Nepal Election News: नेपाल में स्थानीय चुनाव के जरिए आम चुनाव में मुश्किल खड़ी करेंगे ओली

Share

Nepal Election News: कुर्सी के लिए विपरीत विचारधारा वाले राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी से मिलाया हाथ, सत्तारुढ़ देउबा सरकार के लिए चुनाव में बागी बिगड़ा रहे गणित

Nepal Election News
नेपाल निर्वाचन आयोग कार्यालय— फाइल फोटो

काठमांडू। नेपाल में एक सप्ताह बाद स्थानीय चुनाव के लिए मतदान होने हैं। यह चुनाव केंद्र में प्रधानमंत्री की कुर्सी के लिए जीतना जरुरी है। दरअसल, इसी साल आम चुनाव (Nepal Election News) भी होना है। इस वक्त नेपाली कांग्रेस समर्थित पांच पार्टियों के गठबंधन वाली सरकार चल रही है। यह सरकार इस वक्त मुश्किलों में घिरी हुई है। मुख्य विपक्षी दल कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल के प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (EX PM KP Oli) का राजनीतिक कद बढ़ते दिख रहा है। इसके लिए उन्होंने पार्टी की विचारधारा से विपरीत कमल थापा (Former Deputy PM Kamal Thapa) की अगुवाई वाली पार्टी राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी और नेपाल परिवार पार्टी एकनाथ ढकाल (Eknath Dhakal) के नेतृत्व से हाथ मिला लिया है।

देउबा के लिए इसलिए मुश्किल

जमीनी स्तर पर नेपाली कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के बीच ठीक से तालमेल नहीं बन पा रहा है। गठबंधन में बड़े पैमाने पर बगावत देखने को मिली है। बहुत से चुनाव क्षेत्र में देउबा गठबंधन के औपचारिक उम्मीदवारों को बागी उम्मीदवारों से मुश्किल पेश आ रही है। चुनावों के लिए मतदान में अब नौ दिन बचे हैं। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि चुनावों में पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की की बढ़त बन गई है। नतीजे जानकारों के मुताबिक हुए तो उसका देश की राजनीति पर गहरा असर होगा। संभव है कि उससे इस साल के अंत में होने वाले आम चुनाव की दिशा तय हो जाए। इसे देखते हुए ही ओली ने गठबंधन को लेकर अपना नजरिया बदला। यूएमएल नेतृत्व वाले गठबंधन का सामना नेपाली कांग्रेस वाले पांच दलों के गठबंधन से है।

निर्दलीय उम्मीदवारों ने बढ़ाई चिंता

Nepal Election News
मोरंग जिले में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए नेपाली कांग्रेस प्रमुख और प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा।

नेपाली कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के बीच तालमेल नहीं बन पाया है। गठबंधन में बड़े पैमाने पर बगावत है। नेपाली कांग्रेस के कई नेता पार्टी नेतृत्व के निर्देश के खिलाफ स्थानीय चुनाव के लिए मैदान में उतर गए हैं। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल को भी कई स्थानीय नेता बागी उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। विरोध इतना है कि नेपाल में सत्ताधारी गठबंधन में शामिल दलों के नेता एक दूसरे के खिलाफ  बयान दे रहे हैं। चुनाव से ठीक पहले बगावत और पार्टियों ने नेताओं को निकालने की घटनाएं हुई हैं। जनता में इनका खराब संदेश गया है। स्थानीय चुनावों के दौरान 753 स्थानीय निकायों के 35,221 पदों के लिए निर्वाचन होगा। नेपाल के निर्वाचन आयोग के मुताबिक इन पदों के लिए डेढ़ लाख से ज्यादा उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें बड़ी संख्या में निर्दलीय उम्मीदवार की हैं।

यह भी पढ़ें:   MP Cabinet Meeting: भाजपा को आदिवासी वोट बैंक की चिंता
Don`t copy text!