मरीज ने अस्पताल में की आत्महत्या

Share

7 तारीख को कराया गया था भर्ती

सांकेतिक तस्वीर

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में 47 वर्षीय मरीज ने एक अस्पताल में कथित तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। यह जानकारी पुलिस ने गुरुवार को दी। मुंगेली जिले के पुलिस अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि जिले के लोरमी कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अनिल जायसवाल एक स्कार्फ से बनाये गए फंदे से लटका मिला।

डायबिटीज़ से परेशान था

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जायसवाल को इस महीने की सात तारीख को मधुमेह और बुखार की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने बताया कि जायसवाल बलौदाबाजार जिले का निवासी था। वह पुआल का व्यापार करता था। व्यापार के कारण वह लोरमी में रूका हुआ था।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस को उसके पास से कोई भी पत्र बरामद नहीं हुआ है। अधिकारियों ने बताया कि अभी तक यह जानकारी नहीं मिली है कि उसने यह कदम क्यों उठाया है। उन्होंने बताया पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है तथा मामले की जांच की जा रही है।

नेगेटिव आयी कोरोना रिपॉर्ट

मुंगेली जिले के मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी महादेव तेंदेवे ने बताया कि जायसवाल की मृत्यु के बाद उसका नमूना कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिए भेजा गया था। उन्होंने बताया कि उसकी जांच रिपोर्ट निगेटिव आयी है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले मई माह से अगस्त माह के मध्य राज्य के अलग अलग क्वारंटीन सेंटर में छह लोगों ने आत्महत्या की है। वहीं पिछले महीने राजधानी रायपुर के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में एक कोरोना वायारस संक्रमित मरीज ने तथा जांजगीर चांपा जिले के कोविड-19 केयर सेंटर में एक अन्य मरीज ने आत्महत्या की थी।

यह भी पढ़ें:   5 साल के बच्चे के सामने महिला डॉक्टर ने की आत्महत्या
Don`t copy text!