Bhopal Fraud Case: रेलवे कर्मचारी को झांसा देकर शातिर ठग ने ऐंठ ली रकम

Share

Bhopal Fraud Case: प्लॉट दिलाने के नाम पर पुलिस परिवार को ठगने वाले आरोपी का एक ओर कारनामा

Bhopal Fraud Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के एक शातिर जालसाज (Bhopal Fraud Case) के कारनामे अब धीरे—धीरे थाने में पहुंचने लगे हैं। उसके निशाने पर अधिकांश पुलिस विभाग के कर्मचारी होते थे। अब इस ठग (Bhopal Cheating Case) का शिकार रेलवे से रिटायर कर्मचारी भी थाने पहुंचा है। अब तक पुलिस के अफसरों को दो दर्जन से अधिक पीड़ितों के नाम पते मालूम हुए हैं। वह करीब 23 लाख रुपए की रकम इन लोगों से ऐंठ चुका है।

सीलिंग की थी जमीन

पुलिस वालों के साथ हुई धोखाधड़ी की पहली एफआईआर निशातपुरा थाना पुलिस ने दर्ज की थी। मुकदमा 24 दिसंबर की शाम लगभग 6 बजे दर्ज हुआ था। शिकायत संजीव नगर निवासी शशि व्यास उम्र 58 ने दर्ज कराई थी। पति सुरेश कुमार हवलदार थे जिनका निधन हो चुका है। उन्होंने आरोपी गोपाल जाट से प्लॉट लेने का एग्रीमेंट किया था। यह प्लॉट करोद​ स्थित व्यंजन रेस्टोरेंट (Vyanjan Restaurant) के सामने था। यहां जमीन तो थी लेकिन वह सीलिंग में जाने वाली थी। इस बात की खबर आरोपी गोपाल जाट (Gopal Jat) को पहले से ही थी।

यह भी पढ़ें: दिल्ली का यह एसीपी जिसने वर्दी की धौंस दिखाकर कितने परिवारों को ठग लिया

ऐसे बुना था जाल

मामले की जांच कर रहे एसआई एसकेएस चौहान (SI SKS Chouhan) ने बताया कि आरोपी गोपाल जाट करोद इलाके का ही रहने वाला है। उसको शुक्रवार दोपहर गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी ने रामेश्वर मिश्रा, जगदीश रावत, दयाशंकर पांडे, मनीष मिश्रा समेत कई अन्य लोगों को झांसा दिया था। इसमें पुलिस विभाग के अलावा दूसरे आम नागरिक भी शामिल हैं। इन नामों के साथ अब प्रेम नगर छोला मंदिर इलाका निवासी रमेश चौबे पिता बाबूलाल उम्र 62 साल का भी नाम जुड़ गया।

यह भी पढ़ें:   Triple Talaq: पत्नी के खिलाफ अदालत जाकर शर्मिंदा हुआ पति

चौबीस घंटे में दूसरी एफआईआर

पुलिस का कहना है कि यह फर्जीवाड़ा (Bhopal Polt Cheating Case) लाखों रुपए में पहुंच सकता है। जांच में पता चला है कि जमीन चंदन बाई की थी जो सीलिंग में जा रही थी। यह खबर चंदन बाई को भी थी। उसको आरोपी ने चुप रहने के लिए कहा था। फिर वह लोगों को प्लॉट दिलाने का झांसा देता आ रहा था। रमेश चौबे ने करीब साढ़े तीन लाख रुपए पहले दिए थे। दूसरी किस्त में करीब एक लाख रुपए चुका​ए थे। रजिस्ट्री के वक्त ढ़ाई लाख रुपए देने थे। उससे पहले उसकी गिरफ्तारी की खबर रमेश चौबे (Ramesh Choubey) को मिल गई। पुलिस ने शुक्रवार 25 दिसंबर की रात लगभग साढ़े आठ बजे जालसाजी का मुकदमा दर्ज किया गया।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!