Bhopal Crime: मार्कफेड के अफसर पर साढ़े 12 लाख रुपए की घूस लेने का आरोप

Share

कलेक्टर से सीडी के साथ की गई शिकायत, अफसर का दावा पॉली हाउस गलत तरीके से आवंटन करने का मेरे पर डाला गया दबाव

Bhopal Bribe
कलेक्टर को सौंपा गया यह वीडियो जिसमें ड्राइविंग सीट में बैठे मालवीय पीछे बैठे हुए व्यक्ति से कथित रिश्वत लेते हुए दिख रहे हैं। इसको दिखाकर ही गुरुवार को लिखित में शिकायत की गई है।

भोपाल। प्रदेश में किसानों को खेती में ही वैकल्पिक आय के लिए मध्यप्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) ने पॉली हॉउस (Polly House) की स्कीम लॉच की थी। यह स्कीम तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Former CM Shivraj Singh Chouhan) के कार्यकाल में शुरू हुई थी। अब इस स्कीम में भ्रष्टाचार (Polly House Corruption) होने की शिकायतें सामने आ रही है। ताजा मामला मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (#Bhopal) में कलेक्टर तरूण पिथोड़े के पास पहुंचा है। हालांकि इस मामले में आरोप लगाने वाले व्यक्ति के खिलाफ अफसर ने दबाव बनाने का आरोप लगाया है।

जानकारी के अनुसार लिखित शिकायत कलेक्टर तरूण पिथोड़े (DM Tarun Pithode) के पास पहुंची है। कलेक्टर ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है। शिकायत पंचवटी नगर फेस—2 करोद निवासी नितेश कुमार शर्मा (Nitesh Kumar Sharma) और देवकी नगर निवासी आशीष अग्रवाल (Ashish Agrawal) ने संयुक्त रूप से की है। यह शिकायत मार्कफेड के फील्ड अफसर आरपी मालवीय (RP Malviya) के खिलाफ की गई है। दोनों ने आरोप लगाते हुए बताया कि मालवीय (RP Malviya Bribe Case) ने पॉली हाउस खुलाने के नाम पर उनसे साढ़े 12 लाख रुपए लिए गए। एक लाख काम कराने के लिए और बाकी रकम आवंटन की राशि सरकार के पास जमा कराने के लिए। दोनों ने एक वीडियो भी कलेक्टर तरूण पिथोड़े को दिखाया है। जिसको देखने के बाद कलेक्टर ने जांच का भरोसा दिलाया है। इधर, नितेश के बड़े भाई राजेश शर्मा ने बताया कि इस मामले की पहले उन्होंने मार्कफेड में शिकायत की थी। वहां मालवीय के खिलाफ कई गड़बड़ियों का पता चला है। हालांकि हमारे मामले में पुख्ता सबूत हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Theft Case: दुकानों से हजारों रुपए का माल चोरी

यह भी पढ़ें: करप्ट कांस्टेबल का रिश्वत लेते हुए कबूलनामा, टीआई के कहने पर ले रहे थे घूस

इधर, कलेक्टर के पास हुई शिकायतों के आरोपों पर जवाब देते हुए मालवीय ने कहा कि नितेश और आशीष ने जालसाजी की है। उनके पास कोई जमीन नहीं थी। उन्होंने किसी साई फर्म से महज पांच सौ रुपए के पेपर पर अनुबंध किया था। इस अनुबंध पत्र में मेरे नाम का इस्तेमाल करते हुए जाली हस्ताक्षर किए गए है। इसके अलावा पॉली हाउस उन्हें ही बनाने की अनुमति है जिनके पास स्वयं की जमीन है। नितेश और आशीष के पास ऐसा कुछ नहीं था। यह तमाम गड़बड़ी पता चलने के बाद ही मैंने आवंटन रोकने की जानकारी दी थी। जिसके बाद मुझे धमकाया गया था। उन्होंने वीडियो में पैसा लेते हुए दिखने पर कहा कि वह मेरा पैसा भी हो सकता है। मैं भी इन दोनों के खिलाफ कलेक्टर के पास शिकायत करूंगा।

अपील
द क्राइम इंफो डॉट कॉम विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज द क्राइम इंफो डॉट कॉम के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!