Bhopal Murder Case: मधुर कोरियर कंपनी के कर्मचारी की हत्या

Share

Bhopal Murder Case: लकड़ी के पटिए से पीट—पीटकर चेहरा बिगाड़ा, संदेही कंपनी का ही कर्मचारी

Bhopal Murder Case
संदीप मालवीय जिसकी बेरहमी से हत्या की गई

भोपाल। मधुर कोरियर कंपनी के एक कर्मचारी की बेहरमी से हत्या (Bhopal Brutal Murder Case) कर दी गई। हत्याकांड को लेकर बहुत सारे सवाल है। जिनके जवाब अफसर नहीं दे सके। अफसरों का दावा है कि सारे सवालों का जवाब आरोपी के पकड़ाने के बाद ही उजागर हो सकेगा। घटना मध्य प्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) की है। घटनाक्रम को लेकर स्थिति साफ नहीं हुई है। हालांकि पुलिस ने हत्या (Bhopal Murder Case) और सबूत मिटाने का अपराध दर्ज कर लिया है।

संदेही की बजाय आरोपी मान लिया

मिसरोद थाना क्षेत्र स्थित रतनपुर जोड पर मधुर कोरियर कंपनी का वेयरहाउस है। इस वेयर हाउस का सुपरवाइजर संदीप पाटील (Sandip Patil) पिता बापू श्रावण पाटील उम्र 35 साल है। वह कोलार इलाके में रहता है। संदीप पाटील की शिकायत पर पुलिस ने हत्या का मुकदमा (Misrod Murder Case) दर्ज किया है। जिसमें पुलिस आरोपी साहिल चरार (Sahil Charar) पिता आत्मा राम चरण उम्र 20 साल निवासी ईश्वर नगर कलियासोत के नजदीक चूना भट्टी बता रही है। मामले की जांच मिसरोद टीआई निरंजन शर्मा (TI Niranjan Sharma) के पास है।

यह भी पढ़ें: एक मां की बारह बेटियां जिसमें दो सगी बहनें खदान में नहाने कूदी

एसडीओपी ने कहा ऐसा नहीं

सुपरवाइजर संदीप पाटील ने पुलिस को बताया कि शुक्रवार सुबह साढ़े पांच बजे संदीप मालवीय पिता सुंदर लाल मालवीय उम्र 25 साल निवासी बैरागढ़ चीचली कोलार की लाश (Sandip Malviya Murder Case) मिली थी। वह घर से सुबह वेयर हाउस बंद करने के लिए चाबी लेने पहुंचा था। जहां चाबी होती है वहां संदीप मालवीय मृत हालत में पड़ा था। एसडीओपी मिसरोद संभाग अनिल मिश्रा (SDOP Anil Mishra) ने बताया कि संदेही साहिल चरार है। वह अभी नहीं मिला है। उन्होंने आरोपी की बजाय उसको संदेही बताया।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Dowry Case: मियां—बीवी राजी पर देवर—ससुर बने "काजी"

बाइक लेकर भागा

एसडीओपी ने बताया कि संदीप मालवीय के साथ ही संदेही साहिल भी नौकरी करता है। साहिल एक बाइक लेकर गया है। यह बाइक संदीप मालवीय की है। सीसीटीवी फुटेज में बाइक कैद होने संबंधित जानकारी को लेकर भी एसडीओपी कोई ठोस जवाब नहीं दे सके। हत्याकांड का पता चलने के बाद 10 घंटे बाद भी टीआई और एसडीओपी हत्या को लेकर कोई ठोस जवाब नहीं दे पा रहे थे।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!