Bhopal Kidnapping Case: अपनी कार छुड़ाने बदमाशों को दी सुपारी

Share

Bhopal Kidnapping Case: घेराबंदी कर रही पुलिस को चकमा देकर फरार हुए बदमाश

Bhopal Kidnapping Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। राजधानी भोपाल में एक व्यक्ति के अपहरण (Bhopal Kidnapping Case) करने का चौका देने वाला मामला सामने आया हैं। घटना मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Apaharan Kand) की है। पीड़ित के अपहरण के लिए किसी तीसरे आदमी ने बदमाशों को सुपारी दी थी। हालांकि इस संंबंध में अभी आधिकारिक पुष्टि होना बाकी है। अपहरण की भनक लगने पर पुलिस ने आरोपियों की घेराबंदी भी की। लेकिन, वह चकमा देने में कामयाब रहे। पुलिस ने चार आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

एक साल पहले हुआ मामला शुरू

कोतवाली थाना पुलिस ने बताया विश्वनाथ मालवीय (Vishawnath Malviya) पिता सुभाष उम्र 30 साल निवासी पुराना कबाड़खाना थाना क्षेत्र का रहने वाला है। विश्वनाथ मालवीय ने बुधवार शाम साढ़े छह बजे उसके अपहरण का मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने विश्वनाथ की शिकायत पर आरोपी पप्पू चटका, हर्षवर्धन (Harshwardhan), प्रताप सिंह राजपूत (Pratap Singh Rajput) और अन्य एक आरोपी के खिलाफ धारा 365/294/323/506/34 (अपहरण करना, गाली देना, मारपीट करना, धमकाने और एक से अधिक आरोपी) के तहत मुकदमा दर्ज किया है। जांच अधिकारी एसआई इंदल सिंह (SI Indal Singh) ने बताया विश्वनाथ चार पहिया वाहनों का व्यापार करता है। विश्वनाथ का दोस्त रवि पंजवानी नाम का दोस्त है। रवि भी विश्वनाथ के साथ पुरानी गाड़ियों को बेचने—खरिदने का काम करता है। एक साल पहले रवि पंजवानी (Ravi Panjvani) विश्वनाथ के घर डिजायर लेकर आया।

डिजायर रखकर आई—20 लेकर हुआ फरार

Bhopal Kidnapping Case
सांकेतिक चित्र

पुलिस को प्राथमिक जांच में पता चला है कि डिजायर गाड़ी रवि पंजवानी की नहीं थी। वह दिव्य प्रताप सिंह (Divya Pratap Singh) की कार है जो अशोक नगर में रहता है। गाड़ी लाने के बाद रवि ने विश्वनाथ के घर डिजायर गाड़ी खड़ी की और विश्वनाथ की आई—20 गाड़ी (Bhopal Car Kidnapping) लेकर फरार हो गया। यह वाक्या एक साल पहले हुआ था। रवि पंजवानी तभी से गायब हैं। विश्वनाथ ने दोस्ती के कारण इस बात की शिकायत थाने में दर्ज ही नहीं कराई। कुछ समय बाद दिव्य प्रताप को पता चला उसकी डिजायर कार विश्वनाथ के घर पर है। जिसके लिए दिव्य प्रताप ने पप्पू चटका (Pappu Chatka) नाम के बदमाश से संपर्क किया। पप्पू चटका गाड़ियों को छुड़ाने और दिलाने का काम करता है। इसी कारण विश्वनाथ भी उसे पहले से जानता था।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: मुखबिरी के शक में पीटा, एफआईआर के बाद आरोपियों को पीटा

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस कथित एसीपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने में पुलिस को आ रहा है पसीना, जानिए क्यों

अपहरण किया डिजायर लेकर हुआ फरार

दिव्य प्रताप ने आरोपी से संपर्क किया और उसकी गाड़ी छुड़वाने (Kotwali Kidnapping Case) के लिए पप्पू चटका को कीमत अदा करने को बोला। इस बात पर पप्पू चटका उसके तीन दोस्तों के साथ विश्वनाथ के घर पहुंच गया। पप्पू चटके ने दिव्य प्रताप की गाड़ी विश्वनाथ से मांगी तो वह इधर—उधर की बातें करने लगा। जिसे सुनकर आरोपियों ने उसको जबरन अपहरण कर लिया। अपहरण करने के बाद आरोपी उसे भोपाल (Bhopal Kidnapping News) में इधर—उधर घुमाते रहे और मारपीट करते हुए उससे गाड़ी मांगने लगे। अपहरण की शिकायत आस—पास के लोगों ने पुलिस को दी थी। जिसके बाद 100 डायल की गाड़ी से जांच अधिकरी विश्वनाथ भी आरोपी का पीछा किया।

चकमा देकर हुए फरार

Bhopal Kidnapping Case
सांकेतिक चित्र

पप्पू चटका ने विश्वनाथ से बोला वह उसके दोस्त से बोले की डिजायर गाड़ी लेकर वह उसके घर पहुंचे। विश्वनाथ ने उसके दोस्तों से संपर्क करके दिव्य प्रताप की गाड़ी उसके घर से आरोपियों तक पहुंचाने को बोला। गाड़ी मिलते ही आरोपियों ने विश्वनाथ को बीच रास्तें में छोड़ा और गाड़ी लेकर फरार हो गए। जांच अधिकारी ने बताया इस बात की पप्पू चटका को भनक लग गई थी कि उसके पीछे पुलिस पड़ गई है। पुलिस को इस मामले में रवि पंजवानी की भी तलाश है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!