MP Cyber News: सरकारी योजनाओं में चार जालसाजों ने लगाई सेंध

Share

MP Cyber News: दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों के खाते में आई रकम रातोंरात हुई ट्रांसफर, कैंप लगाकर हासिल करते थे फिंगर प्रिंट

MP l Cyber News
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

ग्वालियर/भोपाल। राज्य सायबर की ग्वालियर यूनिट ने चार जालसाज युवकों को गिरफ्तार किया है। इसमें एक कियोस्क का मालिक है जो गांवों में जाकर कैंप लगाता था। इसी दौरान (MP Cyber News) ग्रामीणों के​ फिंगर प्रिंट हासिल  करके फर्जीवाड़े को अंजाम देता था। आरोपियों के कब्जे से करीब एक हजार ग्रामीणों के फिंगर प्रिंट मिले हैं। इनमें से करीब 28 ग्रामीणों ने खाते से रकम निकलने की शिकायत की थी। यह पूरी कार्रवाई एडीजी योगेश देशमुख (ADG Yogesh Deshmukh) के मार्गदर्शन में एसपी सायबर ग्‍वालियर सुधीर अग्रवाल (SP Sudhir Agrawal)  टीम ने इस पूरे मामले को सुलझाया। गिरफ्तार चार में से दो आरोपी मामा—भांजे हैं।

ऐसे सामने आया गिरोह

पुलिस मुख्यालय की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने दो लैपटॉप, तीन बायोमेट्रिक डिवाईस, चार मोबाईल फोन ओर सिम भी जप्‍त की है। पीड़ित ग्रामीणों के सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया और बैंक ऑफ़ इंडिया में खाते थे। जिनकी करीब पांच लाख रूपये की रकम आरोपियों ने निकाल ली थी। बैंक खातों से आधार इनेविल्‍ड पेमेंट सिस्‍टम (AEPS) का इस्तेमाल कर राशि निकाली थी। यह तकनीक ग्राहक सेवा केंद्र (CSP) से अटैच होती है। कोई बैंक खाता धारक CSP पर जाकर अपने बायोमेट्रिक (थम्‍ब इंप्रेशन) का उपयोग कर बैंक से नगद राशि ले सकता है। फ्रॉड के संबंध में नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन इंडिया(NPCI) और विभिन्‍न संबंधित नोडल अधिकारियों से जानकारी प्राप्‍त हुई। जिसमें यह बात सामने आई कि एक ही ग्राहक सेवा केन्‍द्र का उपयोग इस काम में किया गया।

ऐसे करते थे फर्जीवाड़ा

आरोपियों ने फर्जी सिम का उपयोग कर अशिक्षित साथी को लालच देकर उसके नाम पर कस्‍टमर सर्विस प्‍वाइंट (CSP) रजिस्‍टर कराया। इस CSP से लिंक करने हेतु एयरटेल पेमेंट बैंक का खाता खोला। इसके बाद आरोपियों ने सुनियोजित ढंग से ग्रामीणों के आयुष्‍मान कार्ड, ई-श्रमिक कार्ड बनाने और डिजीटल साक्षर अभियान (दिशा) के नाम पर फिंगर प्रिंट को डिजीटल एप में सेव किए। फिंगर प्रिंट का उपयोग कर ग्रामीणों के खातों में विभिन्‍न योजनाओं एवं अन्‍य जगह से प्राप्‍त होने वाली राशि को निकालकर एयरटेल पेमेंट बैंक के खाते में ट्रांसफर किया। इस खाते से अलग-अलग किओस्‍क सेंटरों के खातों में रकम ट्रांसफर हुई। आरोपियों ने यह तरीका यूट्यूब से सीखा था।

आरोपियों के नाम पहेली बने

MP Cyber News
राज्य सायबर क्राइम मुख्यालय—फाइल फोटो।

इस मामले का पहला आरोपी नगर पालिका डबरा में कैंप लगाकर आयुष्मान कार्ड व श्रमिक कार्ड बनाता है। यह आरोपी नंबर 2 के चिनोर रोड डबरा में स्थित बैंक ऑफ़ बड़ोदा (Bank Of Baroda) का किओस्क सेण्टर से संपर्क में रहता था। आयुष्मान कार्ड व श्रमिक कार्ड बनाने हेतु ग्रामीणों के फिंगर कैप्चर करता था। कस्‍टमर सर्विस प्‍वांइट (CSP) लेने के लिए जिओ की फेक सिम तीसरे आरोपी ने मुहैया कराई। CSP से लिंक करने हेतु इसी नंबर पर आरोपी नंबर 2 ने  अपनी किओस्क आईडी से आरोपी नंबर 4 के नाम से एयरटेल पेमेंट बैंक का खाता खोल दिया। दूसरा आरोपी चिनोर रोड डबरा में बैंक ऑफ़ बड़ोदा का किओस्क सेण्टर चलाता था। आरोपी नंबर तीन भी यही कार्य करता था। बैंक ऑफ़ बड़ोदा का किओस्क होने से इसे AEPS की अच्‍छी जानकारी थी । इसने आरोपी नंबर 4 को लालच देकर उसके नाम पर ऑनलाइन कस्‍टमर सर्विस प्‍वांइट रजिस्टर कर इसी CSP से लिंक करने हेतु एयरटेल पेमेंट बैंक का खाता खोला। तीसरे नंबर का आरोपी अपने मामा आरोपी नंबर 2 के साथ उसके किओस्‍क सेंटर में काम करता था।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: अमरुद और मिर्ची की वजह से कलह

यह भी पढ़िए: दुनिया के ताकतवर बोलने वाले देश के राष्ट्राध्यक्ष यूक्रेनी महिलाओं के साथ हो रही इन घटनाओं पर चुप है, जबकि मानवीय सभ्यता के लिए यह खतरनाक संकेत हैं

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cyber News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!