Bhopal Cheating Case: दिल्ली के ‘एसीपी’ ने भोपाल में की करोड़ों की ठगी, पत्नी की आड़ में ऐसे लगाता था चूना

Share

Bhopal Cheating Case: पेट्रोल पंप दिलाने का झांसा देकर ऐंठे 30 लाख रुपए, दर्जनों लोगोें को लगाई चपत

Bhopal Cheating Case
पुलिस वर्दी में तुषार सिंह मलिक

भोपाल। भारतीय पुलिस सेवा के कथित अधिकारी ने झांसा देकर (Bhopal Cheating Case) दर्जनों लोगों को करोड़ों रुपए की चपत लगा दी। इस अफसर के झांसे में सेना के जवान की पत्नी भी आ गई थी। उसको पेट्रोल पंप दिलाने का झांसा देकर करीब 30 लाख रुपए की मोटी रकम ऐंठ ली गई। घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की है। इस मामले की शिकायत एसपी साउथ साई कृष्णा थोटा (SP South Sain Krishna Thota) से की गई थी। झांसा देने में अफसर की पत्नी भी शामिल हैं। इस दंपत्ति ने घर के ड्रायवर से लेकर लॉड्री दुकान चलाने वाले को भी ठगने से नहीं बख्शा।

स्कूल के बहाने हुई पहचान

Bhopal Cheating Case
तुषार सिंह मलिक की पत्नी सोनाली मलिक

इस मामले की शिकायत केपीटल ग्रीन कॉलोनी बंगरसिया निवासी कीर्ति वराडे (Kirti Varade) ने की थी। कीर्ति के पति संतोष वराडे 117 बटालियन में हवलदार हैं। उनकी तैनात जम्मू—कश्मीर है। पति पिछले दिनों छुट्टी पर घर आए थे। तब इस फर्जीवाड़े (Bhopal Cheating Case) का खुलासा हुआ। कीर्ति ने पति को बताया कि सेंट फ्रांसिस स्कूल (St Fransis School) में उसकी बेटी पढ़ती है। जिसका क्लासमेट करण सिंह (Karan Singh) है जो होमवर्क लेने के लिए एक दिन माता—पिता के साथ घर आया था। करण सिंह के पिता तुषार सिंह (Tushar Singh Malik) आकृति ग्रीन्स सलैया इलाके में रहता है।

यह भी पढ़ें: पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ जिन्होंने जीत की रचना का चक्रव्यू​ह बनाया लेकिन आखिरी वक्त में यह कर दिया

ऐसे फंसते चले गए

Bhopal Cheating Case
इस कुटील मुस्कान के पीछे छुपे थे राज

कीर्ति वराडे (Kirti Varade) ने बताया कि पहली मुलाकात जुलाई, 2018 में हुई थी। दोनों परिवार में काफी मेलजोल बढ़ गया। परिवार एक—दूसरे के घर आने जाने लगा। इसी दौरान तुषार सिंह मलिक की पत्नी सोनाली मलिक (Sonali Malik) ने कहा कि उसके पति की दिल्ली में अच्छी पहचान है। वह चाहे तो पति को मिलेट्री कोटे से पेट्रोल पंप दिला सकते हैं। पत्नी झांसे में आ गई और उसने शुरु में पांच लाख रुपए का भुगतान भी किया। जिसके बाद उसको मेल भी आए थे। तुषार सिंह मलिक ने हरदा (Harda) खंडवा रोड पर कंपनी का संचालित पेट्रोल पंप भी दिखाया था। जिसको चलाने का लायसेंस लेने के लिए कीर्ति वराडे तैयार हो गई।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case : खुदकुशी के तीन संगीन तरीके

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में इस नेता ने बोला था आइटम फिर क्या हुआ देखिए

रिश्वत देने के नाम पर ली रकम

Bhopal Cheating Case
जालसाज तुषार सिंह मलिक

तुषार सिंह मलिक ने बताया कि सरकार पेट्रोल पंप 99 साल की लीज पर दे रही है। इसलिए चैक से अलग—अलग किस्तों में क्रमश: 8 लाख और 19 लाख रुपए का भुगतान किया गया। यह रकम तुषार ने यह बोलकर ली थी कि दिल्ली के अफसर को वह रिश्वत में देगा। फर्जीवाड़े (Bhopal Fake Petrol Pump Cheating Case) की भनक लगने के बाद पति के साथ पुलिस अफसरों के सामने पहुंचकर कीर्ति ने शिकायत की। जिसकी जांच मिसरोद थाना पुलिस को सौंप दी गई है। तुषार सिंह मलिक ने कीर्ति के अलावा घर के नौकर जितेंद्र दांगी (Jitendra Dangi) और लॉड्री चलाने वाले प्रभु नाहर (Prabhu Nahar) के साथ भी धोखाधड़ी की। तुषार सिंह मलिक परिवार के साथ सलैया स्थित आकृति ग्रीन्स में रहता था।

दूसरी पत्नी के कारण गई पुलिस की नौकरी

उसके जालसाजी (Bhopal Delhi ACP Cheating Case ) के शिकार लोग जब उसके घर आने—जाने लगे और पैसा मांगने लगे तो रातोंरात पूरा परिवार वहां से फरार हो गया। तुषार सिंह लोगों को दिल्ली पुलिस का बर्खास्त एसीपी (Delhi Suspended ACP News) बताता था। वह कहता था कि उसकी पहली पत्नी उर्मिला मलिक (Urmila Malik) थी। जिसकी शिकायत के चलते उसको नौकरी से हाथ धोना पड़ा। वह यह भी कहता था कि उसकी भर्ती खेल कोटे से हुई थी। तुषार सिंह ने कीर्ति वराडे के अलावा बसंत साहू (Basant Sahu), रमेश सिंधी (Ramesh Sindhi) समेत कई अन्य लोगों से लाखों रुपए की मोटी रकम ऐंठ चुका है। मिसरोद थाना प्रभारी निरंजन शर्मा (Niranjan Sharma) ने आवेदन प्राप्त होने की पुष्टि करते हुए कहा कि अभी मामले की जांच जारी है। फिलहाल आरोपियों का पता नहीं चला है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: तीन व्यक्तियों ने लगाई फांसी
Bhopal Cheating Case
यह है वह आवेदन जिसकी जांच हो रही है

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में निजी अस्पताल जो किसी माफिया से कम नहीं, यकीन न हो तो यह कहानियां पढ़ लीजिए

नोट: तुषार सिंह और उसके परिवार की तस्वीर अलग—अलग व्यक्तियों ने उपलब्ध कराई है, जो उनके झांसे के शिकार बने हैं। द क्राइम इंफो इन तस्वीरों की पुष्टि नहीं करता है। सभी लोगों का आरोप है कि इन लोगों ने कई अन्य लोगों से धोखा किया है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!