MP News: थ्री इडियट का ‘चमत्कार’ वाला शब्द याद है ना!

Share

MP News: वल्लभ भवन के बाबू ने सेक्स वर्कर जोड़कर कराई सरकार की बुरी तरह से फजीहत

MP News
थ्री इडियट 2009 में प्रदर्शित फिल्म का पोस्टर— साभार

भोपाल। आपको राजकुमार हिरानी की एक फिल्म थ्री इडियट जरुर याद होगी। जिन्होंने फिल्म देखी है उन्हें वह दृश्य याद होगा। लेकिन, जिसने नहीं देखी है उनके लिए पहले बताना चाहते हैं। अभिनेता आमिर खान जो फिल्म में रणछोड़दास छांछड़ है ने कॉलेज के कार्यक्रम के दौरान लिखी जा रही स्पीच में फेरबदल कर दिया था। शब्द चमत्कार था जिसे बदलकर बलात्कार किया गया था। जब वह स्पीच मंच से पढ़ी गई तो फिल्म देखने वाले दर्शक अपना पेट दबा—दबाकर लोट—पोट हो गए थे। कुछ वैसे ही चूक मध्य प्रदेश (MP News) सरकार के मंत्रालय ने कर दी। आदेश कोविड वैक्सीन को लेकर जारी किया गया था। जब फजीहत का अहसास हुआ तो वह बदला गया।

इन्होंने जारी किया था आदेश

सरकारी कार्यालयों में आदेश बनाते बाबू ही है। यह आदेश रविवार को जारी किया गया था। इसलिए कई जगह यह चुटकुले चल पड़े कि बाबू को छुट्टी वाले दिन बुला लिया होगा। इसलिए खीझ में आकर आदेश में यह की चूक गई। आदेश पर हस्ताक्षर एसीएस, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग मोहम्मद सुलेमान (Mohmmed Suleman) के थे। इसमें लिखा गया था कि कोरोना से निपटने उच्च जोखिम समूहों को सूचीबद्ध कर उनका टीकाकरण किया जाना आवश्यक है। इसकेे लिए 100 फीसदी मौके पर ही रजिस्ट्रेशन करने के लिए बोला गया। समूहों में राशन दुकान, गैस सिलेंडर, पेट्रोल पंप स्टाफ, घरेलू काम वाली बाई, किराना दुकान व्यापारी, सब्जी, गल्ला मंडी विक्रेता, मजदूर, मॉल, होटल रेस्टोरेंट समेत कई अन्य समूह बनाने के आदेश दिए थे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Molestation Case: भाई की पत्नी पर जेठ की बुरी नीयत डोली

पूर्व पीएम ने लिखा था यह बोलकर पत्र

MP News
मंत्रालय, मध्यप्रदेश

मोहम्मद सुलेमान के आदेश में बनाए गए समूहों में से एक समूह सेक्स वर्कर का भी था। जिसको भारत के संविधान में अब तक अपराध माना जाता है। हालांकि चोरी—छुपे कई जगह इस तरह का कारोबार किया भी जा रहा है। जिनको कई अशासकीय संगठन उनकी मदद और सहयोग का काम करते हैं। इसी सेक्स वर्कर शब्द को लेकर विभाग की फजीहत होना शुरु हो गई। लोगों को बोलने का मौका मिल गया। हालांकि कुछ ही देर बाद उसी जगह पर सैलून वर्कर लिखकर उसको संशोधित भी किया गया। यह जिस तरह के समूह बनाने का आदेश मोहम्मद सुलेमान ने दिया है। कुछ इसी तरह के सुझाव पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को दिए थे। उन्होंने ही कहा था कि फ्रंट लाइन वर्कर को चिन्हित करके उनका वैक्सीनेशन किया जाए।

Don`t copy text!