तत्कालीन ADRM Gaurav Singh मामले में नया मोड़

Share

हरदा में पति के ADRM Gaurav Singh मामले में दी गई शिकायतों पर पत्नी मुकरी, भोपाल में पत्नी ने दर्ज करा रखा है बलात्कार का मामला

ADRM Gaurav Singh
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन—टीसीआई

भोपाल। तत्कालीन एडीआरएम गौरव सिंह (ADRM Gaurav Singh) मामले में नया मोड़ सामने आया है। यह प्रकरण दो जिलों भोपाल और हरदा में एक साथ चल रहा है। हरदा में पति ने आवेदन दिया है। जबकि पत्नी की शिकायत पर भोपाल   में बलात्कार का मामला दर्ज किया गया है। इसी मामले में प्रकरण दर्ज होने के बाद गौरव सिंह का चैन्नई में तबादला कर दिया गया था। इस प्रकरण में अभी तक आरोपी की गिरफ्तारी पुलिस नहीं कर सकी है। पुलिस का कहना है कि मामले में अभी जांच की जा रही है।

पति ने यह बोलकर की थी शिकायत

होशंगाबाद स्थित महिला थाने में 6 मई को भोपाल एडीआरएम के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया था। यह प्रकरण जीरो पर दर्ज करके भोपाल के गोविंदपुरा थाने को भेजा गया था। जिसके बाद 7 मई को यहां मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में एडीआरएम गौरव सिंह है। गोविंदपुरा पुलिस के समक्ष शिकायत दर्ज कराने वाली पीड़िता के मजिस्ट्रीयल बयान दर्ज हुो चुके हैं। यह बयान थाने में दर्ज प्रकरण से मेल खा रहे हैं। लेकिन, हरदा एसपी मनीष कुमार अग्रवाल (SP Manish Kumar Agrawal) के यहां दर्ज की गई शिकायत पीड़िता उसके पति के आरोपों से मुकर गई है। पति ने पीड़िता और एडीआरएम गौरव सिंह के बीच अवैध संबंध होने का आरोप लगाया है। वहां दर्ज शिकायत पर हरदा पुलिस 10 दिन बाद भी फैसला नहीं ले सकी है। एसपी मनीष कुमार अग्रवाल ने बताया कि मामले में अभी क्या परिस्थितियां उसकी जानकारी उन्हें नहीं हैं।

एडीआरएम ने कराई थी शादी

पीड़िता ने गोविंदपुरा थाने में दर्ज प्रकरण में आरोप लगाया है कि एडीआरएम गौरव सिंह से उसकी मुलाकात पिता के देहांत होने पर अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन करने के दौरान हुई थी। वह भोपाल के एक हॉस्टल में रहती थी। जहां त​बीयत बिगड़ने पर गौरव सिंह (ADRM Gaurav Singh) अपनी कार से उसको सिटी अस्पताल ले गए थे। उसी दिन घर में आराम करने का बोलकर ले गए और वहां उसके साथ शारीरिक संबंध बनाया गया। उसको जब नौकरी मिली तो तब भी उसके साथ जश्न मनाने के नाम पर उनके सरकारी निवास में शारीरिक संबंध बनाए गए। इधर, पति का आरोप है कि गौरव सिंह ने ही उसकी शादी उससे कराई थी। उसके कहने पर ही पत्नी का उसने हरदा (Harda) ट्रांसफर भी किया था। लेकिन, दोनों के बीच अवैध संबंध थे। इसलिए बाद में उसका तबादला भोपाल कराया गया। इस संबंध में पत्नी के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड से पता लगाने की मांग हरदा एसपी से की गई है।

राजनीतिक संबंधों का उठा रहे फायदा

ADRM Gaurav Singh
गोविंदपुरा थाना, जिला भोपाल— फाइल फोटो।

भोपाल के तत्कालीन एडीआरएम गौरव सिंह (ADRM Gaurav Singh) जैसा ही दूसरा मामला भोपाल रेलवे स्टेशन के तत्कालीन राजेश तिवारी (Rajesh Tiwari) और आलोक मालवीय (Alok Malviya) जैसा ही है। यहां भी रिटायररिंग रुम में युवती से बलात्कार हुआ था। जिसमें दोनों अफसरों को बर्खास्त कर दिया गया था। जबकि गौरव सिंह के खिलाफ कोई प्रशासनिक कार्रवाई रेलवे मंत्रालय ने नहीं की। बल्कि उनका तबादला चैन्नई (Chennai) करके प्रकरण को प्रभावित करने का इंतजाम किया गया। खबर है कि गौरव सिंह के राजनीतिक संबंध है जिसका इस्तेमाल करके वे अपना बचाव कर रहे हैं। यह  साबित भी हो रहा है। दरअसल, गोविंदपुरा में दर्ज प्रकरण हरदा में दर्ज बयानों के आधार पर अदालत में विरोधाभासी बनेगा। जिसका फायदा तत्कालीन एडीआरएम को मिल सकता है। हालांकि भोपाल एडीसीपी राजेश सिंह भदौरिया (ADCP Rajesh Singh Bhadouriya) का कहना है कि उनके यहां दर्ज प्रकरण में अभी जांच की जा रही है। गिरफ्तारी को लेकर जल्द वह भी प्रक्रिया की जाएगी। इसके संबंध में रेल विभाग से संपर्क किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: बीई के छात्र को कार ने रौंदा, गई जान

खबर के लिए ऐसे जुड़े

ADRM Gaurav Singh
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!