कांग्रेस से पायलट की छुट्टी, सभी पदों से हटाया, समर्थकों पर भी गिरी गाज

Share

राजस्थान के कांग्रेस अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री थे सचिन पायलट

Rajasthan Pilot
सचिन पायलट, फाइल फोटो

जयपुर। राजस्थान (Rajasthan Politics) में चल रही सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस पार्टी ने बड़ा फैसला किया है। कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट (Sachin Pilot) को सभी पदों से हटा दिया है। पायलट को कांग्रेस से बर्खास्त कर दिया गया है। भाजपा से मिलकर अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार गिराने की साजिश रचने के चलते पायलट पर गाज गिरी है। वहीं पायलट समर्थक मत्रियों विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा को भी बर्खास्त कर दिया गया है। करीब हफ्तेभर से राजस्थान सरकार को लेकर सियासत तेज है। राजनीतिक जानकारों के मुताबिक कर्नाटक और मध्यप्रदेश की ही तरह राजस्थान सरकार को भी गिराने की साजिश रची गई। सचिन पायलट ने भी ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर चलते हुए गहलोत सरकार गिराना चाहा।

राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री

ताजा राजनीतिक घटनाक्रम के मुताबिक कांग्रेस का दावा है कि उसके पास 104 विधायकों का समर्थन है। राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बताया कि कांग्रेस के पास पूर्ण बहुमत है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधायकों का समर्थक पत्र लेकर राज्यपाल से मिलने गए है। पायलट की छुट्टी से कई सियासी सवाल खड़े हो गए है। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि कांग्रेस ने सोच समझकर ही इतना बड़ा कदम उठाया होगा। कभी राहुल गांधी के करीबी रहे सचिन पायलट को हटाना इतना भी आसान नहीं था।

इतना भी आसान नहीं सरकार गिराना

कांग्रेस के पास 107 विधायक थे। जिनकी संख्या घटकर 104 बताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कांग्रेस के पास अब 100 विधायकों का ही समर्थन है। बहुमत के लिए 101 विधायकों की जरूरत है। वहीं भाजपा के पास महज 72 विधायक ही है। सचिन पायलट के साथ 25 कांग्रेस विधायक भाजपा में शामिल भी हो जाते तो भी सरकार गिराना मुश्किल ही है। बता दें कि राजस्थान में निर्दलीय और बसपा की विधायकों की संख्या ज्यादा है। लिहाजा गहलोत सरकार गिराना इतना भी आसान नहीं है।

यह भी पढ़ें:   Video : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ टीवी एंकर अर्णब गोस्वामी की टिप्पणी पर बवाल

सुनिए क्या कहा सुरजेवाला ने

यह भी पढ़ेंः एक साथ 5 लड़कियों के साथ घिनौना काम करता था प्यारे मियां

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!