Attack On Bhopal Cop: भोपाल के पुराने शहर में लगता है पुलिस का खौफ नहीं रहा!

Share

Attack On Bhopal Cop: चार दिन के भीतर दूसरी बार नाइट कर्फ्यू के दौरान पुलिस पार्टी पर हुआ हमला

Attack On Bhopal Cop
कोहेफिजा थाने में जब्त जिप्सी जिसको छोड़कर आरोपी भागे थे

भोपाल। मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य क्षेत्र में बहुत बुरे हाल है। कोरोना पैर पसार रहा है। इसलिए लोगों से अपील की जा रही है कि घरों पर रहे। लोग सुधर नहीं रहे हैं और समझाने में नगर—निगम, पुलिस प्रशासन से सीधे टकरा रहे हैं। ताजा मामला भोपाल (Attack On Bhopal Cop) के कोहेफिजा इलाके से सामने आया है। पुराने भोपाल में चार दिन के भीतर हुई यह दूसरी घटना है। अगर ऐसा ही रवैया लोगों का रहा तो सरकार टोटल लॉक डाउन जैसे सख्त कदम उठा सकती है। इसलिए द क्राइम इंफो गुजारिश करता है कि बिना काम घर से बाहर न निकले। सरकारी तंत्र के अफसर और कर्मचारियों को सहयोग करे।

राजस्थान की जिप्सी जब्त

कोहेफिजा थाना पुलिस के अनुसार खानूगांव स्थित बागो मैरिज गार्डन के पास पुलिस की गश्त चल रही थी। आरक्षक नवीन सूर्यवंशी और दिलीप चौहान (Dilip Chouhan) एफआरवी में तैनात थे। गश्त के दौरान उन्हें एक जिप्सी दिखाई दी। एफआरवी वहां पहुंची और रात में घुमने की वजह पूछी। तभी दो व्यक्तियों ने सिपाही को दबोच लिया। वे उसे बड़े तालाब की तरफ खींचकर ले जाने लगे। यह देखकर कंट्रोल रुम को सूचना दी गई। फोर्स मौके पर पहुंचता उससे पहले आधा दर्जन आरोपी जिप्सी से रायफल जैसा हथियार निकालकर जंगल की तरफ भाग गए। मौके से जिप्सी जब्त की गई है जो राजस्थान के रजिस्ट्रेशन नंबर की है।

यह भी पढ़ें: भोपाल के हनुमानगंज पुलिस की एक चाय वाले और उसके नौकरों ने मिलकर यह हालत कर दी थी

यह भी पढ़ें:   MP Road Mishap: सड़क हादसे में एएसआई की मौत

सीसीटीवी फुटेज से छानबीन शुरु

Attack On Bhopal Cop
कोहेफिजा थाना, जिला भोपाल—फाइल फोटो

कोहेफिजा थाना पुलिस ने नरेन्द्र सूर्यवंशी (Narendra Suryawanshi) की शिकायत पर धारा 186/188/353/294/332/506/34 (सरकारी कर्मचारी को काम करने से रोकना, कलेक्टर के आदेशों की अवहेलना, सरकारी काम में बाधा पहुंचाना, गाली—गलौज, पुलिस से मारपीट, धमकाना के अलावा एक से अधिक आरोपी) का केस दर्ज किया गया है। आरोपियों की पहचान फिलहाल नहीं हो सकी है। जिप्सी राजस्थान नंबर की है। इसलिए संभावित ठिकानों पर पुलिस की पार्टी दबिश दे रही है। एएसपी रामस्नेही मिश्रा (ASP Ramsnehi Mishra) ने बताया कि आरोपियों के भोपाल आने की वजह का भी पता लगाया जा रहा है।

Don`t copy text!