखनलाल विवि का भवन—फाइल फोटो

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय (Makhanlal Chaturvedi University Ghotala) में प्रोफेसर बीके कुठियाला दो बार कुलपति रहे हैं। उस वक्त प्रदेश में भाजपा सरकार हुआ करती थी। कुठियाला आरएसएस के बेहद करीबी रहे हैं। प्रोफेसर कुठियाला मूलत: कांगड़ा जिले के रहने वाले हैं। पत्नी मधु है जबकि बेटा अमेरिका में शिक्षा ग्रहण कर रहा है। वे हिसार की यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे। हरियाणा पहुंचने के बाद उन्हें काफी सफलता मिलती चली गई। जिसके बाद उन्होंने कभी पीछे पलटकर नहीं देखा।

यह भी पढ़ें: अपनी सफलता के लिए कुठियाला कभी कांग्रेस तो कभी भाजपा का दामन थामकर आगे बढ़ते रहे

यह भी पढ़ें:   Jabalpur Cyber Crime: मराठी लड़कियां होती थी निशाने पर जानिए क्यों

कांग्रेस सरकार के समय हुई एफआईआर

MP MCU Scam News
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ— फाइल फोटो

प्रोफेसर कुठियाला के खिलाफ कांग्रेस सरकार आते ही शिकंजा कसना शुरु हुआ था। माखनलाल डिप्टी रजिस्ट्रार दीपेन्द्र सिंह बघेल (Deependra Singh Baghel) के जरिए पूरे अनियमितता को लेकर रिपोर्ट बनाई गई थी। यह रिपोर्ट तत्कालीन जनसंपर्क में आयुक्त रहे पी नरहरि (P.Narhari) के  रहते बनी थी। यह रिपोर्ट एफआईआर के लिए ईओडब्ल्यू को भेजी गई थी। एफआईआर में आरोप था कि कुठियाला ने मनमाफिक तरीके से नियुक्ति, यूटीडी सेंटर अलॉटमेंट, भवन निर्माण से लेकर पुस्तक खरीदने और लिखने में वित्तीय अनियमितता की। उस वक्त प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Former CM Kamal Nath) की सरकार हुआ करती थी।

यह भी पढ़ें: कुठियाला ने माखनलाल में रहते हुए कैसे बांटी थी रकम, अब कैसे लग सकता है क्लोजर

समय के साथ अफसर भी बदले

कांग्रेस सरकार जाते ही कुलपति दीपक तिवारी (Deepak Tiwari) को इस्तीफा देना पड़ा था। इतना ही नहीं स्पेशल डीजी ईओडब्ल्यू केएन तिवारी (Former DG KN Tiwari) का तबादला हुआ। केएन तिवारी फिलहाल मार्च, 2020 में सेवानिवृत्त हो गए हैं। उन्होंने कुठियाला की फरारी की उदघोषणा भी कराई थी। इसके अलावा जांच रिपोर्ट बनाकर देने वाले माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता वि​श्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार दीपेन्द्र सिंह बघेल का रीवा स्थित माखनलाल में तबादला हो गया है। एसपी अरुण मिश्रा (SP Arun Mishra) का भी भोपाल ईओडब्ल्यू से तबादला हो गया है। उनकी जगह अब राजेश मिश्रा (Rajesh Mishra) एसपी हैं।

यह है तकनीकी पेंच जिसमें रियायत नहीं

MP MCU Scam News
मीडिया के सवालों से बचते पूर्व कुलपति बृजकिशोर कुठियाला- File Image

प्रोफेसर कुठियाला (Kuthiyala Scam) को लेकर ईओडब्ल्यू ने कोर्ट में कहा है कि उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले। ऐसा कहने पर कोर्ट मानेगा नहीं। बल्कि वह तकनीकी बिंदुओं की पड़ताल करेगा। इसके लिए वह अदालत में सुनवाई भी होगी। प्रकरण में क्लोजर रिपोर्ट या फिर चार्जशीट दाखिल दंप्रसं 173 के तहत दाखिल होती है। कोर्ट ही क्लोजर रिपोर्ट पर फैसला देता है। यदि पक्ष संतुष्ट नहीं है तो उसके लिए हाईकोर्ट में जाकर चुनौती देने का भी विकल्प होता है। यह तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा कि क्लोजर रिपोर्ट कितनी सही है अथवा दबाव में तैयार की गई है।

यह भी पढ़ें:   मारा या गिरा में उलझी युवक की मौत की कहानी

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!