Fake Transport Company : फर्जी ट्रांसपोर्ट कंपनी के चार अन्य आरोपी गिरफ्तार

Share

Fake Transport Company: गेहूं और बारदाना सप्लाई के नाम पर साढ़े पैतालीस लाख रुपए का किया था फर्जीवाड़ा

Fake Transport Company
क्राइम ब्रांच थाना— फाइल फोटो

भोपाल। बारदाना और गेहूं के ट्रॉसपोर्टेशन के नाम पर एडवांस लेकर धोखाधड़ी करने वाले चार आरोपियों को दबोचा गया है। इससे पहले गिरोह से जुड़े पांच अन्य आरोपी पहले से जेल में बंद हैं। यह कार्रवाई भोपाल क्राइम ब्रांच (Fake Transport Company) ने की है। जिसके संबंध में पिछले साल एक गल्ला कारोबारी ने एफआईआर दर्ज कराई थी। पुलिस अब तक करीब 19 लाख रुपए का माल भी बरामद कर चुकी है। आरोपियों ने चार अलग—अलग बैंक खातों में रकम जमा कराई थी। उन्हीं बैंक खातों की मदद से पुलिस ने गिरोह को उजागर किया है।

ऐसे करते थे जालसाज डील

भोपाल पुलिस की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि आरोपी ग्राहक सेवा केन्द्र चलाते थे।आरोपियों ने गेंहू खरीदी के नाम पर 45 लाख 70 हजार रूपये की धोखाधडी की थी। जिसके संबंध में एसएम एक्सपोर्ट कम्पनी (SM Export Company) के संचालकों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। इसी कंपनी ने पीड़ित को 1250 टन गेहूं भेजने के लिए रकम ली थी। इस मामले में प्रकरण 319/21 धारा 420 (जालसाजी का मामला दर्ज) था। मुख्य आरोपी अंशु सिंह और गोपाल सोमवंशी है। जिन्होंने जस्ट डायल से इन्क्वायरी देखकर फर्जी ट्रॉसपोर्ट कंपनी बनाई थी। आरोपी पहले गेहूं बेचने वाले से संपर्क करते थे। वह उनके स्टॉक की जानकारी हासिल करते थे। फिर उसके खरीददार को कॉल करके गेहूं बेचने का ऑफर करते थे। फिर उस जगह भेज देते थे जहां गेहूं स्टाक हैं। इसके बाद आरोपी खरीददार से डील करते थे।

यहां से दबोचे गए चार आरोपी

Fake Transport Company
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

डील होने के बाद खरीददार को बैंक खातों में रकम जमा करने के लिए बोलते थे। यह रकम अन्य आरोपी दीपक कुमार, योगेश कुमार, विवेक विक्रम, प्रवीण कुमार, रसीक खान, आशीष कुमार और आनंद सिंह चौहान निकाल लेते थे। इस काम में अन्य सहयोगी भी है जिनकी भूमिका का पता लगाया जा रहा है। आरोपियों ने इसी रकम से टाटा नेक्सोन कार खरीदी थी जिसे जब्त कर लिया गया है। इस मामले के फरार आऱोपियों को फरुखाबाद और हरदोई में दबिश देकर गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों के कब्जे से सात मोबाइल फोन, 11 सिम कार्ड, 14 एटीएम कार्ड, 08 चेक बुक, 07 पासबुक भी बरामद हुइ है। जांच और धरपकड़ में निरीक्षक सुनील केवट, एसआई देवेन्द्र साहू, एएसआई पी चिन्नाराव, हवलदार नईम खान, सिपाही आशीष मिश्रा, जितेंद्र मेहरा और अजीत राव ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: नकली सैनेटाइजर का कारखाना उजागर

ऐसे बंटा हुआ था आपस में काम

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी प्रवीण कुमार (Praveen Kumar) ग्राह सेवा केंद्र चलाता है। वह रकम निकालने का काम करता था। इसी तरह का काम फरुखाबाद निवासी रासिक खान (Rasik Khan) भी करता था। वह भी ग्राहक सेवा केन्द्र का संचालक है। इसके अलावा हरदोई निवासी आशीष कुमार (Ashish Kumar) खाते खुलवाने और रकम निकालने का काम देखता था। इस काम में उसका सहयोग हरदोई में ही रहने वाला आनंद कुमार सिंह (Anand Kumar Singh) करता था। पुलिस ने बताया कि पूर्व में गिरफ्तार पांच आरोपियों के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड के बाद इन चार व्यक्तियों का सुराग मिला था। इनसे हुई पूछताछ के बाद अन्य संदिग्धों के संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है।

यह भी पढ़िए: दुनिया के ताकतवर बोलने वाले देश के राष्ट्राध्यक्ष यूक्रेनी महिलाओं के साथ हो रही इन घटनाओं पर चुप है, जबकि मानवीय सभ्यता के लिए यह खतरनाक संकेत हैं

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Fake Transport Company
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!