हमीदिया अस्पताल की बिजली गुल, वेंटिलेटर बंद होने से तीन मरीजों की मौत

Share

कांग्रेस के पूर्व पार्षद अकबर खान का भी निधन

Hamidia Hospital
हमीदिया हॉस्पीटल

भोपाल। (Bhopal) मध्यप्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पतालों में शुमार हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) में गंभीर लापरवाही सामने आई है। यहां बिजली गुल होने से मरीजों की मौत हो गई। 2 घंटे के लिए बिजली बंद हुई तो तीन मरीजों ने दम तोड़ दिया। अस्पताल की बैकअप व्यवस्था भी काम नहीं आई। बिजली बंद होने पर जनरेटर चालू तो हुआ, लेकिन डीजल न होने की वजह से 10 मिनट भी साथ न दे सका। आनन-फानन में व्यवस्था जुटाने की कोशिश की गई। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

पूर्व पार्षद अकबर खान का निधन

Hamidia Hospital
अकबर खान, पूर्व पार्षद

राजधानी भोपाल में दो बार पार्षद चुने गए अकबर खान भी इस घटना के शिकार हो गए। कोरोना पॉजीटिव पाए जाने के बाद वे लंबे समय से हमीदिया अस्पताल में भर्ती थे। उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। उनके भाई महमूद ने मीडिया को बताया कि 67 वर्षीय अकबर खान की रात 10.40 पर मौत हुई। बताया जारहा है कि शाम 5.48 मिनट पर बिजली गई थी जो 7.45 पर लौटी।

सरकार की कार्रवाई

मामले में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बतायाकि हमीदिया के डीन और अधीक्षक को नोटिस दिया गया है। पीडब्ल्यूडी इंजीनियर को निलंबित किया गया है। पावर बैकअप सिस्टम का सर्टिफिकेशन देने वाले इंजीनियर को भी निलंबित किया गया है। वहीं इस गंभीर मामले में कांग्रेस प्रवक्ता भूपेंद्र गुप्ता ने स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी को हटाने की मांग की है।

स्वास्थ्य व्यवस्थाएं बेहाल- कमलनाथ

भोपाल के शासकीय हमीदिया अस्पताल के कोरोना वार्ड की बिजली गुल, पॉवर बेकअप फैल, जनरेटर बंद, डीज़ल नहीं, यह कैसी स्वास्थ्य व्यवस्था ? तीन मरीज़ों की दुखद मौत… बेहद गंभीर लापरवाही, इसके दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो।

सीएम ने बैठाई जांच

मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जांच कराने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट करते हुए बताया कि भोपाल के हमीदिया अस्पताल के कोविड 19 वार्ड में बिजली का गुल होना गंभीर लापरवाही दर्शाता है। मैंने भोपाल संभागायुक्त श्री कवींद्र कियावत को आज शाम तक मामले की जाँच कर इसकी रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें:   हम प्रोफेशनल होंगे तो कोई हमारे सामने पेशेवर कैसे रहेगा : डीजीपी

यह भी पढ़ेंः छत्तीसगढ़ में सियासी उठापटक, सीएम बोले- इस्तीफा दे दूंगा  

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!