होली के रंग में पड़ा भंग, सभी मंत्रियों का इस्तीफा, सिंधिया को मनाने की कोशिश

Share

अब सिंधिया समर्थक मंत्री-विधायक लापता, बेंगलुरु में होने की सूचना

ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ, फाइल फोटो

भोपाल। MP Political Drama मध्यप्रदेश में होली के दिन एक बार फिर सियासी भूचाल आ गया है। इस बार कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की नाराजगी की वजह से राजनीतिक उठापटक हो रही है। सिंधिया समर्थक मंत्रियों समेत कुल 17 विधायक लापता है। बताया जा रहा है कि सभी सिंधिया समर्थक बेंगलुरु पहुंच चुके है। सभी के मोबाइल भी बंद है। दूसरी तरफ दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से रात 9.30 बजे मुलाकात की है। जानकारी के मुताबिक राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भी सिंधिया से मुलाकात की है। जिसके बाद उनके तेवर कुछ ठंडे पड़े है। राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा भी मामले को संभालने की कोशिश कर रहे है। वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि माफियाओं के सहारे सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है। लेकिन वे इस कोशिश को कामयाब नहीं होने देंगे। इसी बीच रात 11 बजे सीएम हाउस में मौजूद तमाम मंत्रियों ने अपना इस्तीफा दे दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सिंधिया समर्थक 5 मंत्रियों को छोड़कर सभी मंत्रियों ने अपना इस्तीफा दिया है। इनमें सिंधिया समर्थक वन मंत्री उमंग सिंघार भी शामिल है।

राज्यसभा सीट और प्रदेश अध्यक्ष पद की लड़ाई

राजनीतिक गलियारों में खबर है कि सारी लड़ाई राज्यसभा की सेफ सीट के लिए है। ज्योतिरादित्य सिंधिया राज्यसभा जाना चाहते है, दूसरी तरफ दिग्विजय सिंह भी राज्यसभा सांसद बने रहना चाहते है। दूसरी लड़ाई पीसीसी चीफ बनाए जाने की है। सिंधिया समर्थक लगातार उन्हें पीसीसी चीफ बनाए जाने की मांग करते आए है। खबर ये भी है कि सिंधिया गुट के मंत्री तुलसी सिलावट को पीसीसी चीफ बनाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:   आबकारी अधिकारी पर ही लगा लोकसभा चुनाव में शराब की बंदरबांट का आरोप

रातोंरात कैबिनेट की बैठक

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रात 10 बजे कैबिनेट की बैठक बुलाई है। बैठक में मुख्य सचिव समेत तमाम अधिकारी मौजूद है। सिंधिया समर्थक मंत्री उमंग सिंघार भोपाल में ही है, वे कैबिनेट की बैठक में शामिल हुए है। साथ ही मंगलवार सुबह 11 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी बुलाई गई है। जानकारी के मुताबिक मंत्री उमंग सिंघार मध्यस्थता का काम कर रहे है। वो सिंधिया और कमलनाथ के बीच सूचनाओं का आदान-प्रदान कर रहे है। दिल्ली में सिंधिया के रुख पर सारी कवायद टिकी हुई है।  सीएम हाउस में चल रही बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी मौजूद है।

दिल्ली में भाजपा की बैठक

दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के आला नेता लगातार बैठके कर रहे है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा लगातार केंद्रीय नेताओं से मिल रहे है। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बंगले पर लंबी बैठकें हुई है। जिसके बाद शिवराज सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात की है।

Don`t copy text!