Bhopal Mishap Death: मकान मालिक की लापरवाही से हुई थी मजदूर की मौत

Share

Bhopal Mishap Death: हादसे का शिकार बने मजदूर की मौत के मामले में एफआईआर

Bhopal Mishap Death
सांकेतिक चित्र

भोपाल। (Bhopal) मकान मालिक की लापरवाही से एक मजदूर की मौत (Bhopal Mishap Death)  हो गई थी। वह पुताई करते समय हादसे का शिकार हुआ था। घटना के बाद पुलिस ने मकान मालिक के खिलाफ लापरवाही और अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज (FIR) कर लिया है। आरोपी की गिरफ्तारी होना बाकी है।

इस कारण हुआ हादसा

हनुमानगंज थाना पुलिस (Hanuman Ganj police Station) ने बताया कि पंकज यादव (Pankaj Yadav) पिता शम्भू यादव उम्र 32 साल निवासी तुलसी नगर इलाके का रहने वाला था। पंकज पुताई का काम करता था। छोला रोड़ निवासी महेंद्र जैन ने पंकज और एक अन्य व्यक्ति को तीन मंजिला घर की पुताई का काम दिया था। इसी काम के इंतजाम में मकान मालिक ने लापरवाही बरती थी।

चेली टूटने पर छत से गिरा

पुलिस ने बताया कि पंकज बांस की चेली बनाकर तीसरी मंजिल पर पुताई कर रहा था। अचानक चेली का बांस टूट गया। इस कारण वह पड़ोस की छत पर जाकर गिर गया था। उसके सिर और शरीर के बाकी अंगों में चोट आई थी। उसे हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) में भर्ती कराया था। जहां इलाज के दौरान डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

इसलिए हुआ मुकदमा दर्ज

हनुमानगंज थाना प्रभारी महेंद्र सिंह ठाकुर (Mahendra Singh Thakur) ने बताया पंकज की मौत के बाद आस-पास और परिजनों के बयान के बाद आरोपी महेंद्र के खिलाफ लापरवाही बरतने का मामला बनाया गया है। आरोपी ने मजदूर की जान जोखिम में डालने और उसकी सुरक्षा को लेकर सही इंतजाम नहीं किए है। आरोपी महेंद्र जैन के खिलाफ धारा 288/304ए (सुरक्षा इंतजाम की कमी, गैर इरादतन हत्या) का मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी कि गिरफ्तारी होना बाकी है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Satna Crime News : चार हाथ की जमीन का चार दर्जन अफसर नहीं कर पा रहे निपटारा
Don`t copy text!