डेढ़ करोड़ की ब्राउन शुगर के साथ पकड़ाया लोकायुक्त का कर्मचारी

Share

Mahasamund Drug Smuggler : पाकिस्तान से जुड़े है तार, पुलिस ने एटीएस को सौंपी जांच

Mahasamund Drug Smuggler
पुलिस गिरफ्त में आरोपी

रायपुर। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में ड्रग्स माफिया (Drug Smuggler) सक्रिय हो गया है। पुलिस की बड़ी कार्रवाई बता रही है कि ब्राउन शुगर तस्कर राज्य में जड़े मजबूत करने की फिराक में है। महासमुंद (Mahasamund) में पुलिस ने एक तस्कर को गिरफ्तार किया है। तस्कर से 730 ग्राम ब्राउन शुगर बरामद की गई है। जिसकी कीमत 1 करोड़ 46 लाख रुपए बताई जा रही है। खास बात ये है कि ड्रग्स की तस्करी लोकायुक्त का कर्मचारी कर रहा था। पकड़ा गया आरोपी शंकरलाल वैष्णव (Shankarlal Vaishnav) लोकायुक्त रायपुर (Lokayukta Raipur) में चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी है।

मुखबिर से मिली सूचना

महासमुंद के एसपी प्रफुल्ल ठाकुर (SP Prafull Thakur) ने मीडिया को बताया कि पुलिस को तस्करी की सूचना मिली थी। जिस पर कार्रवाई करते हुए नेशनल हाईवे नंबर 53 पर गोदारी चौक से शंकरलाल वैष्णव नाम के 30 वर्षीय युवक को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस को सूचना मिली थी कि रायपुर का एक युवक महासमुंद में कोंट्राबेंड टैबलेट बेचने की फिराक में है। सूचना पर पुलिस ने चैक पोस्ट पर नाकेबंदी कर रखी थी। आरोपी तस्कर रायपुर से महासमुंद की तरफ आ रहा था। नाके पर पुलिस को देखकर उसने भागने की कोशिश की। लेकिन पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

पिस्टल भी बरामद

पुलिस ने शंकरलाल से एक करोड़ 46 लाख की ब्राउन शुगर बरामद की। साथ ही एक ऑटोमैटिक पिस्टल, दो मैगजीन, दो जिंदा कारतूस, इलेक्ट्रॉनिक तौल कांटा भी बरामद किया। शंकरलाल लोकायुक्त रायपुर के दफ्तर में चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी है। शंकरलाल राजस्थान के जोधपुर का रहने वाला है।

यह भी पढ़ें:   सुरक्षा बलों ने झीरम घाटी हमले में शामिल 2 इनामी नक्सलियों को मार गिराया

लोकायुक्त की धौंस देता था

एसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने द क्राइम इन्फो को बताया कि तस्कर शंकरलाल राजस्थान से कोंट्राबेंड खरीदता था। उसने साथ तस्करी में एक और शख्स शामिल है, जो राजस्थान का ही रहने वाला है। पुलिस पूछताछ में शंकरलाल ने कबूल किया है कि उसके तार पाकिस्तान से भी जुड़े हुए है। एसपी ने बताया कि आरोपी लोकायुक्त का कर्मचारी है। लिहाजा कई बार वो लोकायुक्त पुलिस की धौंस देकर बच निकलता था। आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस और आर्म्स एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले को स्टेट एंटी टेररिस्ट स्कॉड (एटीएस) के हवाले कर दिया गया है।

यह भी पढ़ेंः आमने-सामने से टकराए दो ट्रक, लगी आग, देखें वीडियो

Don`t copy text!