Bhopal Co-Operative Bank Scam: शैल कंपनियों को ब्याज का लालच मिलने का झांसा देकर बांट दिए 111 करोड़ रुपए

Share

आर्थिक प्रकोष्ठ विंग जल्द करेगी एफआईआर दर्ज, मुंबई की दो फर्म को दो साल बांट दिए थे लोन

MP Fraud Case
भोपाल स्थित आर्थिक प्रकोष्ठ विंग मुख्यालय

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में आर्थिक प्रकोष्ठ विंग (Economic Offense Wing) मुंबई (Mumbai) की दो फर्म समेत भोपाल कॉपरेटिव बैंक (Bhopal Co-Operative Bank Scam) के अफसरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की तैयारी में हैं। मामला बैंक की तरफ से जारी 111 करोड़ रुपए के लोन घोटाले (Co-Operative Bank Loan Scam) से जुड़ा हुआ है। इस मामले में बैंक के अफसरों समेत लोन की रिपोर्ट बनाने वाली चार्टड अकाउंटेंट (Charted Accountant ) की कंपनी को आरोपी बनाया जा सकता है। मध्यप्रदेश में ई—टेंडर (Madhya Pradesh E-tender Scam) के बाद यह दूसरे बड़े घोटाले की एफआईआर होगी।

जानकारी के अनुसार यह घोटाला तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Former CM Shivraj Singh Chouhan) के कार्यकाल का है। लाजिमी है कि इस मामले में आने वक्त में प्रदेश की राजनीति फिर गर्माने वाली है। बैंक ने ज्यादा ब्याज मिलने का झांसा देकर यह लोन बांटा गया था। लेकिन, ब्याज तो दूर बैंक को मूलधन मिलना भी मुश्किल हो गया। रिकवरी (Recovery) नहीं होने पर मामले की जांच की गई। जिसकी रिपोर्ट बनाकर ईओडब्ल्यू (EOW) को भेजी गई। अब ईओडब्ल्यू इसी रिपोर्ट के आधार पर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी में हैं। बैंक ने आईएल एंड एफएस (IL & FS) समूह को यह लोन दिया था। इस समूह दो उपक्रम आईटीएनएल (ITNL) और आईईटीएस (IETS) को यह लोन अक्टूबर, 2017 में दिए गए थे। कंपनियों को रकम साढ़े नौ प्रतिशत ब्याज पर दिया गया था। एक साल बाद हकीकत सामने आई कि कंपनियां दीवाला घोषित होने वाली है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal crime : थाने के सामने डॉक्टर से झपट लिया नकदी से भरा बैग

ईओडब्ल्यू को प्राथमिक जांच में मालूम हुआ है कि कंपनियों को लोन देने के पहले उसकी वित्तीय स्थिति पर रिपोर्ट बनाई गई थी। यह काम मैसर्स अग्रवाल एंड मित्तल, साबू एंड साबू, छाजेड़ कंपनी ने बनाया था। इस काम में सुभाष शर्मा और अनिल भार्गव नाम की दो मुहरें लगी हैं। ईओडब्ल्यू को जांच में पता चला है कि इसमें बैंक बोर्ड के तत्कालीन अफसर आरएस विश्वकर्मा, जीवन सिंह मैथिल, सुनील पुरोहित, प्रताप सिंह गूर्जर समेत अन्य की संदिग्ध भूमिका हैं। ईओडब्ल्यू इनकी भूमिका का पता लगाकर इनके खिलाफ भी कार्रवाई करने की तैयारी में हैं।

Don`t copy text!