Bhopal Suicide Case: खुदकुशी का पता चलते ही दुल्हन को उसके मां—बाप ले गए

Share

Bhopal Suicide Case: सुसाइड नोट नहीं मिलने से मौत को लेकर संशय, दुल्हन के दर्ज होंगे बयान

Bhopal Suicide Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। नई दुल्हन के आने पर घर में खुशियां आती है। लेकिन, एक घर में मातम पसर गया। दरअसल, दूल्हे की लाश उसके परिवार को फंदे (Bhopal Suicide Case) पर लटकी मिली थी। घटना मध्य प्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) की है। पुलिस को सुसाइड नोट नहीं मिला है। इसलिए आत्महत्या की ठोस वजह पता नहीं चली है। पुलिस ने कहा कि दुल्हन के बयान होना अभी बाकी है। उसको परिजन खुदकुशी (Bhopal Hanging Case) का पता चलने पर अपने साथ ले गए। उसकी गुमशुदगी की भी जानकारी पुलिस को मिली है। पुलिस सारे तथ्यों के बारे में पता लगा रही है।

आॅटो चलाता और झगड़ता था

पिपलानी पुलिस ने बताया कि 18 सितंबर की दोपहर लगभग तीन बजे पुलिस को शुभम मीणा (Shubham Meena) पिता रामदयाल उम्र 25 साल के मौत की खबर मिली थी। यह खबर उसके भाई बसंत मीणा (Basant Meena) ने दी थी। वह पुराना शिव नगर झुग्गी बस्ती इलाके में रहता था। शुभम मीणा पेशे से आॅटो चालक था। पिता मिस्त्री का काम करते हैं। दो भाई में शुभम (Shubham Meena Suicide Case) बड़ा था। इसके अलावा एक बहन भी है। पुलिस को जांच में पता चला है कि शुभम मीणा नशा करने का आदी था। इसके अलावा वह लड़ाई झगड़ा भी करता था।

कुछ दिन पहले हुई शादी

मामले की जांच कर रहे अधिकारी एसआई कुलदीप खरे (SI Kuldeep Khare) ने बताया कि शुभम मीणा ने एक लड़की से शादी की हैै। इस बात को ज्यादा समय नहीं बीता है। वह लड़की भी पिपलानी स्थित झुग्गी बस्ती में रहती है। उसके माता—पिता ने पिपलानी थाने में गुमशुदगी भी दर्ज कराई थी। उसके माता—पिता शुभम मीणा के मौत की खबर के बाद उसको अपने साथ ले गए। उसके बयान दर्ज करने के बाद स्थिति साफ हो सकेगी। फिलहाल शव पीएम के लिए हमीदिया अस्पताल भेज दिया गया है। जिसकी रिपोर्ट का पुलिस को इंतजार है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Robbery Attempt: पर्स बचाने के लिए रिटायर डॉक्टर लुटेरे से जूझ गई

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री मंच से दे रहे थे भाषण पर बाहर किसान कोस रहे थे जानिए क्यों

जेल बंदी की मौत

इधर, गांधी नगर थाना पुलिस ने मर्ग कायम किया है। मरने वाला जेल बंदी लक्ष्मी नारायण (Laxminarayan) पिता जवाहर लाल उम्र 60 साल हैं। वह अशोका गार्डन इलाके का रहने वाला है। उसकी तबीयत खराब हुई थी जिसके कारण उसको 31 अगस्त के दिन इलाज के लिए हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान लक्ष्मी नारायण (Bhopal Prisoner Death) की 18 सितंबर की सुबह लगभग 8 बजे मौत हो गई। मौत की सूचना हमीदिया अस्पताल से पुलिस को मिली थी। जेल बंदी की मौत के मामले में मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!