World News : ‘मेरी सबसे प्यारी चीज मुझसे ले ली’

Share

World News : पश्चिम अफ्रीकी देश की पॉप स्टार ने गीत के जरिए अपने साथ हुई हैवानियत को लेकर बने पुराने कानून को बदलने किया मजबूर

World News
सेनेगल की पॉप स्टार लेडी मोनासा।

सेनेगल। मेरी सबसे प्यारी चीज मुझसे ले ली। यह एक गीत के शब्द है जो पश्चिम अफ्रीका में जमकर महिलाएं गा रही हैं। यह वोलोफ भाषा में गाया हुआ गीत है। इस गीत के पीछे बहुत दर्द भरी कहानी थी। जिसको जानने के बाद सरकार को झुकना पड़ा। यह गाना पश्चिम अफ्रीका (World News) के बलात्कार पीड़ितों के लिए बनाया गया था। वहां बलात्कार को पहले सामान्य अपराध की श्रेणी में रखा जाता था। गीत गाने वाली पॉप स्टार की पहल ने कानून को सख्त बना दिया। इस मुहिम को चलाने के पीछे जब मीडिया ने मकसद पूछा तो यह विषय बेहद मार्मिक हो गया। क्योंकि उसी गायक कलाकार के साथ गैंगरेप हुआ था जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों को कई तरह की रियायत दी थी। इस कारण काफी विचार करने के बाद दर्द को दुनिया के सामने लेकर आने का सिंगर ने निर्णय लिया।

देश के लिए आदर्श बनीं

पश्चिमी अफ्रीकी देश की राजधानी सेनेगल हैं। यह तटीय शहर है जहां बंदरगाह भी है। यहां बलात्कार करने पर ज्यादा गंभीर अपराध नहीं माना जाता था। लेकिन पॉप स्टार लेडी मोनासा (Pop Star Lady Monasa) ने महिलाओं के समर्थन में 11 साल बाद अपनी जंग जीत ली। उन्होंने बताया कि उनके साथ 2011 में दो लोगों ने बलात्कार किया था। लेकिन, एक ही आरोपी को गिरफ्तार किया गया। वह भी कुछ दिनों बाद जेल से रिहा हो गया। इस घटना से लेडी मोनासा आहत हो गई। उन्होंने 2018 में इसके खिलाफ मुहिम छेड़ने की योजना बनाई। पॉप स्टार ने बकायदा अपने साथ हुए गैंगरेप को शब्दों में पिरोया। उसको संगीत से जोड़ा और गीत के जरिए जनता के सामने पेश कर दिया। इस गीत ने सबसे ज्यादा प्रभाव महिलाओं पर डाला। इसका नतीजा यह हुआ कि देशभर की महिलाओं का समर्थन मोनासा को मिलने लगा। देखते ही देखते पूरे देश में महिलाओं के हित और अधिकार को लेकर आंदोलन​ छिड़ गया। इसका असर भी देखने मिला। सरकार को बलात्कार को लेकर सख्त कानून बनाने पड़े। अब लेडी मोनासा पूरे देश के लिए आदर्श बन गई है। इस विषय को पॉप स्टार ने बीबीसी से साझा करते हुए घटना बयां की है।

भारत के पड़ोस में भी हालात बदतर

World News
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

सेनेगल की ही तरह बलात्कार को लेकर नेपाल (World News) में भी सख्त कानून नहीं हैं। इस विषय को लेकर मानवाधिकार संगठन विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। नेपाल की संसद में भी बहस चल रही है। दरअसल, नेपाल में बलात्कार का मुकदमा एक साल बाद दर्ज नहीं कराया जा सकता है। यह विषय भी वहां की एक मॉडल ने उठाया है। मॉडल के साथ एक आयोजन में विजेता बनाने के बदले में शारीरिक सुख का प्रस्ताव आयोजक ने दिया था। जिसका खुलासा मॉडल ने मीटू अभियान के दौरान किया था। लेकिन, नेपाली पुलिस का कहना था कि वहां एक साल बाद एफआईआर न करने का कानून है इसलिए वह कुछ नहीं कर सकती है। इसके खिलाफ नेपाल में कई दिनों से प्रदर्शन चल रहे हैं। प्रदर्शनकारी प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा(Sher Bahadur Deuba)  के घर केे बाहर भी प्रदर्शन कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: आधे घंटे के इंटरव्यू में 20 मिनट रोती ही रही बलात्कार पीड़िता
Don`t copy text!