कांग्रेस नेताओं की गलत बयानी को मुद्दा बना रही भाजपा

Share

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को घेरने में लगे सीएम शिवराज

कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री, फाइल फोटो

भोपाल। मध्यप्रदेश में जैसे-जैसे उप चुनाव की तारीख पास आ रही है वैसे-वैसे सियासी बयानबाजी और तीखे हमले तेज होते जा रहे हैं। इस दौरान कांग्रेस नेताओं की गलत बयानी भी सामने आ रही है । कुछ दिनों पहले किसान कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने मंच से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को नंगे भूखे परिवार का कह दिया था । जिसे भाजपा ने सियासी मुद्दा बना दिया और जमकर पलटवार किया था। अब पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप लगे हैं भाजपा का आरोप है कि कमलनाथ है। मंत्री इमरती देवी के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी की है। भाजपा के मुताबिक कमलनाथ ने मंच से इमरती देवी को आइटम कहकर पुकारा वही कांग्रेस इन आरोपों को सिरे से खारिज कर रही है ।कांग्रेस का कहना है कि कमलनाथ में अपने भाषण में इमरती देवी का नाम ही नहीं लिया था।

भाजपा के लिए संजीवनी बन रहे बयान

इस उपचुनाव में कांग्रेस के पास तमाम मुद्दे हैं। किसान कर्ज माफी, गौशाला निर्माण, पेंशन की राशि बढ़ाना, विवाह की राशि बढ़ाने जैसे काम लेकर कांग्रेस जनता के सामने जा रही है। कांग्रेस में बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए और गद्दार को भी चुनावी मुद्दा बना लिया है। वहीं दूसरी तरफ भाजपा के पास कांग्रेस की अपेक्षा मुद्दों की कमी दिखाई देती है। क्योंकि कमलनाथ सरकार से पहले 15 साल भाजपा की सरकार थी। भाजपा भले ही किसान कर्ज माफी को कमलनाथ सरकार को झूठ बता रही हो। लेकिन विधानसभा के पटल पर सरकार ने माना है कि कमलनाथ सरकार ने 2700000 किसानों का कर्जा माफ किया था। लिहाजा किसान कर्ज माफी का फायदा उपचुनाव में कांग्रेस को मिल सकता है। वहीं खबर है कि ग्वालियर चंबल संभाग में कांग्रेस के गद्दार नहीं वफादार कैंपेन को जनता का साथ मिल रहा है। ऐसे में भाजपा और सिंधिया कैंप के पास कांग्रेस को काउंटर करने के लिए मुद्दे कम पड़ते दिखाई दे रहे हैं। लेकिन इस कमी की पूर्ति कांग्रेस के नेता ही कर दे रहे हैं नेताओं की गलत बयानी को भाजपा मुद्दों की तरह पेश कर रही है।

यह भी पढ़ें:   Jail-Break : हत्या, दुष्कर्म और तस्करी के जुर्म में सजा काट रहे कैदी जेल से हुए फरार

कमलनाथ को घेर रही भाजपा

उपचुनाव के आखिरी दौर में भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर फोकस करना शुरू कर दिया है। मंत्री शिवराज सिंह चौहान सीधे तौर पर कमलनाथ पर निशाना साधते नजर आ रहे हैं। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि भाजपा समझ चुकी है कि उसका सामना कांग्रेस से नहीं कमलनाथ से है। उपचुनाव में कमलनाथ की लोकप्रियता भारी पड़ सकती है यही वजह है कि भाजपा छोटे से छोटे मुद्दे को भी बनाना चाहती है। इसका उदाहरण भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा के उस बयान में भी देखने को मिलता है। जिसमें उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने कोको कोला पीकर चंबल के पानी का अपमान किया है। अब आइटम वाले बयान के खिलाफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 2 घंटे का मौन व्रत रखने जा रहे हैं।

भाजपा के बाद मुद्दे ही नहीं है

बयानों पर हो रहे बार पलटवार को लेकर कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने कहा कि भाजपा के पास चुनाव में जाने के लिए मुद्दे ही नहीं है। यही वजह है कि बयानों को तोड़ मरोड़ कर मुद्दा बनाने की कोशिश की जा रही है। लेकिन जनता समझदार हैं। 3 नवंबर को जनता जवाब देगी 10 नवंबर को परिणाम दूध का दूध पानी का पानी कर देंगे।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।  

Don`t copy text!