World Crime: जानिए दुनिया के कुख्यात आतंकियों की कमियां जो उनकी मौत का सामान बनी

Share

आईएसआईएस चीफ अबू अल बक्र बगदादी और ओसामा बिन लादेन के एनकाउंटर से जुड़ी जानकारियां, बगदादी अपने अंडरवियर तो ओसामा बिन लादेन पत्नी के कारण यूं मारा गया

World Crime
अमेरिकी एजेंसियों और सेना की मदद से मारे गए कुख्यात आतंकी अबू अल ​बक्र बगदादी और ओसामा बिन लादेन

दिल्ली। दुनियाभर (World Crime) में अमेरिकी एजेंसियों (American Agencies) की इस वक्त चर्चा हो रही है। दरअसल, उन्होंने आईएसआईएस चीफ अबू अल बक्र बगदादी (ISIS Chief Abu Bakr Al Baghdadi) को मार गिराया। अमेरिकी एजेंसियों ने यह कमाल पहली बार नहीं दिखाया। इससे पहले सुनियोजित तरीके से ओसामा बिन लादेन (Osama Bin Laden) को मारा था। आठ साल के भीतर में उसने यह दूसरी बार ऐसा कारनामा किया। हालांकि इस काम में अमेरिकी एजेंसियों को काफी मशक्कत करना पड़ी। एजेंसियों ने जिस तरह से ओबामा को मारा। उसी तरह से बगदादी को ठिकाने लगा दिया। देश के लिए यह कुख्यात आतंकी जो बिना पहरेदारों के चलते नहीं थे। उन्होंने भारी चूक की थी। इसी चूक का फायदा उठाकर अमेरिकी एजेंसियों ने दोनों कुख्यात आतंकियों के गहरे राज अपने पास सुरक्षित रख लिए थे।

जानकारी के अनुसार जब मई, 2011 में ओसामा बिन लादेन को मारा गया था तब अमेरिकी एजेंसियों को नैगेटिव रिपोर्ट का सामना करना पड़ा था। कहा जा रहा था कि ओसामा बिन लादेन को मारा नहीं गया। उसको अमेरिकी एजेंसियों ने सुरक्षित ठिकाने में रखा है। इसलिए अबू अल बक्र बगदादी के इनकाउंटर पर वह दुनिया के सामने प्रमाण के साथ सामने आना चाहता था। बगदादी सीरिया (Syria) की जिस सुरंग में छुपा था वह काफी सुरक्षित एरिया माना जाता था। उस सुरक्षित एरिया से बगदादी की एक चीज को अमेरिकी जासूस (American Detective) ने चुरा लिया था। जिसकी भनक बगदादी को भी नहीं लगी। इस जासूस ने बगदादी का अंडरवियर (Baghdadi Underwear) चुरा लिया था। इसी अंडरवियर की मदद से अमेरिका की एजेंसियों ने बगदादी का डीएनए मैच किया। जिसके बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने इसका दुनिया के सामने खुलासा किया। इस खुलासे के बाद बगदादी के साले साजेत ने भी मान लिया है कि उसका खात्मा हो गया है।

यह भी पढ़ें:   क्या ईरान से डर गया है ट्रंप प्रशासन? क्यों वापस लिया ईरान पर हमले का फैसला?

ऐसे ही ओसामा भी मारा गया
बगदादी से पहले अमेरिका की एजेंसियों (American Agencies) ने ओसामा बिन लादेन को मारा था। उसकी 9/11 हमले के बाद तलाश थी। वह पहले तालिबान (Taliban) में छुपा था। तालिबान सरकार ने उसको सौंपने से इनकार कर दिया था। इस कारण अमेरिका ने ड्रोन हमले (Drone Attack) करके उसके ठिकाने जमींदोज कर दिए थे। इसके बाद वह पाकिस्तान (Pakistan) के कबाइली क्षेत्र एबटाबाद (Abbtabad) में छुप गया था। बताया जाता है कि उसकी जानकारी अमेरिकी एजेंसियों को पत्नी से किए गए पत्राचार के बाद मिली थी। इसी पत्र की बदौलत अमेरिकी एजेंसियों ने ओसामा बिन लादेन का ठिकाना तलाश लिया था।

स्मारक न बने इसलिए समुद्र में दफनाया
ओसामा बिन लादेन को मारने के बाद के बाद उसे फारस की खाड़ी (Persian Gulf) में दफनाया गया था। इसको अमेरिकी की नेवी सील (American Navy Seal) ने अंजाम दिया था। जहां ओसामा को मारा गया उससे पाकिस्तान के प्रमुख शहर इस्लामाबाद (Islamabad) की दूरी महज 61 किलोमीटर है। उसको मारने के बाद अमेरिकी सरकार ने गहरे समुद्र में दफनाने का निर्णय लिया था। इसी तरह अबू अल बक्र बगदादी को भी दफनाया गया।

बगदादी का वारिस भी मारा गया
डोनाल्ड ट्रंप ने अबू अल बक्र बगदादी के मारे जाने की घोषणा के 48 घंटे बाद दूसरा चौंका देने वाला खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका पूरे आईएसआईएस संगठन को समाप्त कर देगा। इसी क्रम में अमेरिका की एजेंसियों ने बगदादी के वारिस को मार दिया है। हालांकि उसके नाम का खुलासा नहीं किया है। वहीं ट्रंप ने उस खोजी कुत्ते की तस्वीर भी सोशल मीडिया में शेयर की जिसकी मदद से अमेरिकी सेना सुरंग में उस तक पहुंच पाए थे। यह कुत्ता बेल्जियन मलीनोइस प्रजाति का है। यह कुत्ता पूरे अमेरिका में प्रसिद्ध हो गया हैं। इधर, पेंटागन ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान जिसमें कहा था कि बगदादी आखिरी वक्त में चीख रहा था और चिल्ला रहा था उसका खंडन किया है। पेंटागन ने कहा है कि यह जानकारी उनके पास नहीं हैं। राष्ट्रपति को कहा से मालूम पड़ी वे ही बता सकते हैं।

Don`t copy text!