Bhopal Suicide Case: नाबालिग समेत दो व्यक्तियों ने सदमे में लगाई फांसी

Share

Bhopal Suicide Case: मंझले बेटे के लापता होने और पति की मौत के बाद से महिला चल रही थी परेशान

Bhopal Suicide Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। नाबालिग समेत दो व्यक्तियों की संदिग्ध परिस्थितियों (Bhopal Suspicious Death) में मौत हो गई। नाबालिग ने फांसी (Bhopal Suicide Case) लगाई है। जबकि महिला ने जहर खाकर खुदकुशी की है। दोनों मामले मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के हैं। नाबालिग कक्षा बारहवीं की परीक्षा की तैयारियों को लेकर परेशान था। इधर, एक अन्य व्यक्ति ने भी जहर खाने से मौत हुई है।

पंद्रह साल पहले गुम हो गया था बेटा

जहांगीराबाद थाना पुलिस ने बताया कि वैजयंती बाई (Vaijayanti Bai) पति मानसिंह उम्र 57 निवासी अहीरपुरा बरखेड़ी की 3 नवंबर की सुबह साढ़े 10 बजे मौत हो गई। वैजयंती ने 28 अक्टूबर को जहर खाया था। जांच अधिकारी एसआई संजय शुक्ला (SI Sanjay Shukla) ने बताया कि पंद्रह साल पहले वैजयंती का मंझला बेटा लापता हो गया था। इसके बाद 2003 में पति की मौत हो गई। मौत के बाद 2014 में दूसरी शादी की थी। इस शादी के बाद वह अक्सर पति की मौत और मंझले बेटे के खैर खबर को लेकर परेशान रहती थी। इसी परेशानी में वह सदमे में चली गई। ऐसा परिजनों ने दावा करते हुए अपने बयान पुलिस को दिए हैं। पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है।

तैयारी को लेकर चल रहा था परेशान

Bhopal Suicide Case
सांकेतिक चित्र

इधर, आत्महत्या का दूसरा मामला अयोध्या नगर थाना क्षेत्र का है। यहां एन—सेक्टर अयोध्या नगर निवासी मयूर सोनवाने (Mayur Sonwane) पिता उमेश सोनवानी उम्र 16 साल ने फांसी (Bhopal Hanging Case) लगा ली। घटना 03—04 नवंबर की दरमियानी रात की है। मयूर के पिता साप्ताहिक हाट में प्लास्टिक का सामान बेचते हैं। माता—पिता बाजार गए थे। जांच अधिकारी एसआई आरएन मालवीय (SI RN Malviya) ने बताया कि मयूर ने कक्षा बारहवीं की इस साल फॉर्म भरा था। वह परिवार का इकलौता बेटा भी था। मयूर को इस बात की चिंता थी कि वह कक्षा बारहवीं उत्तीर्ण कर पाएगा अथवा नहीं। इसी सदमे में उसने फांसी लगाई है ऐसा परिजनों ने बयान में बताया है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Lock Down Effect: घर में बैठे—बैठे मनोरोगियों को सर्वाधिक खतरा

यह भी पढ़ें: इस वर्दीधारी अफसर को ध्यान से देख लीजिए, भोपाल के आधा दर्जन से अधिक पीड़ित परिवारों को है इसकी तलाश, जानिए क्यों

जहर खाने से मौत

इसके अलावा कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित गूर्जरपुरा निवासी नेमी चंद्र जैन (Nemichandra Jain) पिता मिश्रीलाल जैन उम्र 80 साल की मौत हो गई। नेमी चंद्र ने 3 नवंबर की शाम साढ़े चार बजे जहर खाया था। जांच में पता चला है कि नेमी चंद्र कई बीमारी से जूझ रहे थे। पत्नी को लकवे की बीमारी भी है। उनके पांच बेटी है जिनकी शादी वह कर चुके हैं। घर में देखरेख करने वाला कोई नहीं था। इसलिए वह काफी परेशान चल रहे थे। जांच अधिकारी एएसआई फूल सिंह (ASI Phool Singh) ने बताया कि पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। पीएम रिपोर्ट के बाद जांच की आगे दिशा तय की जाएगी।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!