Bhopal Suicide Case: राजश्री फैक्ट्री में लगाई फांसी

Share

Bhopal Suicide Case: दस दिन पहले उत्तर प्रदेश से आया था नौकरी की तलाश में, नहीं मिला कोई सुसाइड नोट

Bhopal Suicide Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। राजश्री पान मसाला की फैक्ट्री में एक युवक ने फांसी (Bhopal Suicide Case) लगा ली। वह नौकरी की तलाश में दस दिन पहले ही उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से भोपाल आया था। नौकरी लगे उसे चार दिन ही हुए थे। घटना मध्यप्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) की है। घटना स्थल से पुलिस को कोई सुसाइड नोट (Bhopal Hanging Case) बरामद नहीं हुआ है। इसलिए मौत की वजह पुलिस के लिए पहेली बनी हुई है।

मामा पहले से करता है नौकरी

अशोका गार्डन थाना पुलिस ने बताया कि रामदेव कठेरिया (Ramdeo Katheriya) पिता दाता राम उम्र 29 साल मूलत: हरदोई जिला उत्तर प्रदेश कनौज (Kannoj News) का रहने वाला था। दस दिन पहले वह रामदेव चचेरा भांजे शिवम (Shivam) के साथ उसके मामा सुधीर के घर आया था। सुधीर के पत्नी—बच्चे लॉक डाउन लगने की वजह से कनौज चले गए थे। सुधीर किराए के मकान में सौभाग्य नगर में रहता था। दोनों नौकरी की तलाश में आए थे। सुधीर (Sudhir) पिछले पांच सालोें से राजश्री फ्रेक्ट्री (Rajshri Factory News) में काम करता है। उसने दोनों की नौकरी वहीं साथ में लगवा दी थी। रामदेव और शिवम 20 अगस्त से नौकरी पर लगे थे।

सीढ़ी पर लटकी मिली लाश

सुधीर ने बताया रविवार शाम 6:30 बजे वह अचानक नजरों से ओझल हो गया था। तब किसी ने ध्यान नहीं दिया। देर तक जब वह नहीं लौटा तो उसे देखने के लिए दूसरी मंजिल पर जहां मसालों के बड़े अवन लगे हैं वहां पहुंचे। वहां अवन पर चढ़ने के लिए लगाई गई सीढ़ी के आठवे पायदान पर रामदेव गमझे से लटका था। शोर मचाकर उसने बाकी के लोगों को बुलाया। फंदे से उतारकर परिजन शुभ अस्पताल (Bhopal Shubh Hospital) पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। अस्पताल से मिली सूचना पर पुलिस ने शाम 7:50 पर मर्ग कायम कर लिया है।

यह भी पढ़ें:   Madhya Pradesh : अब 3 मई के बाद ही खुलेंगी शराब दुकानें, नया आदेश जारी

कारण बनी पहेली

पुलिस ने फिलहाल संभावना जताई है कि रामदेव राजश्री पान मसाला फैक्ट्री (Ramdeo Rajshri Factory Suicide Case) की नौकरी से नाखुश था। वह उत्तर प्रदेश में ही रहना चाहता था। हालांकि इस संबंध में अभी कोई पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं। पुलिस परिजनों के बयान दर्ज करेगी। पुलिस को सुसाइड नोट भी नहीं मिला है। इसलिए पुलिस सिर्फ संभावनाओं के बिंदु पर जांच कर रही है। पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस आगे की जांच करेगी।

यह भी पढ़ें: भोपाल का यह कोचिंग संचालक जिसने जालसाजी के खतरनाक इतिहास रच दिए, अब साख बचाने के लिए रसूख का कर रहे इस्तेमाल

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!