Bhopal Robbery Case: घर में घुसकर बंधक बनाने के बाद लूटा

Share

Bhopal Robbery Case:लूटपाट करने वाले तीन बदमाशों ने लूटी कार और सामान लावारिस छोड़कर भागे

Bhopal Robbery Case
वह संदेही लुटेरे जिन्होंने वारदात को अंजाम दिया

भोपाल। मध्य प्रदेश में नवरात्र महोत्सव चल रहा है। इसके अलावा 28 विधानसभा मेंचुनाव है। इसके लिए चुनाव आयोग के अलावा पुलिस मुख्यालय का त्यौहारों को देखते हुएअलर्ट है। इसके बावजूद राजधानी में चौबीस घंटे के भीतर में लूट (Bhopal RobberyCase) की दो वारदात हुई। दोनों ही वारदातों में पुलिस के पास कोई सुराग नहीं है। एमपीनगर में हुई लूट की घटना के बाद दूसरा मामला कोहेफिजा इलाके (Kohefiza Loot) में सामने आया। यहां एक पूर्व शोरुम संचालक के मकान को निशाना बनाया गया। लुटेरों की संख्या तीन थी। जिन्होंने पहले अपार्टमेंट के गार्ड को बंधक बनाया। फिर परिवार को बंधक बनाकर लूटपाट की गई।

गार्ड से मोबाइल छीना

कोहेफिजा पुलिस के अनुसार इलाके में हाउसिंग बोर्ड की कॉलोनी है जिसके एक अपार्टमेंटकी पांचवीं मंजिल में पवन नागपाल पिता जवाहर लाल उम्र 59 साल का परिवार रहता है। पवननागपाल (Pavan Nagpal) पहले हीरो कंपनी का एक्टिव मोटर नाम से शोरुम चलाते थे। हालांकियह कारोबार अब उन्होंने बंद कर दिया है। घटना गुरुवार—शुक्रवार की दरमियानी रात लगभगतीन बजे की बताई जा रही है। लुटेरे तीने थे जिन्होंने सबसे पहले अपार्टमेंट (KohefizaHousing Board Apartment Loot) के गार्ड को अपने कब्जे में लिया। उसको बांधने के बादउसका मोबाइल छीन लिया गया। उसकी निगरानी के लिए एक लुटेरा वहां पहरा देने के लिए खड़ारहा। जबकि दो साथी पांचवीं मंजिल पर पहुंच गए।

चिरायु अस्पताल के पास मिली कार

वह संदेही लुटेरे जिन्होंने वारदात को अंजाम दिया

पवन नागपाल (Pavan Nagpal Loot Case) हर रोज मॉर्निग वॉक के लिए वीआईपी रोड सुबह—सुबह जाते हैं। वे सुबह लगभग चार बजे चाबी निकालकर कार निकालने जा रहे थे। तभी उनका सामना दो लुटेरों से हो गया। उन्हें और उनकी पत्नी और सास को बंधक बना लिया। बंधक बनाने के बाद घर से 600 रुपए, कार की चाबी छीनकर (Bhopal Loot Case) वे भाग गए। भागने से पहले लुटेरों ने सभी को बांध दिया था। लुटेरों ने परिवार से बुरी तरह से मारपीट भी की थी। इधर, तीसरा लुटेरा जो गार्ड की निगरानी कर रहा था वह भी पांचवीं मंजिल पर आ गया। इसी बीच गार्ड मौका पाकर वहां से भाग गया। उसने यह खबर पुलिस तक पहुंचा दी। पुलिस ने सूचना मिलने पर चारों तरफ नाकेबंदी की। जिसके बाद लुटेरे कार और मोबाइल चिरायु अस्पताल (ChirayuHospital) के पास लावारिस फेंक गए।

यह भी पढ़ें:   Ratlam Gang Rape and Murder Case : 13 साल की बच्ची को 3 दरिंदों ने डुबो-डुबोकर मारा था

पांचवीं मंजिल ही क्यों

वह संदेही लुटेरे जिन्होंने वारदात को अंजाम दिया

पवन नागपाल के चेहरे पर घूंसा लगने से वे जख्मी है। पुलिस ने लूट का मामला दर्ज कर लिया है। संदिग्धों की तलाश सीसीटीवी फुटेज से हो रही है। लेकिन, पुलिस के सामने यह सवाल खड़ा हो रहा है कि लुटेरे पेशेवर होते तो पांचवीं मंजिल पर जाकर वारदात करने का खतरा मोल नहीं लेते। पुलिस को शक है कि पवन नागपाल के किसी पुराने कर्मचारी अथवा किसी करीबी व्यक्ति के इस वारदात में शामिल होने की संभावना है। इसलिए एक टीम इस विषय पर भी काम कर रही है। फिलहाल पुलिस किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची है। पुलिस को लूटी कार और गार्ड का मोबाइल मिल गया है। इसके अलावा नागपाल के घर में एक लुटेरे (KohFiza Robbery) ने लौटा से पानी पिया था। इन सभी चीजों में फिंगर एफएसएल की टीम तलाश रही है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथजरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!