Bhopal Suicide Case: डेढ़ साल के भीतर बाप—मां के बाद बेटे ने की आत्महत्या

Share

Bhopal Suicide Case: चौबीस घंटे में तीन व्यक्तियों ने फांसी लगाकर दी जान

 

Bhopal Suicide Case
मृतक अरूण रैकवार

भोपाल। (Bhopal Crime News In Hindi) सुसाइड को बुझदिली का काम माना जाता है। संसार में हर समस्या का समाधान है। यह मनोरोगी होने का भी कारण है। इसलिए बेहतर चिकित्सक के साथ—साथ अच्छे दोस्त की आवश्यकता होती है। इतनी बातें इसलिए बता रहे हैं कि क्योंकि आप किसी बात को सोचते हैं तो संभल जाइए। घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Hanging Case) की है। यहां डेढ़ साल के भीतर में एक परिवार के तीन सदस्यों ने डेढ़ साल में खुदकुशी कर ली। आत्महत्या (Bhopal Suicide Case) करने वालों में पहले पिता थे। फिर उसके बाद मां ने जहर खा लिया। इसके बाद अब बेटा फंदे पर झूल गया। इधर, दो अन्य खुदकुशी के मामले सामने आए हैं। तीनों घटनाओं (MP Suicide Case) में पुलिस ने फिलहाल मर्ग कायम किया है।

आर्थिक तंगी से परेशान

चूना भट्टी थाना पुलिस ने बताया कि अरूण रैकवार (Arun Raikwar) पिता स्वर्गीय रमेश रैकवार उम्र 22 साल निवासी कोलार कॉलोनी झुग्गी में रहता था। अरूण मजदूरी करता था। लॉक डॉउन के कारण वह बेरोजगार था। साथ ही शराब पीने का आदी था। डेढ़ साल पहले पिता ने घर में फांसी लगा ली थी। उसके कुछ समय बाद मां ने जहरीला पदार्थ खा लिया था। परिवार में अरुण के अलावा बड़ी तीन बहनें हैं। अरूण किराए के मकान में रहता था। पड़ोस में रहने वाली रंजना पति भगवत उम्र 26 साल ने अरुण को सुबह दुपट्टे से फंदे पर लटके (Arun Raikwar Suicide Case) देखा था। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Rape Case: सिपाही ने एमबीए छात्रा की लूटी अस्मत

यह भी पढ़ें: विंध्याचल भवन के बाबू की हुई मौत

पत्नी थी मायके में

निशातपुरा थाना पुलिस ने बताया कि इकबाल खां (Ekbal Kha) पिता बन्ने खां उम्र 40 साल निवासी राजीव कॉलोनी हाउसिंग बोर्ड करोंद में रहता था। उसकी ससुराल गंजबासोदा में है। शादी के बाद पत्नी और बच्चों के साथ वही रहता था। यहां वह अकेला किराए के मकान में रहता था। पत्नी बच्चों से मिलने वह जाता रहता था। इकबाल मजदूरी करता था। वह शराब पीने का आदी था। बुधवार रात रात करीब 2:45 बजे वह कमरे में नायलॉन की रस्सी से लटका (Ekbal Kha Suicide Case) था। उसे भाई आसिफ ने देखा था। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

परिवार के साथ देखी पिक्चर

टीटी नगर थाना पुलिस ने बताया कि सुनील पाण्ड़े पिता कांता प्रसाद उम्र 35 साल निवासी हर्षवर्धन नगर में रहता था। वह मूलत: सतना का रहने वाला था। मेहनत—मजदूरी करता था। सुनील शराब पीने का आदी था। परिजन उसकी इस आदत से परेशान रहते थे। बुधवार रात करीब दो बजे तक पत्नी—बच्चों के साथ बैठकर उसने पिक्चर भी देखी थी। इसके बाद पत्नी—बच्चा सोने चले गए थे। वह अकेला टीवी देख रहा था। सुबह पत्नी ने उसे कमरे में पाईप से फंदे पर लटका देखा था। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। परिवार शोकाकुल होने के कारण किसी के बयान नहीं हो सके है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद बयान दर्ज किए जाएगे।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Molestation Case: सौतेला पिता नशे के बाद बेटी से करता था हर​कत

 

Don`t copy text!