शिवराज सरकार ने किसानों से वापस मांगी सम्मान निधि

Share

कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कसा तंज

Kisan Samman Nidhi
प्रतिकात्मक चित्र

भोपाल। मोदी सरकार के कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ देशभर में चल रहे प्रदर्शन के बीच मध्यप्रदेश से अनोखा ही मामला सामने आया है। यहां सरकार ने किसानों को दी गई सम्मान निधि (Kisan Samman Nidhi) की राशि वापस मांग ली है। इस संबंध में किसानों को नोटिस थमाए जा रहे है। 2018-19 में शुरु हुई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत किसानों को 6 हजार रुपए सालाना दिए जाने का प्रावधान है। इसी योजना के तहत मध्यप्रदेश के किसानों के खातों में भी पैसे डाले गए थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मध्यप्रदेश के 6589 किसानों को योजना के तहत अपात्र पाया गया है। इन सभी किसानों के खातों में सम्मान निधि की राशि डाली जा चुकी है। करीब 8 हजार रुपए प्रति किसान को वितरित किए गए है। खास बात ये है कि इनमें से करीब 5 हजार किसान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर के है। अब इन किसानों को नोटिस जारी कर दिए गए है।

दरअसल योजना के तहत करदाता या 5 हेक्टेयर से ज्यादा भूमि के मालिक किसानों को अपात्र माना जाता है। मध्यप्रदेश में इस योजना के तहत पहले सम्मान निधि की राशि भेजी गई, उसके बाद किसानों से दस्तावेज मांगे गए है। लिहाजा जब किसानों ने दस्तावेज प्रस्तुत किए तो उन्हें अपात्र घोषित कर दिया गया।

8 हजार दिए 10 हजार मांगे

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किसानों से 10 हजार रुपए वसूली के नोटिस जारी किए गए है। लेकिन जिन किसानों को ये नोटिस मिले है, उनमें से ज्यादातर को सम्मान निधि के तौर पर अब तक महज 8 हजार रुपए ही मिले है। ऐसे में 2 हजार ज्यादा का नोटिस मिलने पर किसान परेशान है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: खुदकुशी का पता चलते ही दुल्हन को उसके मां—बाप ले गए

कांग्रेस ने कसा तंज

इस मामले में अब सियासत भी तेज हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा कि- शिवराज सरकर अजब है – ग़ज़ब है ? प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत चुनावों को देखते हुए पहले खाते में किश्त की राशि डाली फिर नोटिस भेजकर सम्मान निधि वापस माँगकर किसान भाइयों का किया जा रहा घोर अपमान ? कुछ को तो जितनी राशि दी नहीं , उससे ज़्यादा वापसी का नोटिस , कुछ को झूठा आयकर दाता , कुछ को अपात्र बताकर राशि वापसी के नोटिस ? किसानो का अपमान करना , दमन करना इनकी आदत बन चुका है।

यह भी पढ़ेंः जैन मंदिर पर चढ़े एबीवीपी कार्यकर्ता, राहुल गांधी को याद आए राहत इंदौरी

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!