Bhopal Cyber Crime: Red Carpet App बंद होने के बावजूद दे रहे थे झांसा

Share

जालसाज दो आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ओएलएक्स से लोन दिलाने का भी देते थे झांसा

Bhopal Cyber Crime
गिरफ्तार आरोपी सन्नी और अक्षय

भोपाल। मध्यप्रदेश (#Madhya Pradesh Crime) की राजधानी भोपाल (#Bhopal Crime) सायबर क्राइम ने दो शातिर जालसाजों को दबोचा है। यह जालसाज भोपाल में बंद हो चुकी रेड कारपेेट एप्प (#Red Carpet App) से लोन दिलाने का झांसा देकर लोगों को ठग रहे थे। मामले की जांच कर रही सायबर क्राइम (#Bhopal Cyber Crime) को बहुत सारी जानकारियां अभी जुटाना बाकी है। पुलिस का दावा है कि आरोपी नेटबैंकिग सेक्टर (Net Banking Sector) में कई तरह से फर्जीवाड़ा (Net Banking Scam) कर रहे थे। अभी तक एक ही व्यक्ति उनके सामने आया है। लेकिन, आरोपियों के वॉलेट और मोबाइल कॉल डिटेल से बाकी फर्जीवाड़े के खुलासे होने का दावा किया जा रहा है।

यह जानकारी सार्वजनिक करते हुए प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से भोपाल सायबर क्राइम (@Bhopal Cyber Crime) के अफसरों ने बताया कि इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। यह आरोपी भोपाल के न्यू सुभाष नगर निवासी सन्नी ददगाल (Sunny Dadgaal) पिता देवीदास और माता मंदिर के नजदीक पीएचई परिसर निवासी अक्षय सेन (Akshay Sen) पिता रामनारायण सेन है। दोनों की उम्र 24 से 30 साल के बीच हैं। दोनों प्रायवेट नौकरी करते थे। अक्षय ग्रेजुएट है तो सन्नी बारहवीं तक पढ़ा है। इन दोनों को हिरासत में तब लिया गया जब लोन दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी की शिकायत मिलने पर जांच के दौरान इनके नंबर सायबर क्राइम को हासिल हुए। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 6 मोबाइल और 10 सिम भी जब्त की है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: नौकरी छूटी तो फंदे पर झूला

यह भी पढ़ें : भ्रष्ट पुलिस कांस्टेबल की वीडियो में कैद रिश्वत लेते हुए रिकॉर्डिंग हुई वायरल तो मुसीबत में फंसे थाना प्रभारी

इस मामले की शिकायत भोपाल के अशोका गार्डन थाना क्षेत्र में रहने वाले हरप्रीत सिंह (Harprit Singh) ने की थी। उसने बताया था कि ओएलएक्स से लोन दिलाने का झांसा देकर उससे 10 हजार रुपए ठग लिए गए हैं। इसी शिकायत की जांच में सन्नी और अक्षय को दबोचा गया। इन दोनों आरोपियों ने विजय पाल नाम के एक व्यक्ति का नाम इस्तेमाल करके क्रेडिट कार्ड बनाया था। इस कार्ड की मदद से ही मोबाइल पर रेड कारपेट एप्प डाउनलोड किया था। इस एप्प डाउनलोड करने के ही दौरान आरोपियों ने धोखे से ओटीपी हासिल कर लिया। इसके बाद खाते से रकम निकाल ली गई। भोपाल सायबर क्राइम का दावा है कि आरोपी इसी तरह से कई अन्य से ठगी करना कबूल चुके हैं। हालांकि उसका ब्योरा अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है।

Don`t copy text!