Bhopal Dowry Case: मियां—बीवी राजी पर देवर—ससुर बने “काजी”

Share

Bhopal Dowry Case: ईएमआई लेते—लेते हुआ था लव, दूसरी जाति बनी मुसीबत

Bhopal Dorwy Case
                              सांकेतिक चित्र

भोपाल। लव मैरिज वह भी अलग—अलग जाति के होते हैं तो उसके साइड इफेक्ट (Bhopal Dowry Case) आने लगते हैं। यहां धर्म ही विपरीत विचारधाराओं के हो तो वह कानून व्यवस्था का सवाल बना देता है। घटना मध्य प्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) से सामने आई है। लोन देने वाली कंपनी में लड़का नौकरी करता था। वह ईएमआई लेने एक घर में जाता था। जहां से उसका प्यार (Bhopal Love Affair Case) परवान चढ़ना शुरु होता है। अंत लड़के के परिवार के षड़यंत्र में समाप्त होता है। पुलिस ने इस मामले में पति समेत अन्य के खिलाफ प्रताड़ना का मामला दर्ज किया है।

धार्मिक मामला बनाने का प्रयास किया

निशातपुरा थाना पुलिस ने बताया कि एफआईआर 7 सितंबर की दोपहर लगभग चार बजे दर्ज की गई। इस मामले में आरोपी पति लोकेश झा, देवर नीलेश झा (Neelesh Jha), ससुर राजेन्द्र झा (Rajendra Jha) को आरोपी बनाया गया। महिला की शादी दो साल पहले हुई थी। यह शादी लोकेश झा (Lokesh Jha) ने परिवार के मर्जी के खिलाफ की थी। इसलिए आर्य समाज मंदिर में उसका पंजीयन कराया गया था। शादी के बाद कुछ दिन परिवार से अलग गांधी नगर में रहने लगे थे। शादी दो विपरीत विचारधारा और धर्म से जुड़ी थी। इसलिए नोटरी रजिस्ट्री से लेकर तमाम दस्तावेजों में इन रिश्तों को लाया गया था।

बेटे के साथ साजिश

परिवार दूसरे धर्म की लड़की घर लेकर आने से बेटे से नाराज (Bhopal Inter cast Marriage) चल रहा था। परिवार नहीं चाहता था कि वह लड़की उस घर में रहे। इसलिए बेटे को कभी नशा मुक्ति केन्द्र भेज दिया गया। वहां से आने के बाद बेटे को महाराष्ट्र (Maharashtra) में रिश्तेदारों के यहां पहुंचा दिया गया। पीड़ित महिला का आरोप है कि यह इसलिए किया गया क्योंकि लड़के माता—पिता उसको दूर रखकर मेरे प्यार को कमजोर करना चाहते थे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Dowry Case: Vodafone Manager बताकर बेरोजगार से करा दी शादी

यह भी पढ़ें: इस निजी अस्पताल के मालिक की बहू ने थाने में दर्ज कराया मुकदमा तो जांच में आया पुलिस को पसीना

राजनीतिक रसूख दिखाया

इस मामले में आरोपी परिवार राजनीतिक दल से संबंद्ध रखता है। उसने पुलिस पर काफी दबाव बनाने का प्रयास भी किया। आरोपी परिवार चाहता था कि मुकदमा (Bhopal Dowry Case) दर्ज न किया जाए। इसके लिए थाना प्रभारी से लेकर तमाम आला अफसरों के पास फोन भी पहुंचे। आरोपी और पीड़ित परिवार को थाने में सुलह की कोशिश भी की गई। लड़की का परिवार बलात्कार तो लड़के का परिवार सांप्रदायिक लिहाज से मामले को ले जाने लगा। यह देखकर पुलिस ने पीड़िता के आवेदन पर प्रताड़ना (Bhopal Domestic Violence) का मुकदमा दर्ज कर लिया।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!