Private School High-handedness : वर्चुअल क्लास की आड़ में “चौथ वसूली”

Share

Private School High-handedness : शहर के कई स्कूलों में अभिभावकों ने मचाया हंगामा, प्रशासन और सरकार मौन

भेल शिक्षा मंडल से संचालित जवाहर लाल नेहरु स्कूल प्रायमरी विंग में पहुंचे अभिभावक

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिक्षा माफिया (MP School Mafia News) के इशारों पर काम कर रही सरकार की चुप्पी बनी हुई है। जिसका फायदा उठाकर प्रदेश के कई निजी और प्रायवेट स्कूल अभिभावकों से चौथ वसूली (Bhopal Education Mafia) कर रहे हैं। यह चौथ वसूली (Private School High-handedness) वर्चुअल क्लास के नाम पर हो रही है। जिसके खिलाफ मंगलवार को कई स्कूलों में अभिभावकों ने जाकर प्रदर्शन (Bhopal Private School Parent Protest) किया। इस प्रदर्शन के दौरान गतिरोध भी बना। स्कूलों ने अभिभावकों को डराया भी। अभिभावकों का कहना है कि इस मामले को अब व्यापक बनाया जाएगा। जिसके लिए कई स्कूलों के माता—पिता सोशल मीडिया के जरिए सरकार तक इस व्यवस्था के खिलाफ विरोध (Bhopal School Fees Against Protest) जताएंगे।

जवाहर लाल स्कूल में धमकाया गया

भेल शिक्षा मंडल (Bhel Shiksha Mandal) से संचालित जवाहर लाल नेहरू स्कूल प्रायमरी विंग (Jawahar Lal Nehru School Primary Wing) में मंगलवार दोपहर दर्जनों अभिभावक पहुंच गए। पहले यह बोला गया कि वे प्रबंधन नहीं है वे तो टीचर है। फिर हंगामा बढ़ता देख टीचर ने अभिभावकों से बातचीत की। लेकिन, यह बातचीत धमकाने अंदाज में थी। मोबाइल बंद करने और रिकॉर्डिंग न करने की धमकी दी जाती रही। आवेदन लेने के बाद टीचर बाथरुम में छुप गई। इसके बाद अभिभावक भेल शिक्षा मंडल (Bhopal Jawahar Lal School Protest News) भी पहुंचे। भेल शिक्षा मंडल सचिव ने कहा कि जुलाई की ट्यूशन फीस जमा कीजिए।

यह भी पढ़ें : राजधानी इस प्रायवेट स्कूल के संचालक ने अकूत संपत्ति ऐसे फर्जीवाड़ा करके बना ली

यह भी पढ़ें:   Bhopal Dowry Case: सीआईडी का हवलदार नहीं होने देता था एफआईआर

यह कर रहा था स्कूल

प्रायमरी विंग के बच्चों से 5000 रुपए की फीस ली जा रही थी। इसका अभिभावक विरोध (Protest Against Fees) कर रहे थे। अभिभावकों का कहना था कि जब क्लास नहीं चल रही तो कंप्यूटर, इंफ्रास्ट्रक्चर फीस किस बात की ली जा रही है। इसके बाद यह तय हुआ कि ट्यूशन फीस ली जाए। वहीं प्रायमरी विंग के बच्चों को वर्चुअल क्लास और होमवर्क के नाम पर फीस वसूली जा रही है। जबकि सरकार ने आन लाइन क्लास पर रोक लगाई है। वर्चुअल क्लास में उन्हीं बच्चों को शामिल किया जा रहा है जिन्होंने फीस जमा की है।

यह भी पढ़ें : सागर पब्लिक स्कूल का टीचर घर में लगे कैमरे का वीडियो देखकर हो गया हैरान

दूसरे स्कूलों में भी मनमानी

श्यामला हिल्स स्थित बाल भवन के गेट पर जमा अभिभावक ऐसे ही कार्मल कान्वेंट में भी अभिभावक पहुंचे थे

इसी तरह भोपाल के अन्य निजी स्कूल बाल भवन (Bal Bhavan School), एमजीएम, शुभम सागर पब्लिक स्कूल (Shubham Sagar Public School) में भी मनमानी की जा रही है। यहां भी बच्चों को आन लाइन क्लास के नाम पर फीस वसूला जा रहा है। इस संबंध में कई आवेदन बाल आयोग को भी पहुंचे हैं। लेकिन, अब तक सरकार और प्रशासन की तरफ से कोई एक्शन नहीं लिया गया है। यहां के अभिभावक भी लामबंद हो रहे हैं एक—दूसरे स्कूलों के खिलाफ आंदोलन की रणनीति बना रहे हैं। रणनीति के तहत केंद्र और राज्य सरकार को ज्ञापन देने की तैयारी की जा रही है।

यह है हाईकोर्ट के निर्देश

ट्यूशन फीस के खिलाफ जबलपुर हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई है। आवेदन पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने ट्यूशन फीस न लेने के आदेश अगस्त के पहले सप्ताह तक टालने के आदेश दिए हैं। इस मामले में अगली सुनवाई के बाद फैसला लिया जाएगा। निजी स्कूलों की चल रही इस मनमानी को लेकर जनता में काफी रोष है। वहीं सरकार ने चुप्पी साध ली है। जिस कारण अभिभावकों ने आगे आकर मोर्चा संभाल लिया है। अभिभावक चाहते हैं कि कोरोना वैक्सीन न बनने तक वे बच्चों को स्कूल भेजने का फैसला नहीं ले सकते।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: जो मिला उसे पीटकर धमकाते रहे

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!