MP Freedom Of Religion Bill: इस कानून की पहली एफआईआर दर्ज होने से बच गई

Share

MP Freedom Of Religion Bill: जानिए लव जिहाद की खबर मिलने के बाद भी सिस्टम काम नहीं कर सका

MP Freedom Of Religion Bill
सांकेतिक चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश में लव जिहाद का हल्ला मचा हुआ है। इस संबंध में भोपाल (Bhopal Love Jihad News) की सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर भी कई बार बयान दे चुकी है। जिसके बाद प्रदेश में लव जिहाद का कानून (MP Freedom Of Religion Bill) भी बना। लेकिन, वह पारित नहीं हो सका। अगर हो जाता तो भोपाल पुलिस इस कानून की पहली एफआईआर करने वाली पुलिस भी बन जाती। हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने कहा है कि इस बिल के लिए हम जल्द ही अध्यादेश लेकर आएंगे।

यह है तकनीकी पेंच

मध्य प्रदेश में लव जिहाद को लेकर कुछ दिन पहले ही कानून बना। इस कानून के तहत धर्म छुपाकर शादी करने वाले आरोपी को कम से कम पांच और अधिकतम 10 साल की सजा का प्रावधान किया गया है। इस बिल को मध्य प्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक कहा गया है। केबिनेट की मंजूरी के बाद यह विधानसभा में 28 दिसंबर को पारित किया जाना था। लेकिन, कोरोना महामारी के खतरे को देखते हुए सदन स्थगित किया गया। इसलिए बिल सदन में नहीं लाया जा सका। अब शिवराज सिंह चौहान सरकार दावा कर रही है कि इस संबंध में अध्यादेश लाकर बिल को लागू किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस एसीपी की वर्दी वाली तस्वीर की कहानी जिसको भोपाल के लोग आसानी से भूल नहीं पाए

हिंदू संगठनों को मिली थी खबर

कोलार थाना पुलिस ने सोमवार को शून्य पर जालसाजी (Bhopal Fraud Marriage Case) का मुकदमा दर्ज किया है। मामला रायसेन (Raisen) जिले का होने का कारण केस डायरी वहां भेजी गई है। होशंगाबाद (Hoshangabad) के ईदगाह मोहल्ले में रहने वाले रवि यादव उर्फ मोहम्मद रफीक (Ravi [email protected] Rafiq) को आरोपी बनाया गया है। आरोपी की पहचान एक युवती से हुई थी। वह उस युवती के पैर की बीमारी को झाड़—फूंक के बहाने दूर करने का दावा करता था। उसने युवती को शादी के लिए मना लिया था। मोहम्मद रफीक हिंदू धर्म की सारे नियमों को करता था। कलावा बांधने, तिलक लगाने के अलावा उसने नाम भी हिंदू धर्म के अनुसार रख लिया था। इस बात की जानकारी हिंदू संगठनों को लग गई थी।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Theft: एक्सिस बैंक मैनेजर के सूने मकान पर चोरों का धावा

तो कोलार में दर्ज होती पहली एफआईआर

हिंदू संगठनों ने आधार कार्ड की मदद से उसके बारे में जानकारी जुटाई। जिसके बाद रफीक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। घटना रायसेन जिले की थी। आरोपी कोलार इलाके में एक मंदिर में आया था। यहां से उसको हिरासत में लेकर शादी रुकवाई गई थी। यदि पुलिस ने यह मुकदमा लव जिहाद (Kolar Love Jihad News) में दर्ज किया होता तो यह प्रदेश की पहली एफआईआर में शामिल होता।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में माफिया को दफनाने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री को राजधानी के इन हालातों पर सवाल अफसरों से जरुर पूछना चाहिए

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!