MP Cop Gossip: ट्रांसफर सूची पर सस्पेंस, कई एसपी की धड़कने बड़ी

Share

MP Cop Gossip: एक दर्जन से अधिक जिलों में दिखेगा इन कारणों से असर

MP Cop Gossip
ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्य प्रदेश पुलिस (MP Cop Gossip) महकमे के भीतर चल रही वह खबरें जो सामने नहीं आई। लेकिन, उनकी चर्चाएं भीतर ही भीतर जमकर चल रही है। हर गुरुवार को आने वाले एमपी कॉप गॉसिप में इस बार चर्चा ट्रांसफर लिस्ट को लेकर है। जिसमें कई जिलों के एसपी की सांसे थम रही हैं। वे अपने स्तर पर ही पता लगा रहे हैं।

कुछ हथियाने तो कुछ हासिल करने जुटे

प्रदेश के कई जिलों के एसपी के जल्द तबादले होने वाले हैं। किनके तबादले होंगेे यह लगभग तय हो चुका है। हालांकि नाम अभी सार्वजनिक नहीं हुए है। इन तबादलों में कुछ रेंज सर्वाधिक निशाने पर है। मतलब आईजी भी यहां—वहां होंगे। कई अफसरों के प्रमोशन होने के बाद कुर्सीखाली होने वाली है। इनमें जमने के लिए अपने—अपने स्तर पर जुगाड़ वाले फार्मूले पर अफसर जुट गए हैं। इसमें से कुछ राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसर भी है। जिनकी कुछ जिलों के एसपी पद पर कुर्सी जमी हुई है। खबर है कि इसका पैमाना बाढ़ और संगठन की रिपोर्ट है। जिसमें कई विधायकों का विरोध भी शामिल है।

रसूख का ऐसे मिलता है फायदा

MP Cop Gossip
ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

पिछले दिनों बागसेवनिया इलाके में महाराणा प्रताप कॉलेज के मालिक नरेन्द्र सिंह भाटी (Narendra Singh Bhati) के बंगले में चोरी हुई। हालांकि रिपोर्ट उन्होंने नहीं बल्कि अकाउंटेंट ने दर्ज कराई। मामले की जांच कर रहे अधिकारी मकान मालिक को किसान बताते रहे। वहीं चोरी गई संपत्ति की कीमतों का खुलासा नहीं किया। इस चोरी को उजागर क्राइम ब्रांच ने किया। जिसमें नरेन्द्र सिंह भाटी का नाम नहीं लिया गया। बरामद माल की कीमत 10 लाख बताई गई। रोचक बात यह थी कि बदमाश लायसेंसी रिवॉल्वर भी ले गए थे। इस बात से जांच अधिकारी बेखबर थे।

यह भी पढ़ें:   MP Political Drama : राजभवन में भाजपा विधायकों की परेड, सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाया

हाईकोर्ट से मिली जमानत

MP Cop Gossip
ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

लोकायुक्त में दर्ज पद के दुरपयोग मामले में भोपाल क्राइम ब्रांच के कर्मचारी को जमानत मिल गई। उनके अलावा तीन अन्य कर्मचारियों को जिला अदालत ने दोषी करार दिया था। जिसके बाद तीन कर्मचारी जेल दाखिल हुए थे। इसमें एआईजी एससीआरबी दीपक ठाकुर भी दोषी करार दिए गए थे। हालांकि वे अदालत में हाजिर नहीं हुए थे। इनमें से किसी भी कर्मचारी को महकमे ने लाइन अटैच या अन्य कोई कार्रवाई नहीं की। जबकि ऐशबाग में जुआ—सट्टा की सिर्फ शिकायत पर नौ कर्मचारियों की थाने से रवानगी कर दी गई थी।

यह पढ़ने के लिए क्लिक करें: शादी के आठ महीने तक पहली रात के सुख को तरसी, विवाहिता को सच पता चला तो पैरों तले जमीन खिसक गई

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cop Gossip
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!