Bhopal Rape Case: ‘कुछ तो है जिस पर पर्दादारी है आखिर यह किसके लिए वफादारी है’

Share

Bhopal Rape Case:  लापता नाबालिग के परिवार से जानिए 10 दिन से चले आ रहे दर्द की दास्तां

Bhopal Rape Case
The display

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Rape Case) से एक नाबालिग को बेचने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इस मामले में महत्वपूर्ण किरदार दो सगी बहनों के हैं। यह तंग बस्ती में ब्यूटी पार्लर (Bhopal Aaina Beauty Parlour News) चला रही थी। यह दोनों बहनें नाबालिग को झांसा देकर बेचने का काम करती थी। खुलासा निशातपुरा  थाना पुलिस ने शुक्रवार रात किया है। हालांकि उसने जो कहानी बताई है वह पीड़ित परिवार से इतर हैं। पीड़ित परिवार जो कि गरीब और अशिक्षित भी है।

उसने लगातार 10 दिनों के अपने संघर्ष की कहानी द क्राइम इंफो को बयां की है। यह संघर्ष उस भाई ने किया है जो उसका लालन—पालन कर रहा था। जिसको सुनने के बाद नहीं लगता कि पुलिस ने मामले में संवदेनशीलता दिखाई है। इस पूरे प्रकरण में ऐसा प्रतीत होता है कि बहुत सारे राज उजागर थे जिसका सामना पुलिस नहीं करना चाहती है।

देवी—देवता के अनुष्ठान में गया था परिवार

Bhopal Rape Case
The display

घटना निशातपुरा थाना क्षेत्र में गरीब बस्ती इलाके की है। थाने में 27 दिसंबर को गुमशुदगी दर्ज की गई थी। उसी दिन पुलिस ने धारा 363 का भी मुकदमा दर्ज किया था। यह सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन नाबालिगों की गुमशुदगी के कारण दर्ज हुई एफआईआर थी। जबकि हकीकत यह है कि नाबालिग 22 दिसंबर की दोपहर दो बजे से गायब होना बताया गया है। पुलिस ने गुमशुदगी देरी से दर्ज होने की वजह का खुलासा नहीं किया है। जबकि पीड़ित परिवार ने बताया कि मां और उसका बड़ा बेटा होशंगाबाद (Hoshangabad) में गए थे। वहां उनके कुलदेवता के अनुष्ठान का कार्यक्रम था। वहां से रात को वापस लौटे तो नाबालिग घर पर नहीं थी। पूछने पर बताया गया कि वह मां और बड़े भाई के जाते ही पांच साल के छोटे भाई को छोड़कर चली गई थी।

यह भी पढ़ें:   जमानत की रकम जुटाने की थी लूट

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस एसीपी की वर्दी वाली तस्वीर की कहानी जिसको भोपाल के लोग आसानी से भूल नहीं पाए

रिपोर्ट दर्ज करने की दी धमकी तो मनाया

Bhopal Rape Case
नीली शटर जिसमें आरोपियों ने खोला था ब्यूटी पार्लर

शिकायत लापता नाबालिग के बड़े भाई ने दर्ज की थी। वह पिता से अलग मां को लेकर अपने छोटे भाई—बहन के साथ रहता है। उसके घर के नजदीक ही किराए के मकान पर आईना ब्यूटी पार्लर खुला था। जहां दो महीने से नाबालिग आना—जाना कर रही थी। इस बात को लेकर भाई ने नाबालिग से आपत्ति भी जताई थी। ब्यूटी पार्लर की संचालिका गांधी नगर निवासी साहिबा (Sahiba) है। जब बहन नहीं मिली तो साहिबा को फोन लगाया। फोन उसकी बहन रुबीना ने उठाया। बताया गया कि उसकी बहन दूसरे ब्यूटी पार्लर गई है। वह कल दोपहर में आ जाएगी।जब यह बातचीत चल रही थी तभी उसकी मां ने रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए बोला। यह बात रुबीना ने सुन ली और वह पीपुल्स मॉल के पास मुलाकात के लिए तैयार हुई। यहां मुलाकात के वक्त भाई को बताया गया कि उसकी बहन बाथरुम के बहाने भाग गई है।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में माफिया को दफनाने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री को राजधानी के इन हालातों पर सवाल अफसरों से जरुर पूछना चाहिए

कहानियां बनाता रहा आरोपी परिवार

Bhopal Rape Case
सांकेतिक चित्र

रुबीना (Rubina) और साहिबा पीड़ित परिवार को बदनामी का भय दिखाकर पुलिस में जाने से रोकती रही। इसी बीच एक वकील पीड़ित परिवार और आरोपियों के बीच आया। उसने थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट (Bhopal Rape Case) दर्ज कराने की सलाह दी। इसके बाद पुलिस को पता चला कि उसकी बहन को बैतूल में ले जाया गया है। इससे पहले आरोपी रुबीना और साहिबा ने एक लड़के के साथ तस्वीर दिखाते हुए मर्जी से शादी करने की बात की। दोनों बहनों ने बताया कि वह घर आने को तैयार नहीं है। बैतूल में स्थानीय पुलिस की मदद से मंगला (Mangala) नाम की महिला के घर दबिश दी गई। वह मिली तो उसने बताया कि लड़की को करीब दो लाख रुपए में महेश राठौर को बेचा गया है। पुलिस ने उसी रात महेश राठौर के कब्जे से नाबालिग को बरामद किया। आरोपी महेश राठौर रतलाम (Ratlam) में खचरोद इलाके में रहता है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: ढ़ाबा मालिक के खिलाफ मामला दर्ज

कमजोर धारा पर जवाब नहीं

Bhopal Rape Case
सांके​तिक चित्र

निशातपुरा थाना पुलिस ने पूर्व में दर्ज 363 के मुकदमे में धारा (Bhopal Rape Case) बढ़ा दी है। यह धारा नाबालिग के बयान दर्ज करने के बाद बढ़ाई गई है। पुलिस ने 366/368/370/3762एन/120बी/3(1)3(2) (शादी के लिए अपहरण, अगवा नाबालिग को छिपाना, शादी के लिए खरीदना, कई बार बलात्कार, साजिश और एट्रो सिटी एक्ट) की धारा लगाई है। इस मामले में आरोपी रुबीना, उसकी बहन साहिबा, महेश राठौर, मंगला और अर्जुन सिंह (Arjun Singh) को बनाया गया है। अर्जुन सिंह लाल घाटी स्थित दाता कॉलोनी का रहने वाला है। पुलिस का दावा है कि अर्जुन सिंह और मंगला फरार है। बाकी तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले में जस्टिस जुवैनाइल की धारा 75 और एक सप्ताह से अधिक बंधक बनाने की धारा 344 नहीं लगाई गई है। मामले की जांच अब अजाक थाने को सौंपी जा रही है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के बाद लॉक डाउन का भोपाल के इस व्यक्ति पर पड़ा असर, लेकिन फायदा कोई दूसरा ले गया

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

नोट: कहानी अभी जारी है…कल पढ़िए शादी में कौन किसका बना था रिश्तेदार

Don`t copy text!