Bhopal Rape Case : छठवीं नाबालिग रेप पीड़िता आई सामने, केस प्यारे मियां तक सीमित

Share

Bhopal Rape Case : कोहेफिजा थाने में दो आरोपियों के खिलाफ नई एफआईआर, इंदौर और भोपाल में किया बलात्कार

MP Rape Case
भोपाल के तलैया स्थित प्यारे मियां का घर सोमवार दोपहर जमींदोज किया गया

भोपाल। (Pyare Miyan Minor Girl Sex Abuse) मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के प्यारे मियां का नाबालिग लड़कियों के साथ किया जा रहा यौन दुराचार (Bhopal Rape Case) का एक नया मामला कोहेफिजा थाने में पहुंच गया है। इस मामले में पुलिस ने प्यारे मियां के खिलाफ बलात्कार और पॉक्सो एक्ट के तहत नया मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस अफसरों का दावा है कि यह अभी शुरुआत है। ऐसे ही कई अन्य पीड़ित अभी सामने आने वाले हैं। वहीं एडीजी उपेन्द्र जैन (ADG Upendra Jain) ने प्यारे मियां की गिरफ्तारी पर इनाम की राशि बढ़ा दी है। यह राशि अब 30 हजार रुपए कर दी गई है। सीएसपी शाहजहांनाबाद नागेन्द्र पटैरिया (CSP Nagendra Pateriya) के अनुसार आरोपी उबेस (Ubes) और प्यारे मियां (Pyare Miyan) है। प्यारे मियां ने 16 साल की नाबालिग के साथ विष्णु हाईटेक सिटी और इंदौर में बलात्कार किया था।

मीडिया की खबरें देखकर पहुंची थाने

पुलिस सूत्रों के अनुसार मीडिया में प्यारे मियां की खबरें आने के बाद नाबालिग जिसकी उम्र 16 साल है वह थाने पहुंची थी। उसने बताया कि वह दूर का रिश्तेदार भी लगता है। आरोपी ने उससे कई बार ज्यादती (Bhopal Minor Girl Rape Case) की थी। प्यारे मियां के खिलाफ आरोप है कि उन्होंने 16 साल की नाबालिग के साथ ज्यादती की है। नाबालिग के बयान दर्ज करने के बाद अन्य आरोपियों के संबंध में जल्द खुलासा किया जाएगा।

दूसरी यूनिट को केस सौंपने की अटकलें

शाहपुरा के बाद अब कोहेफिजा थाने में दर्ज ज्यादती के मामले के बाद इस बात की आशंका ज्यादा होने लगी है कि यह प्रकरण जिला पुलिस से लेकर दूसरी यूनिट को दिया जा सकता है। दरअसल, इस प्रकरण में अब भोपाल के बाद इंदौर शहर का नाम जुड़ गया है। जिसको आधार बनाकर सीआईडी जांच को जांच भेजी जा सकती है। जैसा कि सीआईडी के पूर्व के प्रकरणों का अनुभव यह रहा है कि यहां गई जांच कभी भी पूरी नहीं हो सकी है।

नाबालिगों के बलात्कार का मामला, प्यारे मियां पर सीमित हुई जांच

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का प्यारे मियां (Pyare Miyan Sexual Assault Case) का मामला सुर्खियों में आ गया है। यह मामला तब चर्चा में आया जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने प्रकरण को गंभीर मानते हुए कार्रवाई के आदेश दिए। इसके बाद तो मानो पुलिस और प्रशासन का अमला सक्रिय हो गया। ऐसा सक्रिय की सबकुछ प्यारे मियां ने किया हो। जबकि भीतरखाने की खबर है कि इस मामले में कई रसूखदार (Bhopal Rape Case) लोग हैं जिन्हें बचाया जा रहा है। इन सवालों के जवाब जिले के अफसरों से द क्राइम इंफो ने भी पूछे तो अफसर उसको टालते ही रहे। बेहद संगीन यह मामला मानव तस्करी (Bhopal High Profile Human Trafficking) से भी जुड़ा है। जिसमें एक छोटे अखबार के मालिक को मोहरा बनाकर पूरा ठीकरा उसके माथे पर फोड़कर मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:   MP Sport News: पटेल ने प्रदेश को दिलाया कांस्य

यह भी पढ़ें : विष्णु हाईट्स की इसी कॉलोनी में बिल्डर ने भी एक युवती के साथ यह की थी करतूत

केस डायरी दूसरे थाने भेजी

पुलिस ने इस मामले में रातीबड़ थाने में जीरो पर मुकदमा (Bhopal Minor Girl Sexual Case) दर्ज किया था। यह मुकदमा अब शाहपुरा थाने में दर्ज किया गया है। दरअसल, यहां स्थित विष्णु हाईटेक सिटी पर पार्टी (Vishnu High tech City Minor Girl Party) चल रही थी। यह पार्टी प्यारे मियां (Pyare Miyan Birth Day Party) के जन्मदिन के अवसर पर आयोजित की गई थी। इसी पार्टी में पांच नाबालिग लड़कियां भी आई थी। यह सारी लड़कियां पैसों का लालच देकर बुलाई गई थी। इनमें से चार लड़कियों के साथ ज्यादती (Bhopal Four Minor Girl Rape Case) हुई थी। जबकि पांचवी लड़की से प्रयास किया गया था। पुलिस का दावा है कि यह सबकुछ प्यारे मियां (Pyare Miyan Rape Case) ने किया था।

किसको बचा रही पुलिस!

Bhopal Minor Girl Rape Case
ज्यादती के मामले में फरार 10 हजार रुपए का आरोपी प्यारे मियां

पुलिस इस मामले में शुरुआत से दबाव में हैं। खबर है कि इस पार्टी में कई बड़े रसूखदार (Bhopal High Profile Sex Party) लोग शामिल हुए थे। विष्णु हाईटेक सिटी में इस बात के सबूत भी मिले थे। लेकिन, उन सबूतों को एफएसएल की मदद से कागजों में नहीं लिया गया। यहां शराब की गिलास और बोतले भी मिली है। खबर है कि यहां इंदौर के एक बड़े बिल्डर के अलावा भोपाल के कई रसूखदार व्यापारी शामिल हुए थे। इस मामले में मानव तस्करी (Bhopal Minor Girl Human Trafficking) की गंभीर धाराएं अब तक पुलिस नहीं लगा सकी है। जबकि मामला पांच लड़कियों से यौन अत्याचार का है।

यह भी पढ़ें:   प्रवक्ता केके मिश्रा की सिक्योरिटी हटाई, कांग्रेस नेताओं ने शिवराज सरकार को घेरा

यह भी पढ़ें : विकास बनाते अफसर हैं फिर घर मकान गिराने से लेकर बैंक लॉकर खंगालने पहुंच जाते हैं

बिल्डिंग गिराकर सख्ती दिखाई

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (MP CM Shivraj Singh Chouhan) की नाराजगी के बाद जिला प्रशासन की टीम फरार चल रहे प्यारे मियां के तलैया स्थित घर पर पहुंची। उसके अतिक्रमण वाले हिस्से को जेसीबी की मदद से गिराया (Pyre Miyan Ka Bungla Giraya) गया। प्यारे मियां अफकार (Afkar News Paper) नाम से एक अखबार के मालिक भी है। इस कारण उनका अधिमान्यता कार्ड और सरकारी आवास भी जारी हुआ था। यह दोनों रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा प्यारे मियां के दूसरी कमजोरियों को तलाशा जा रहा है। इस एकतरफा सख्ती के सवालों का जवाब देने के लिए कोई भी अफसर सामने नहीं आ रहा है।

तीन थानों के बीच मचा दी खिचड़ी

घटना के बारे में रातीबड़ थाना पुलिस को पहले पता चला था। यहां नाबालिग नशे की हालत में मिली थी। जिसके बाद विष्णु हाईटेक सिटी में हुए यौन शोषण का मामला खुला। नाबालिगों को महिला थाने पहुंचाया गया। वहीं केस डायरी शाहपुरा थाने भेज दी गई। शाहपुरा थाना प्रभारी चंद्रकांत पटेल (TI Chandrakant Patel) का कहना था कि अभी उनके पास केस डायरी नहीं है। वहीं रातीबड़ टीआई का मोबाइल बंद था। सीएसपी टीटी नगर संभाग उमेश तिवारी (CSP Umesh Tiwari) ने कहा पुलिस अधीक्षक स्तर पर प्रतिक्रिया ली जाए। इधर, पुलिस अधीक्षक साई कृष्णा थोटा (SP Sain Krishna Thota) ने कहा कि अभी वे पूछताछ कर रहे है। इसलिए कोई प्रतिक्रिया नहीं दे सकते।

यह भी पढ़ें : बलात्कार पीड़ित एक नाबालिग की खुदकुशी का मामला जिसको लेकर विपक्ष भी खामोश रहा

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!