Bhopal Suspicious Death: कोरोना की खबरें पढ़ते—पढ़ते बुजुर्ग के साथ हो गया यह हादसा

Share

Bhopal Suspicious Death: कमिश्नर कार्यालय से हुए थे रिटायर, पीएम के बाद शव परिजनों को सौंपा

Bhopal Suspicious Death
File Image

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Suspicious Death) के लगभग सारे समाचार पत्र इन दिनों कोरोना सक्रमण की महामारी से फैली अव्यवस्थाओं से भरे पड़े हैं। ऐसे ही एक समाचार पत्र को पढ़ रहे एक व्यक्ति की पहली मंजिल से गिरकर मौत हो गई। घटना मिसरोद इलाके की है। वहीं अशोका गार्डन इलाके में महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई हैं।

निजी अस्पताल से मिली सूचना

मिसरोद थाना पुलिस के अनुसार नोबल अस्पताल (Nobal Hospital) से गुरूवार सुबह साढ़े सात बजे एक व्यक्ति के मौत होने की खबर मिली थी। एसआई रोहित नागर (SI Rohit Nagar) के अनुसार शव की पहचान रंजीत सिंह पिता नारायण सिंह उम्र 64 साल के रूप में हुई थी। मृतक मूलत: रीवा के रहने वाले थे। वे रोहित नगर फेस—3 में परिवार के साथ रहते थे। वह कमिश्नर आफिस में बाबू की पोस्ट से रिटायर्ड हुए थे। घटना वाले दिन वे पहली मंजिल की गैलरी में बैठकर पेपर पढ़ रहे थे। रंजीत सिंह (Ranjeet Singh) जैसे ही खड़े हुए तो ईटों की कम उंचाई वाली दीवार होने से नीचे आ गिरे। परिजन अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें: जिस मरीज को डॉक्टर भी पीपीई किट पहनकर परीक्षण करते हैं उससे सिरफिरा मनचला आधी रात गंदी हरकत करने पहुंच गया

कांग्रेस दफ्तर में पति करता है नौकरी

Bhopal Suspicious Death
अशोका गार्डन थाना—फाइल फोटो

अशोका गार्डन थाना पुलिस ने बताया कि गुरूवार दोपहर एक बजे जेपी अस्पताल से मौत की खबर मिली थी। एएसआई कमल सिंह (ASI Kamal Singh) के अनुसार शव की पहचान ललिता देशमुख (Lalita Deshmukh) पति सुभाष देशमुख उम्र 42 साल के रूप में हुई थी। ललिता प्रगति नगर की रहने वाली है। पति कांग्रेस आफिस में हैं। मृतका लोक शिक्षा संचालनालय में आउट सोर्स कर्मचारी थी। बड़ा बेटा 22—23 साल का है जो इंजीनियरिंग कर रहा है। ललिता को सांस लेने में दिक्कत आ रही थी। उसे अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां दौराने इलाज उसकी मौत हो गई। परिजन पीएम कराने के लिए राजी नहीं हुए। इसलिए शव अफसरों से सहमति के बाद सौंप दिया गया।

यह भी पढ़ें:   Pyare Miyan Rape Case: परिवार का आरोप महिला थाने की टीआई कुछ दिन पहले गई थी संप्रेक्षण गृह
Don`t copy text!