MP Youth Gift: लोकल के लिए शिवराज वोकल, यूथ के लिए दिया यह तोहफा

Share

MP Youth Gift: एमपी के युवाओं को दूसरे राज्यों में नहीं करना पड़ेगी नौकरी, सरकार ला रही है बिल, कांग्रेस ने कहा कुर्सी बचाने स्टंट

MP Youth Gift
शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (MP CM Shivraj Singh Chouhan) लोकल के लिए वोकल अभियान (MP Local Vocal Campaign) में उतर आए हैं। हालांकि इस शब्द का पहली बार इस्तेमाल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने किया था। इसी शब्द को मुख्यमंत्री ने यूथ पर आजमाया (MP Youth Gift) है। उन्होंने मंगलवार को बकायदा वीडियो बयान जारी करके कहा ​है कि प्रदेश के युवाओं को दूसरे राज्यों में नौकरी करने के लिए नहीं जाना होगा। प्रदेश की सारी सरकारी नौकरियों में एमपी के युवाओं को ही हक मिलेगा। इससे पहले दूसरे राज्यों के लोग यह नौकरी हासिल कर लेते थे। हालांकि इस घोषणा से कांग्रेस भी बौखला गई है। उसके पास कोई ठोस जवाब नहीं है। उसने न समर्थन किया और न विरोध बस यह कहकर बात टाल दी कि बशर्ते यह उप चुनाव को लेकर किया गया फैसला साबित न हो जाए।

सीएम ने कहा दूसरे राज्य के युवा हक मारते थे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (MP CM Announcement Scheme) ने कहा कि अभी तक अपने राज्य की सरकारी नौकरी में दूसरे राज्य के युवा भी आवेदन करते थे। जिसकी वजह से राज्य के युवाओं का हक दूसरे राज्य के विद्यार्थी छीन लेते थे। लेकिन, राज्य के युवाओं को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। शिवराज सिंह चौहान ने कहा मेरे लिए राज्य और राज्य के विद्यार्थियों का हित सबसे पहले हैं। उन्होंने कहा इसके लिए कानून (MP Youth Job Scheme) बनाया जा रहा है जल्द ही प्रदेश में इसको लागू किया जाएगा।

बयान के बाद कांग्रेस में हलचल

कांग्रेस ने शिवराज सरकार को घेरते हुए कहा कि ये फैसला दिग्विजय सिंह (Former CM Digvijay Singh) ने लिया था। लेकिन, भाजपा सरकार ने आते ही इसको बदल दिया था। मंत्री कमल पटेल (Minister Kamal Patel) ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ कहती है करती कुछ नहीं हैं। मुख्यमंत्री के फैसले से युवाओं को रोजगार मिलेगा, अवसर बढ़ेंगे। कांग्रेस को इस फैसले का स्वागत करना चाहिए। लेकिन, उन्हें नौटंकी करने के अलावा कुछ नहीं आता।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Dowry Case: भाई के प्यार से पत्नी को ऐतराज

यह भी पढ़ें: अपनी मूल पार्टी में सिंधिया इन चेहरों को नहीं दिला पाए थे हक, अब उनकी बारी

उपचुनाव पर नजर

प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। उसे देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य के युवाओं को लुभाने की कोशिश की है। क्योंकि युवाओं का एक बड़ा तबका सरकार की नीतियों से खफा चल रहा है। यह फैसला कब से लागू होगा अभी यह नहीं बताया गया है। सरकार ने यह तो साफ कर दिया है कि कानून में संशोधन होगा। अब तक एमपीपीएससी और अन्य नौकरियों के लिए देशभर से आवेदन आते थे। सभी को बराबर की भागीदारी थी। लेकिन, नया नियम आने की स्थिति में केवल प्रदेश के निवासी ही सरकारी नौकरी के लिए आवेदन कर पाएंगे।

सीएम शिवराज का बयान

पूर्व मुख्यमंत्री ने कसा तंज

‘मैंने अपनी 15 माह की सरकार में प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता से रोज़गार मिले , इसके लिये कई प्रावधान किये। मैंने हमारी सरकार बनते ही उद्योग नीति में परिवर्तन कर 70% प्रदेश के स्थानीय युवाओं को रोज़गार देना अनिवार्य किया। हमने युवा स्वाभिमान योजना लागू कर युवाओं को रोज़गार मिले , इसके लिये कई महत्वपूर्ण निर्णय किये। आपकी 15 साल की सरकार में प्रदेश में बेरोज़गारी की क्या स्थिति रही , यह किसी से छिपी नहीं।’

‘युवा हाथो में डिग्री लेकर नौकरी के लिये दर – दर भटकते रहे। क्लर्क व चपरासी की नौकरी तक के लिये हज़ारों डिग्री धारी लाइनों में लगते रहे। मज़दूरों व ग़रीबों के आँकड़े इसकी वास्तविकता ख़ुद बयां कर रहे है। अपनी पिछली 15 वर्ष की सरकार में कितने युवाओं को आपकी सरकार ने रोज़गार दिया , यह भी पहले आपको सामने लाना चाहिये।’

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: फंदे पर लटकी मिली लाश

‘चलिये आप 15 वर्ष बाद आज युवाओं के रोज़गार को लेकर नींद से जागे , आज आपने प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता से नौकरी देने के हमारे निर्णय के अनुरूप ही घोषणा की लेकिन यह पूर्व की तरह ही सिर्फ़ घोषणा बन कर ही ना रह जाये, प्रदेश के युवाओं के हक़ के साथ पिछले 15 वर्ष की तरह वर्तमान में भी छलावा ना हो , वे ठगे ना जाये , यह आगामी उपचुनावों को देखते हुए मात्र चुनावी घोषणा बन कर ना रह जाये , इस बात का ध्यान रखा जावे अन्यथा कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी।’

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी का पलटवार

युवा कांग्रेस अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने बताया चुनावी वादा

यह भी पढ़ें: कांग्रेस हनुमान भक्त होने के बाद कुर्सी पाने के लिए हाथ में थाम लिया है अब गंगा जल

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!