MP Suicide Case: लॉक डाउन में बिहार जाने को नहीं मिला तो फंदे पर झूला मजदूर

पुलिस अफसरों का दावा दुर्घटना में साथी क्लीनर की मौत के बाद से चल रहा था परेशान

MP Suicide Case
मृतक इरशाद

मंदसौर। (Mandsour Crime News In Hindi) लॉक डाउन में घर जाने को नहीं मिला तो एक मजदूर फंदे पर झूल गया। घटना मध्य प्रदेश के मंदसौर (Madhya Pradesh Suicide Case) जिले की है। घटना सोमवार सुबह उजागर हुई। इसके बाद प्रदेश में फिर नेताओं में घमासान शुरु हो गया। मजदूर की मौत से पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ समेत कांग्रेस के कई नेता सरकार को घेर रहे हैं। जब यह खबर पुलिस के अफसरों को लगी तो सुसाइड (Mandsour Suicide Case) करने वाले मजदूर की पूरी कुंडली निकलकर बाहर आ गई। मौत (Mandsour Suspicious Death Case)को लेकर कोई ठोस वजह नहीं बताई जा रही है। इसमें कई तरह के तर्क सामने आए हैं।

घटना मंदसौर जिले के मल्हारगढ़ थाना क्षेत्र के चंंगेरी गांव की है। यहां 35 वर्षीय इरशाद पिता मुस्तकीम का शव फंदे पर लटका मिला था। वह क्रेशर मशीन में जेसीबी का ड्राइवर था। वह बिहार के मुजफ्फरपुर जिले का रहने वाला था। क्रेशर मैनेजर नाहर सिंह ने बताया कि उसने कुछ दिन पहले बिहार जाने की इच्छा जताई थी। लेकिन, उसका ई—पास नहीं बन पा रहा था। इस दौरान उसने परिजनों से कई बार फोन पर भी बातचीत की थी। मैनेजर ने कहा कि यहां उसको भोजन—पानी की कमी नहीं थी। इरशाद के दो बच्चे हैं जो गांव में रहते हैं। एसपी मंदसौर सिद्धार्थ चौधरी ने बताया कि पड़ताल में मालूम हुआ है कि दो महीने पहले जेसीबी मशीन की चपेट में आकर क्लीनर मारा गया था। दुर्घटना के बाद इरशाद वहां से बचने के लिए भागा था। इस दौरान वह कुंए में गिर गया था। जिसको बाहर निकाला गया था। वह तभी से परेशान चल रहा था। हालांकि पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। इसमें जो भी सबूत मिलेंगे उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: दूसरी शादी की धमकी देता था पति, पत्नी ने की आत्महत्या

अपील

देश वैश्विक महामारी से गुजर रहा है। हम भी समाज हित में स्पॉट रिपोर्टिंग करने से बच रहे हैं। इसलिए समाज और लोगों से अपील करते हैं कि यदि उनके पास भ्रष्टाचार, कालाबाजारी या जिम्मेदार अफसरों की तरफ से लापरवाही की कोई जानकारी या सूचना हैं तो वह मुहैया कराए। www.thecrimeinfo.com विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज www.thecrimeinfo.com के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!