Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-3: खाते की निगरानी की बजाय अफसरों ने आंखे मूंदी

Share

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-3: अब सवाल पूछने पर घोटाले को गोपनीय बात बोलकर बैंक का रीजनल कार्यालय मामले से पल्ला झाड़ रहा

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part 3
भोपाल में बैंक ऑफ महराष्ट्र का आंचलिक कार्यालय भवन- फाइल फोटो

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित बैंक ऑफ महाराष्ट्र से जारी लोन में जमकर बंदरबाट हुई है। इसकी जांच गहराई से ईडी या फिर सीबीआई करे तो कई बड़े चेहरे बेनकाब हो जाएंगे। यह मिलीभगत बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-3) के अफसरों से मिलीभगत करके की जा रही थी। इस बात के पुख्ता सबूत भोपाल के ईओडब्ल्यू थाने में दर्ज तीन करोड़ रूपए के लोन घोटाले की एफआईआर में सामने आ चुका है। इस बात को दबाने के लिए बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अफसर उस परिवार पर दबाव बना रहे हैं जिन्होंने पूरे मामले का भंडाफोड़ किया है। इसके लिए बैंक संपत्ति को कुर्क करने जैसी कार्रवाई करने की धमकी दे रहा है। जिसमें वह न्यायालय में चारों खाने भी चित हो चुका है।

गोपनीय विषय बताकर गोल-मोल दिया जवाब

बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra) की अरेरा काॅलोनी शाखा ने गाजियाबाद निवासी मलिका गर्ग (Malika Garg) , उनके पति अंकुर गर्ग (Ankur Garg) और तत्कालीन बैंक मैनेजर सहज पाठक के खिलाफ जालसाजी और भ्रष्टाचार निवारण के तहत ईओडब्ल्यू ने मुकदमा दर्ज किया था। खबर है कि सहज पाठक (Sahaj Pathak) ने अनिवार्य सेवानिवृत्ति लेकर घोटाले से बचने की कोशिश की। उनके कार्यकाल की समीक्षा की जाए तो कई विवादित लोन सामने आ जाएंगे। लेकिन, बैंक ऑफ महाराष्ट्र ऐसा करने से बच रहा है। इन्हीं विषयों पर सवाल पूछने के लिए द क्राइंम इंफो टीम की तरफ मैदामिल स्थित आंचलिक कार्यालय में संपर्क किया गया था। रिसेप्शन में बैठे सिक्योरिटी गार्ड की मदद से बैंक के अफसर ने पूरे प्रकरण को समझा और दस मिनट का समय मांगा। उन्होंने अपना केवल सरनेम राय बताया था। इसके अलावा वे अपना नाम और पदनाम बताने से इंकार करते रहे। दस मिनट बाद उन्होंने बैंक ऑफ महाराष्ट्र की अरेरा काॅलोनी से जारी किए गए तीन करोड़ और प्रेम चावला के दिए गए पुराने लोन के सेटल होने वाले बयान को गोपनीय विषय बताकर बातचीत से इंकार कर दिया। हालांकि हमारी तरफ से इस संबंध में रीजनल कार्यालय के जोनल मैनेजर संदीप कुमार चौरसिया (Sandeep Kumar Chaurasiya) को आधिकारिक मेल प्रतिक्रिया के लिए भेजा गया है।

यह है पूरा मामला

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part 3
भोपाल स्थित आर्थिक प्रकोष्ठ विंग मुख्यालय

भोपाल ईओडब्ल्यू ने 4 फरवरी, 2022 को जालसाजी और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला (Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-3) दर्ज किया था। आरोपी मलिका गर्ग, उनके पति अंकुर गर्ग और बैंक के तत्कालीन मैनेजर सहज पाठक हैं। जिसकी शिकायत एक साल से चल रही थी। शिकायत ई-2/28 अरेरा काॅलोनी निवासी पारूल अग्रवाल (Parul Agrawal) ने की थी। इस मकान में वे पति रूपेश अग्रवाल (Rupesh Agrawal) के साथ रहती हैं। जिन्हें आरोपी बनाया गया उसमें मलिका गर्ग शिकायत दर्ज कराने वाली पीड़िता की ननद है। पारूल अग्रवाल जहां रहती है उसी मकान को बंधक बनाकर तीन करोड़ रूपए का केश क्रेडिट लोन मलिका गर्ग ने लिया था। इसके लिए अपनी मैसर्स एएम ट्रेडलिंक्स कंपनी (M/S AM Tradelinks Company) के ऑडिट रिपोर्ट के साथ-साथ प्रेम चावला (Prem Chawla) की कंपनी के साथ व्यापारिक संबंध बताकर अगस्त, 2013 में लोन लिया था। जबकि इस मकान के मालिकाना हक को लेकर 2012 से भोपाल जिला अदालत में विवाद था। प्रेम चावला की फर्म गोविंदपुरा इलाके में थिनर, पेंट बनाने का काम करती है। बैंक ऑफ महाराष्ट्र लोन घोटाले की आरोपी मलिका गर्ग के पति के प्रेम चावला बेहद करीबी दोस्त हैं। प्रेम चावला ने भी बैंक ऑफ महाराष्ट्र से अलग-अलग फर्म अतुल ऑर्गेनिक्स प्रायवेट लिमिटेड, आनंद हाईटेक इंफ्रास्ट्रक्चर प्रायवेट लिमिटेड, मैसर्स आलोक केमटेक और मैसर्स हिंदुस्तान रसायन के नाम पर करीब 11 करोड रूपए का लोन लिया था। यह ईओडब्ल्यू की जांच में सामने भी आ चुका है। इसी चार लोन के बाद अंकुर गर्ग को पांचवां लोन तीन करोड़ रूपए दिया गया था। यह रकम देने वाली बैंक ऑफ महाराष्ट्र ही थी। बैंक की कार्यप्रणाली पूरी तरह से संदिग्ध है। जिसका जवाब देने के लिए वह बच रही है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Cyber Crime: दो किस्त में रकम निकाली, एक वापस मिली

ऐसे बांटी जा रही थी रकम

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part 3
भोपाल में अरेरा हिल्स स्थित बैंक आफॅ महाराष्ट्र आंचालिक कार्यालय का भवन- फाइल फोटो

ईओडब्ल्यू की जांच में सामने आ चुका है कि मलिका गर्ग ने जुलाई, 2013 से सितंबर, 2015 के बीच भारी लेन-देन लोन खाते से किया। लोन खाते से उन्होंने अपने निजी खाते में लगभग साढ़े अड़तालीस लाख रूपए की रकम ट्रांसफर की थी। इसके अलावा मलिका गर्ग ने अलग-अलग तारीख को पति अंकुर गर्ग, प्रेम चावला के खातों में रकम ट्रांसफर की थी। इसमें से कुछ रकम बिना कारणों के ट्रांसफर की गई। इस बात की निगरानी बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-3) को करनी थी जो कि नहीं की गई। मलिका गर्ग ने अपने लोन खाते से फर्जी व्यवसायिक कारोबार प्रेम चावला को दिखाए। यह जांच में ईओडब्ल्यू (EOW) ने पाया है। ईओडब्ल्यू मामले को अभी भी जांच में बताकर बच रहा है। वहीं प्रेम चावला का कहना है कि उनके खाते में जो रकम आई उस विषय में उन्हें कोई जवाब नहीं देना है। मतलब साफ है कि बैंक रकम बांट रहा है और लेने वाले कुछ बोलने राजी नहीं हैं। लोन खाते से करीब दो करोड़ रूपए की रकम यहां-वहां की गई। जिसकी निगरानी बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने नहीं की। जिन बैंक अफसरों ने ऐसा करने का साहस भी किया तो उनका तबादला कर दिया गया।

यूक्रेन में महिला हिंसा की वह दास्तां जो दुश्मनी की वजह से रूसी सैनिकों के निशाने पर आईं
खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-3

भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइटहमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   MP PHQ News: डीजीपी सक्‍सेना को ट्राइडेंट ग्रुप ने दस लाख का चैक सौंपा
Don`t copy text!