Bhopal Mud Mine: दीपावली में रंग—रोगन करने खोद रहे थे मिट्टी, चार घरों के बुझे दीपक

Share

Bhopal Mud Mine: सात बच्चे खोद रहे थे मिट्टी, चार की दर्दनाक मौत, मुख्यमंत्री ने दी पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायता, जताया दुख

Bhopal Suspicious Death
मशक्कत के बाद बच्चों को निकालते लोग

भोपाल। दीपावली बड़ा त्यौहार है। जहां शहरों में लोग घरों को सजाने महंगे—महंगे रंग लगाते हैं। वहीं गरीब परिवार मिट्टी से घरों को रंगने के बाद खुश हो जाता है। उसी काम के लिए मिट्टी खोदते वक्त एक बड़ा हादसा (Bhopal Mud Mine) हो गया। घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Mud Slurry) की है। इस हादसे में चार मासूम ​बच्चों की दर्दनाक मौत हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायत देने का ऐलान किया है। वहीं प्रोटेम स्पीकर ने पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना जताई है।

निगम और प्रशासन नहीं था तैयार

Sukhi Sewania Hadasa
मिट्टी से निकली मृत बच्ची

घटना को लेकर प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ग्राम बरखेड़ी में यह हादसा सोमवार सुबह साढ़े छह बजे हुआ। यहां ग्राम बरखेड़ी अब्दुल्ला में मिट्टी खोदने गांव के सात नाबालिग बच्चे पहुंचे थे। बच्चे दीपावली के लिए घरों में पुताई के काम आने वाली मिट्टी खोद रहे थे। तभी अचानक मिट्टी नीचे धसक गई और उसमें सात लोग जिंदा समा गए। बाकी बच्चों ने शोर मचाया जिसे सुनकर मदद के लिए लोग पहुंचे। हालांकि निगम और प्रशासन अपनी तरफ से सहायता पहुंचा पाता उससे पहले ग्रामीणों ने अपने प्रयास से बाकी बच्चों को निकाल लिया।

एसडीआरएफ और नगर निगम की टीमे पहुंची

घटना की सूचना मिलते ही एसडीआरएफ और नगर निगम की टीमें घटना स्थल पर पहुंच गई थी। बच्चों को 108 की मदद से हमीदिया अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने कविता पिता श्यामलाल 12 साल, बल्ली बाई पिता प्रभुलाल उम्र 9 साल, आशा बाई पिता कैलाश उम्र 8 साल और मनोज पिता बन्ने सिंह उम्र 7 साल को मृत घोषित कर दिया। वहीं रोहित पिता कैलाश उम्र 7 साल और विकास पिता बारे सिंह का इलाज किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Molestation: शादी के दस साल बाद जहर खाया, दो महीने बाद मुकदमा दर्ज

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस वर्दी वाले अफसर के झांसे में भोपाल के यह लोग आ गए थे, अब तलाश रहे हैं, जानिए क्यों

मुख्यमंत्री ने जताया दुख

मिट्टी से निकली मृत हालत मेंं बच्ची

घटना की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और विधान सभा प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने चारों बच्चों के निधन के समाचार पर दुख जताया है। पीड़ित परिवार को चार लाख रूपए देने की घोषणा की गई है। इस मामले में थाना प्रभारी वीवीएस सेंगर से घटना की जानकारी लेना चाही तो थाना प्रभारी कुछ भी नहीं बता सके। वहीं अयोध्या नगर संभाग सीएसपी सुरेश दामले से संपर्क किया तो उनका सरकारी नंबर बंद आ रहा था। वहीं निजी नंबर पर उन्होंने कोई रिस्पांस नहीं दिया। चारों बच्चों के शव पीएम के लिए भेजा जा चुुके है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!