Kerala : 5 वीं की बच्ची को सांप ने काटा, अस्पताल ले जाने की बजाए पिता का इंतजार करते रहे शिक्षक, मौत

Share

राहुल गांधी का संसदीय क्षेत्र है वायनाड, मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

सांकेतिक फोटो

वायनाड। केरल (Kerala) के वायनाड (Wayanad) में शिक्षकों की लापरवाही की वजह से एक बच्ची की मौत हो गई। 10 वर्षीय छात्रा को स्कूल में एक सांप ने काट लिया (Snake Bite) था। समय रहते उसे अस्पताल नहीं ले जाया गया, जिसके चलते उसने दम तोड़ दिया। स्कूल प्रबंधन का अमानवीय रवैया सामने आने के बाद कलेक्टर ने कड़े निर्देश जारी किए है। मामले की जांच के लिए समिति गठित की गई है। साथ ही एक शिक्षक को निलंबित भी कर दिया गया है।

 

मामले में सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने संज्ञान लेते हुए घटना पर दुख जाहिर किया। राहुल गांधी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनारई विजयन को पत्र लिखकर मृतक छात्रा के परिजन को मुआवजा देने की मांग की।

घटना वायनाड जिले के सुल्तान बाथरी की है। जहां स्कूल पहुंची पांचवी क्लास की छात्रा शेहला को क्लासरूम में ही एक सांप ने काट लिया। क्लासरूम तक सांप कैसे पहुंचा ये तो जांच के बाद ही पता चल सकेगा। शेहला के साथ पढ़ने वाले छात्रों का कहना है कि शिक्षक उसे समय पर अस्पताल नहीं ले गए। उस वक्त शिक्षकों का कहना था कि शेहला के पिता जब आएंगे तो वे ही उसे अस्पताल ले जाएंगे। शिक्षकों की इस लापरवाही की वजह से शेहला की मौत हो गई। बच्चों का कहना है कि सांप ने शेहला के पैर में काटा था। जिसके बाद उसे एक घंटे तक स्कूल में ही रखा गया। जिसके कारण उसका पैर भी नीला पड़ गया था। बच्चे के एक रिश्तेदार शाहनवाज ने आरोप लगाया कि स्कूल प्रबंधन ने गंभीर लापरवाही की थी। बाद में जिस अस्पताल में शेहला को ले जाया गया वहां भी उसका इलाज नहीं किया गया। इसके बदले उसे कोझिकोड मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया।

यह भी पढ़ें:   Drug Smuggling : विदेशों से आ रहा नशीला पदार्थ, चप्पल के सोल में छिपाई थी 7 लाख की हशीश

मामले में जिला कलेक्टर अदिला अब्दुल्ला ने इस घटना को “सबसे दुर्भाग्यपूर्ण” करार दिया और कहा कि जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। एक शिक्षा विभाग के अधिकारी को बच्चे को चिकित्सा सहायता में देरी के आरोप पर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट को स्कूल पहुंचकर जांच करने को कहा गया है। स्कूल में आए एक उप निदेशक ने गुरुवार सुबह कक्षा का निरीक्षण किया। शिक्षा मंत्री सी रवींद्रनाथ ने मामले पर रिपोर्ट मांगी है। इस बीच, गुस्साए स्थानीय लोगों और रिश्तेदारों ने स्टाफ रूम में घुस गए और वहां मौजूद शिक्षकों पर हमला करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस कर्मियों ने उन्हें बचा लिया।

Don`t copy text!