Bhopal Maternal Death: कोरोना खौफ के बीच एक साथ दो प्रसूताओं की मौत

Share

Bhopal Maternal Death: दोनों प्रसूताओं को कराया गया था सरकारी अस्पताल में भर्ती, एक प्रसूता के बच्चे ने भी दम तोड़ा

Bhopal Delivery Death Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। कोरोना खौफ के बीच एक साथ दो प्रसूताओं की मौत (Bhopal Maternal Death Case) का मामला सामने आया हैं। मामला मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल का हैं। दोनों प्रसूताओं को डिलेवरी के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां एक महिला के बच्चे ने पेट में दम तोड़ (Bhopal Maternal Death) दिया था वही कुछ देर बाद मां की भी मौत हो गई। दूसरी और डिलेवरी के 14 दिन बाद दूसरी महिला ने दम तोड़ दिया। फिलहाल दोनों मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिए हैं।

की थी लव मैरिज

चूना भट्टी पुलिस ने बताया कि ईश्वर नगर इलाके में रहने वाली राजवती कहार (Rajwati Kahar) पति बसंत उम्र 21 साल की मौत हो गई। राजवती मूलत: मंड़ला की रहने वाली थी। उसकी शादी सन् 2018 में जबलपुर निवासी बसंत के साथ हुई थी। दोनों का प्रेम विवाह हुआ था। शादी के बाद दोनों यहां किराए से रह रहे थे। बसंत निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग में चपरासी की नौकरी करता हैं। राजवती ने दो सप्ताह पहले जेपी अस्पताल में बेटे को जन्म दिया था।

बेटे के जन्म के बाद तबीयत बिगड़ी

राजवती कहार को परिवार घर ले आया था। इसके बाद 2 जुलाई को उसकी वापस तबीयत खराब हुई। परिजन उसे कोलार में दिव्या अस्पताल लेकर गए थे। वहां इलाज के बाद वह घर वापस आ गई थी। सोमवार सुबह 4 बजे उसकी दोबारा तबीयत बिगड़ने पर एम्बुलेंस की मदद से जेपी अस्पताल लेकर पहुंचे थे जहां डॉक्टरों ने उसे इलाज के दौरान मृत घोषित कर दिया।पुलिस ने मर्ग कायम कर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime News:  शराब नहीं पिलाई तो बदमाशों ने की पिटाई  

लिव इन में रहती थी महिला

इधर, जहांगीराबाद थाना पुलिस ने बताया कि पूनम बाथम पिता भगवानदास उम्र 19 साल की मौत हो गई। पूनम भीम नगर इलाके की रहने वाली थी। उसके पिता हबीबगंज में गार्ड की नौकरी करते हैं। उसके पड़ोस में कमल नाम का युवक रहता हैं। दोनों परिवारों की सहमति से पूनम और कमल पति—पत्नी जैसे रहते थे। पूनम को 6 महीने का गर्भ था। इसी दौरान 4 जुलाई दिन रविवार को पूनम की तबीयत बिगड़ने पर उसे परिजन जेपी अस्पताल ले गए।

जच्चा—बच्चा की मौत

डॉक्टरों ने उसे हमीदिया रैफर कर दिया था। सोमवार सुबह उसे हमीदिया से सुल्तानिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी जांच करने पर डॉक्टरों ने उसके पेट में 6 महीने का बच्चा मृत हालत में आपरेशन के बाद निकाला। डिलीवरी के करीब तीन घंटे बाद पूनम ने भी दम तोड़ दिया था। जहांगीराबाद पुलिस ने दोनों मामलों में मर्ग कायम कर शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिए हैं।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!