Grih Pravesham Ceremony: पितृपक्ष में पौने दो लाख गरीबों का गृह प्रवेश कार्यक्रम

Share

Grih Pravesham Ceremony: शनिवार को आयोजित कार्यक्रम में वेबिनार के जरिए जुड़े मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री की ऐसी की थी तारीफ

Prime Minister Narendra Modi
नरेन्द्र मोदी, प्रधानमंत्री, भारत सरकार (पीआईबी से साभार)

भोपाल। हिन्दू संस्कृति में पितृपक्ष का विशेष महत्व होता है। इस दौरान कोई मांगलिक कार्य पितरों की याद में नहीं किए जाते है। इन मान्यताओं के परे शनिवार को गरीबों के लिए बने करीब पौने दो करोड़ लोगों के मकानों का गृह प्रवेशम् कार्यक्रम (Grih Pravesham Ceremony) आयोजित किया गया। यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की अगुवाई में आयोजित हुआ। उन्होंने मध्य प्रदेश के तीन हितग्राहियों से भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल (Governor Anandiben Patel), मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan), केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई अन्य नेता मौजूद थे।

आपदा को अवसर बनाया

कार्यक्रम के अंत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संबोधित (PM Narendra Modi Speech) किया। उन्होंने कहा कि आपदा को अवसर कैसे बनाया जाता है यह प्रधानमंत्री आवास योजना ने साबित किया है। पहले औसतन 125 दिनों में मकान बनते थे। लेकिन, कोरोना महामारी के चलते शहरों से ग्रामीण अंचलों में वापस पहुंचे लोगों की वजह से यह संभव हो पाया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार की नीति साफ है वह हर स्कीम में लोगों को साथ में जोड़कर काम करना चाहती है। जबकि पहले ऐसा नहीं होता था। नीतियां दिल्ली से बनती थी और वही से निगरानी होती थी। हमारी सरकार ने यह अधिकार आम नागरिकों को दे दिया। अब नागरिक अपने काम की रिपोर्ट देता है और सरकारी सुविधाओं का लाभ उठाता है।

ग्रामीणों को सशक्त बनाना लक्ष्य

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सरकार की कोशिश है कि ग्रामीणों को सशक्त बनाया जाए। इसके लिए फायबर आप्टिकल नेटवर्क को बिछाया जा रहा है। इस काम के लिए 1000 दिनों का लक्ष्य रखा गया है। अब तक 116 जिलों में पांच हजार किलोमीटर से ज्यादा में काम हो चुका है। मध्य प्रदेश में यह करीब 1300 किलोमीटर है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार पारदर्शिता को ज्यादा फोकस कर रही है। इस कारण किसी भी लाभार्थी के चयन से लेकर उसके गृह प्रवेश तक के अधिकार आम नागरिक को दिए। प्रधानमंत्री ने बताया कि छह साल में करीब सवा दो करोड़ लोगों को मकान दिया जा चुका है।

यह भी पढ़ें:   Cyber crime : शादी के लिए बायोडाटा डाला है तो यह समाचार आपको सचेत करने वाला है

यह भी पढ़ें: जब एक आईपीएस अधिकारी ने पीएम के सामने विपक्ष के एक मुद्दे का नाम लिया तो जानिए कार्यक्रम के दौरान क्या हुआ

प्रधानमंत्री को दिया आमंत्रण

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने धार जिले के सरदारपुर तहसील के अमझेरा गांव के निवासी गुलाब सिंह (Gulab Singh) से बातचीत की। गुलाब सिंह इतने उत्साहित थे कि वे बातचीत नहीं कर पाए। उन्होंने बेटे को माइक दे दिया। बेटे ने हलमा परंपरा की जानकारी दी। इसमें किसी भी व्यक्ति के यहां बन रहे मकान में सहयोग करने पर भोजन कराने की जानकारी दी। इसके अलावा सिंगरौली के गडरिया से प्यारेलाल यादव (Pyarelal Yadav) ने बातचीत की। वहीं ग्वालियर के भितरवार से नरेन्द्र नामदेव (Narendra Namdeo) और उसकी पत्नी अनीता ने प्रधानमंत्री का दिल जीता। दंपत्ति ने प्रधानमंत्री को अपने आवास में चाय—नाश्ते के लिए आमंत्रित किया।

गरीबों के मसीहा

Grih Pravesham Ceremony
शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री- File Photo

कार्यक्रम करीब एक घंटे तक चला। इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने संबोधित किया। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की योजनाओं को प्रदेश में किस तरह से लागू किया जा रहा है। वहीं केन्द्र सरकार की जनहितेषी नीतियों के परिणामों को लेकर वे आश्वस्त नजर आए। मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी है तो मुमकिन है ऐसे ही नहीं कहा जाता। इसके अलावा उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इस वक्त गरीबों के मसीहा यूं ही नहीं बने है। सारे देश का नागरिक उनसे अपेक्षाएं करता है। मुख्यमंत्री ने बताया गृह प्रवेशम् कार्यक्रम (Grih Pravesham Ceremony) से इस वक्त करीब सवा एक करोड़ लोग जुड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Roobbery: चोरों को अब पैसा नहीं किराना चाहिए

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान युवाओं के मामले में क्यों हो रहे हैं मुखर

एक ही काम को दोहराने की आदत

कांग्रेस प्रवक्ता राम पांडे (Ram Pandey) ने कहा कि जब चुनाव आते हैं तब पुराने उदघाटनों को दोबारा किया जाता है। मेरी जानकारी में है कि जिन आवासों का उदघाटन आज हुआ हैं वहां पहले गृह प्रवेश हो चुका है। भाजपा वोट के लिए धर्म का सहारा लिए हुए है। उसको पितृपक्ष या दूसरे चीजों से कोई महत्व नहीं। दिल्ली में झुग्गियों को तोड़ा जा रहा है तो भाजपा चुप है। ग्वालियर में एक ही रोप वे का मुख्यमंत्री, महापौर से लेकर कई लोग कई बार उदघाटन कर चुके हैं। एक ही व्यक्ति दिल्ली, भोपाल और ग्वालियर, भिंड, मुरैना में भाजपा की सदस्यता ले रहा है। इसके अलावा पंडित विनोद गौतम (Pandit Vinod Gautam) ने बताया कि गरुड पुराण में पितृपक्ष के बारे में बताया गया है। शनिवार को गृह प्रवेश के कार्यक्रम हो सकते हैं लेकिन पितृपक्ष में यह शुभ नहीं कहा जा सकता।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!