Bhopal Short Encounter : पुलिस की कहानी अच्छी लगती है पर सच्ची नहीं लगती!

Share

Bhopal Short Encounter : हत्या के मामले में फरार चल रहे 20 हजार रुपए के इनामी बदमाश शेखर लोधी को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार करने का दावा

Bhopal Short Encounter
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के रातीबड़ इलाके में शॉर्ट एनकाउंटर में जख्मी बदमाश शेखर लोधी पुलिस घेरे के बीच

भोपाल। उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुए विकास दुबे एनकाउंटर (Gangster Vikas Dubey Encounter) मामले की गूंज आज भी सुप्रीम कोर्ट में सुनाई दे रही है। इस इनकाउंटर पर जो भौतिक तथ्य और उसको ले जाते वक्त मीडिया को रोकने से लेकर कई अन्य तमाम बिंदु पर सवाल खड़े हुए थे। यह मामला अभी ठंडा नहीं हुआ इसी बीच एक शॉर्ट एनकाउंटर (Bhopal Short Encounter) की खबर आ गई। यह शॉर्ट एनकाउंटर मध्य प्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) के रातीबड़ इलाके का है। बदमाश शेखर लोधी (Shekhar Lodhi Short Encounter Case) बताया जा रहा है जो इतना कुख्यात बदमाश तो नहीं था लेकिन, इतना भी छोटा नहीं था कि उसकी हिस्ट्रीशीट या फिर गुंडा लिस्ट में नाम नहीं जुड़ सकता। ऐसे ही दर्जनों सवालों से घिरे होने के बावजूद बड़े सलीके से भोपाल पुलिस के अफसर शॉर्ट एनकाउंटर के जवाब दे रहे थे।

यह भी पढ़ें : चिरायु की छत का यह वीडियो आपने देख लिया तो यकीन है कि आपके जेहन से कोरोना का खौफ खत्म हो जाएगा

मंडीदीप से सीहोर का रास्ता

भोपाल में यह शॉर्ट एनकाउंटर (Bhopal Short Encounter) बुधवार सुबह साढ़े छह बजे से लेकर 7 बजे के बीच अंजाम दिया गया। एसपी साउथ साई कृष्णा थोटा (IPS Sain Krishna Thota) ने संवाददाताओं को बताया कि शेखर लोधी जो उत्तर भोपाल क्षेत्र के छोला मंदिर थाना क्षेत्र का रहने वाला है फरार चल रहा था। उसकी हत्या के एक मामले में तलाश थी। शेखर लोधी (Gangster Shekhar Lodhi) मंडीदीप से सीहोर जाने वाला है। यह पुख्ता सूचना पुलिस के पास थी। इसलिए चैकिंग पाइंट लगाया गया था। उसी पाइंट पर उसका सामना जब पुलिस से हुआ तो उसने बाइक की रफ्तार बड़ा दी। उसको अगले चैकिंग पाइंट पर घेर लिया गया।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Molestation Case: छात्रा को राह चलते दी धमकी

दोनों तरफ से 11 गोलियां चली

Bhopal Short Encounter
शॉर्ट मुठभेड़ की जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक दक्षिण भोपाल साई कृष्णा थोटा और साथ में हैं एएसपी रजत सकलेचा

एसपी थोटा ने कहा कि आरोपी शेखर लोधी ने अपने कट्टे से करीब 6 फायर किए। वहीं पुलिस को पांच राउंड गोलियां चलानी पड़ी। शेखर लोधी को पैर पर गोली मारने के बाद दबोच लिया गया। फिर उसको हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शेखर लोधी हत्या (Chhola Murder Case) के मामले में फरारी कहा काट रहा था यह अभी सामने नहीं आया है। शेखर लोधी पर 20 हजार रुपए (Bhopal Reward Criminal) का भी इनाम था। उसके खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, मारपीट, रंगदारी समेत करीब डेढ़ दर्जन मुकदमे दर्ज है।

यह भी पढ़ें : जहरीला अदालत में बोला मैंने कुछ नहीं किया मुझे तो पुलिस ने फंसाया

पुलिस पर हमला नहीं कर सकता

Bhopal Short Encounter
हमीदिया अस्पताल में स्ट्रेचर में जाता शेखर लोधी

शेखर लोधी को शॉर्ट एनकाउंटर के बाद दबोचने की खबर उसके परिवार को भी लगी। परिवार ने दावा किया है कि उसके खिलाफ कई मुकदमे दर्ज हुए है। लेकिन, वह पुलिस पर हमले जैसी बात नहीं सोच सकता। परिवार ने कहा कि जिस व्यक्ति से उनकी रंजिश हैं पुलिस उनके खिलाफ सख्ती ​नहीं दिखाती। हालांकि पुलिस ने शेखर लोधी के परिवारों के दावों को झूठा करार दिया है।

उपलब्धि रातीबड़ टीआई के नाम

शार्ट एनकाउंटर करने वाले रातीबड़ थाने के प्रभारी सुदेश तिवारी (TI Sudesh Tiwari) है। वे इससे पहले अशोका गार्डन और उससे पहले बजरिया और छोला मंदिर थाना क्षेत्र में भी रहे। उसी क्षेत्र में शेखर लोधी रहता था। उसके खिलाफ थाने में मारपीट, रंगदारी, एनडीपीएस समेत कई अन्य मामले दर्ज थे। छोला मंदिर थाने में ही शेखर लोधी पर डेढ़ दर्जन प्रकरण दर्ज थे। स्वाभाविक है इन प्रकरणों की वजह से उसकी गिरफ्तारी से लेकर जेल पहुंचाने की कार्रवाई हुई थी। लेकिन, अब सुदेश तिवारी के रातीबड़ इलाके में ही शॉर्ट एनकाउंटर होने पर सवाल पैदा हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   MP IPS Meet: भविष्य की पुलिस हथियारों की बजाए आधुनिक तकनीक पर फोकस करे: मुख्यमंत्री

फिर सुर्खियों में आए टीआई

Bhopal Short Encounter
शेखर लोधी का कट्टा जिससे 6 गोलियां पुलिस पर चलाई थी

सुदेश तिवारी को एनकाउंटर स्पेशलिस्ट (Bhopal Encounter Specialist Cop) भी कहा जाता है। टीआई अपने काम के कारण हमेशा चर्चा में बने रहते हैं। सुदेश तिवारी की पुलिस विभाग में भर्ती सिपाही से हुई थी। इनकाउंटर में हुए प्रमोशन के बाद वे आज इस मुकाम पर पहुंच गए। सुदेश तिवारी एक पखवाड़े पहले भी सुर्खियों में आए थे। इन्हीं के इलाके में प्यारे मियां के मामले का भंड़ाफोड़ हुआ था। रातीबड़ थाने में ही जीरो पर मुकदमा दर्ज करके शाहपुरा थाने पहुंचाया गया।

गुंडे के कारनामें याद नहीं

शेखर लोधी के संबंध में सीएसपी निशातपुरा अनिल त्रिपाठी (CSP Anil Tripathi) से प्र​तिक्रिया लेते हुए अपराधों की जानकारी पूछी गई। वह कोई ठोस तरीके से जवाब नहीं दे सके। सूत्रों ने बताया शेखर लोधी का थाने में फोटो, फिंगर से लेकर दूसरा रिकॉर्ड भी नहीं था। जब यह सवाल सीएसपी से पूछा गया तो उन्होंने दावा किया शेखर लोधी गुंडा सूची में शामिल है।

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश दो साल से यौन शोषण के मामलों को लेकर हो रहा है बदनाम पीछे सरकारी अफसर भी नहीं

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!