कमलनाथ को दिल्ली में रखना चाहता है हाईकमान

Share

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष दोनों पदों से दे सकते है इस्तीफा

Kamalnath
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और कमलनाथ, फाइल फोटो

भोपाल। मध्यप्रदेश की 28 सीटों पर हुए उपचुनाव (MP By Election) के बाद से ही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) की भूमिका को लेकर सवाल उठ रहे है। एक साथ दो भूमिका निभाने वाले कमलनाथ को उनके विधायकों ने ही कटघरे में खड़ा किया। श्योपुर से विधायक बाबू जंडेल (Babu Jandel) के बाद भितरवार से विधायक लाखन सिंह यादव (Lakhan Singh Yadav) ने भी भरी सभा में कमलनाथ को सीधे हाथों लिया है। ऐसे में कहा जा सकता है कि प्रदेश में सत्ता वापसी की उम्मीदों पर पानी फिरने के बाद उनके नेतृत्व पर भरोसा कम हुआ है। लेकिन दिल्ली से आ रही खबरों के मुताबिक कमलनाथ को बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है।

हाल ही में कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेताओं के निधन के बाद ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी में जगह बनी है। कांग्रेस के दोनों ही नेता अहमद पटेल और मोतीलाल कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के सबसे विश्वासपात्र थे। इन नेताओं के निधन के बाद पैदा हुई कमी को कमलनाथ ही भर सकते है। क्यों कि कांग्रेस के अन्य बड़े नेताओं की तुलना में कमलनाथ ही ऐसे है, जिन्होंने सार्वजनिक तौर पर शायद ही कभी शीर्ष नेतृत्व यानि गांधी परिवार के खिलाफ कोई बयान दिया हो। ऐसे में यस मैन कमलनाथ को सोनिया गांधी बड़ी जिम्मेदारी से नवाज सकतीं हैं।

पूर्व मंत्री ने की पुष्टि

कमलनाथ की दिल्ली रवानगी की खबरें महज चर्चाओं में ही नहीं हैं, बल्कि इस पर गंभीरता से विचार भी चल रहा है। कमलनाथ के सबसे करीबी पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने इसकी पुष्टि भी की है। शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में उन्होंने कहा कि शीर्ष नेतृत्व को कमलनाथ की जरूरत है। हाईकमान चाहता है कि कमलनाथ दिल्ली में ही रहे। अगर ऐसा हुआ तो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष दोनों ही पद खाली हो जाएंगे। बता दें कि वर्तमान में भी कमलनाथ दिल्ली में ही हैं। वें शनिवार को भोपाल आ सकते है।

यह भी पढ़ें:   ‘माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की तो सौदेबाजी से सरकार गिरा दी’

अध्यक्ष, उपाध्यक्ष चुनाव से उम्मीद

उपचुनाव में मिली हार के बाद भी कांग्रेस ने उम्मीद नहीं छोड़ी है। यहीं वजह है कि कांग्रेस नेताओं को हमेशा किसी चमत्कार का इंतजार रहता है। अब कांग्रसे ने विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव वोटिंग कराके किए जाने की मांग की है। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का कहना है कि वोटिंग हुई तो कई भाजपा विधायक कांग्रेस के प्रत्याशी को वोट दे देंगे।

यह भी पढ़ेंः जैन मंदिर पर चढ़े एबीवीपी कार्यकर्ता, राहुल गांधी को याद आए राहत इंदौरी

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!