Fake Admission Racket: मेडिकल सीट दिलाने वाले इंटरस्टेट गैंग का खुलासा

Share

Fake Admission Racket: पुणे और इंदौर में बैठकर देते थे झांसा, फर्जी वेबसाइट की मदद से चल रहा था खेल

Fake Admission Racket
आरोपियों से बरामद कंप्यूटर, लैपटॉप समेत अन्य सामग्री

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Cyber Crime News) के सायबर क्राइम यूनिट ने आन लाइन ठगी करने वाले एक रैकेट का खुलासा किया है। इसमें एक लड़की भी शामिल है। यह रैकेट फर्जी वेबसाइट की मदद से कॉल सेंटर के रुप में इंदौर से चल रहा था। रैकेट के तार पुणे से जुड़े थे। गिरोह मेडिकल कॉलेज में एडमिशन (Fake Admission Racket) दिलाने के नाम पर पैकेज देने का झांसा देकर लोगों से ठगी की वारदात करता था। आरोपियों ने लोगों को शक न हो इसलिये नीट काउन्सलिंग के नाम पर वेबसाइट बनाई थी।

ऐसे करते थे फर्जीवाड़ा

भोपाल पुलिस के अनुसार आरोपी www.neetcounselling.com. साइट चलाते थे। इस साइट पर सर्फिग करने वाले छात्रों का डाटा गिरोह जुटाता था। आरोपियों ने कई राज्यों के सैकड़ों छात्रों के साथ धोखाधड़ी की गई है। भोपाल पुलिस का दावा है कि गिरोह करीब 1 करोड रूपये से ज्यादा की रकम लोगों से ऐंठ चुके हैं। इस संबंध में शिकायत 08 फरवरी को हुई थी। आरोपियों ने भोपाल के एमपी नगर में मुलाकात की फिर खाते में पैसे जमा कराए थे। जांच में पुलिस को दो खातों की जानकारी मिली थी। आरोपी वेबसाइट पर आने वाले छात्रों को 50000, 25000 और 5000 रुपये की तीन प्रकार की सेवाएं देने के नाम रकम वसूली जाती थी।

यह भी पढ़ें: भोपाल के पूर्व महापौर जिस दल के हैं वह हिंदू समाज को लेकर आगे रहती है, लेकिन मंदिर को लेकर वे कौन सी राजनीति कर रहे

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime News: स्मार्ट सिटी कंपनी के इंजीनियर पर मुकदमा दर्ज

यह हैं आरोपी

वेबसाइट की जानकारी लेने पर पता चला कि वह अरुगुण्डा अरविन्द कुमार उर्फ आनन्द राव (Aruguda [email protected] Rao) नाम का व्यक्ति चलाता है। उसने बकायदा एक कॉल सेंटर भी खोला था। जिसमें उसकी मदद राकेश कुमार पंवार (Rakesh Kumar Panvar) करता था। पुलिस ने फर्जीवाड़े के मामले में एक युवती को भी आरोपी बनाया है। जिसका नाम परिवर्तित बताया गया है। आरोपियों से 15 कम्प्यूटर, 12 लेपटॉप, 27 मोबाईल फोन, 13 एटीएम कार्ड, 01 पासपोर्ट, 02 बैंक चैकबुक व अन्य दस्तावेजों को जप्त किया गया है। युवती एडमीशन के लिये छात्रों से मीटिंग करने का काम करती थी।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!