Bhopal Cyber Crime: निशाने पर थी हॉस्टल संचालिका, फंस गया मेस वाला

Share

Bhopal Cyber Crime: हॉस्टल में दो कमरे लेने के लिए शातिर जालसाजोें ने ग्राहक बनकर किया था फोन

Bhopal Cyber Crime
सांकेतिक फोटो

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की ताजा न्यूज सायबर फ्रॉड (Bhopal Cyber Crime) से जुड़ी है। शहर के सात थानों में 14 इस तरह के मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इसमें से दो मुकदमे टीटी नगर थाना पुलिस ने किए हैं। एक मामले में लोन दिलाने का झांसा देकर पैंसा ऐंठा गया। जबकि दूसरा मामले में जालसाज एक हॉस्टल संचालिका से ठगी करना चाह रहे थे। लेकिन, उसने अपनी जगह अपने यहां मैस चलाने वाले का नंबर दे दिया था। इस कारण आरोपियों ने उसका खाता खाली कर दिया।

दस रुपए देकर फंसता चला गया

टीटी नगर थाना पुलिस ने 31 मई को अलग—अलग समय में जालसाजी के दो केस दर्ज किए हैं। पहले मामले में पीड़ित हर्षवर्धन नगर निवासी रजत जैन (Rajat Jain) है। वह शास्त्री नगर गर्ल्स हॉस्टल में मेस चलाता है। हॉस्टल की संचालिका के पास एक फोन आया था। उसने हॉस्टल में रहने के लिए दो सीट बुक कराने के लिए फोन किया था। यह जानकारी हॉस्टल की संचालिका ने रजत जैन को दी थी। दरअसल, आरोपी ने एडवांस में रकम जमा करने के लिए बोलकर संपर्क किया था। रजत जैन के पास फोनपे था। संचालिका ने उसका नंबर देकर उसमें जमा करने के लिए कहा था। आरोपी ने पहले 10 रुपए भेजे थे। यह रकम क्यूआर कोड के जरिए भेजी गई थी। इसके बाद उसके खाते से 14 हजार रुपए निकाल लिए।

लोन के लिए किया था सर्च

Bhopal Cyber Crime
सांकेतिक चित्र

इसी तरह पंचशील नगर निवासी राधा जाधव पति विनोद जाधव उम्र 30 साल की शिकायत पर केस दर्ज किया है। उसने लोन लेने के लिए आन लाइन सर्च किया था। उसको घर बनाने के लिए दो लाख रुपए की जररुत थी। इस दौरान उसको एक नंबर मिला था। जिस पर राधा जाधव (Radha Jadhav) से संपर्क किया गया। उससे 750 रुपए फाइल चार्ज के लिए पैसा जमा करने के लिए कहा गया। आरोपियों ने शर्त के साथ पूरी जानकारी दी। आरोपी ने यकीन दिलाने के लिए पेन कार्ड, आधार कार्ड भी व्हाट्स एप पर भेजे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: बीएसएनएल से रिटायर्ड एजीएम की पिस्टल चोरी

यह भी पढ़ें: यदि आपने दोस्त बनाने के लिए इस डेटिंग एप्प को डाउनलोड किया है तो उन चेहरों के बारे में जान लीजिए जो आपके लिए मुश्किलें खड़ी करेंगी

इसके बाद दूसरे नंबर से कॉल आया। आरोपी ने कहा कि दोबारा 10 हजार रुपए जमा करना होगा। यह बोलकर उससे रकम जमा करा लिया गया। इसके बाद आरोपी ने न लोन मिलेगा और न वापस करेगा कहकर फोन बंद कर लिया। मामले की जांच सायबर क्राइम ने जांच के बाद थाने को भेज दी है। अब यह जांच एसआई लक्ष्मण राई (SI Laxman Rai) को सौंपी गई है।

Don`t copy text!