गर्लफ्रेंड से बात करने के शक में दो युवकों ने की दोस्त की हत्या

Share

पुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी

Noida Crime
सांकेतिक फोटो

नोएडा। (Noida Crime) नोएडा में दो युवकों ने अपने दोस्त की बेरहमी से हत्या कर दी। फिर हत्या को हादसा साबित करने की पुरजोर कोशिश की। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने सब कुछ साफ कर दिया। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझा लिया। युवकों ने अपने दोस्त की हत्या महज शक के चलते की थी। युवकों को लगता था कि उनका दोस्त भी उनकी प्रेमिकाओं से बात करता है। अपर पुलिस उपायुक्त (जोन द्वितीय) अंकुर अग्रवाल ने बताया कि थाना फेस-2 क्षेत्र के इलाबास गांव में अजीत (23) अपने दोस्त मोहित व विपिन के साथ एक ही मकान में किराए पर रहता था। उन्होंने बताया कि मोहित व विपिन की दो महिला मित्र थीं। उन्हें शक था कि उनका मित्र अजीत भी उनसे बातचीत करता है, तथा उसके भी उनसे संबंध है।

दोस्त को रास्ते से हटाना चाहते थे

उन्होंने बताया कि अजीत को रास्ते से हटाने के लिए मोहित और विपिन ने षड्यंत्र रचा, तथा मंगलवार सुबह इन लोगों ने सोते समय अजीत के सिर पर भारी पत्थर से वार किया और इसे बाद दोनों ने अजीत के रिश्तेदार कपिल के घर पर जाकर उसको सूचना दी कि उसका एक्सीडेंट हो गया है, तथा उसे अस्पताल में भर्ती कराना है। अपर उपायुक्त ने बताया कि कपिल ने उनके साथ घटनास्थल पर जाने से इनकार कर दिया इसके बाद दोनों कपिल के घर से लौट कर आए। इसी बीच विपिन अपना बैग लेकर वहां से भाग गया।

यह भी पढ़ें:   मां को पीटने से रोकता था बेटा, बाप ने कुल्हाड़ी से काट दिया

आरोपी ने बुलाई एंबुलेंस

उन्होंने बताया कि मोहित ने 112 नंबर पर फोन करके मौके पर एंबुलेंस बुलाई, तथा सूचित किया कि उसके दोस्त अजीत का एक्सीडेंट हो गया है। उन्होंने बताया कि एंबुलेंस अजीत को लेकर यथार्थ अस्पताल पहुंची। वहां पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। अपर उपायुक्त ने बताया कि इस दौरान मोहित भी अस्पताल से भाग गया। शव का पोस्टमार्टम करने पर यह बात सामने आई कि अजीत की हत्या की गई है। उन्होंने बताया कि मृतक के परिजन कसाराम की शिकायत पर पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज किया। बुधवार सुबह पुलिस ने एक सूचना के आधार पर मोहित को गिरफ्तार कर लिया।

उन्होंने बताया कि विपिन फरार है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। अपर उपायुक्त ने बताया कि विपिन इससे पूर्व लूटपाट के मामले में गाजियाबाद से कई बार जेल जा चुका है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त पत्थर भी मौके से बरामद कर लिया है।

यह भी पढ़ेंः फेसबुक पोस्ट से भड़की हिंसा, पुलिस की गोली से मारे गए तीन उपद्रवी

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!